Quantcast
Channel: Learn CBSE
Mark channel Not-Safe-For-Work? cancel confirm NSFW Votes: (0 votes)
Are you the publisher? Claim or contact us about this channel.
0

Class 11 Maths NCERT Solutions Chapter 10 Straight Lines

0
0

Get Free NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Questions. Class 11 Maths NCERT Solutions are extremely helpful while doing homework. Class 11 Maths Extra Questions and NCERT Solutions were prepared by Experienced LearnCBSE.in Teachers. Detailed answers of all the questions in Chapter 10 Maths Straight Lines Class 11 Extra Questions Provided in NCERT Textbook.

You can also save the NCERT Solutions Class 11 Maths Straight Lines images and take the print out to keep it handy for your exam preparation.

Topics and Sub Topics in Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines:

Section NameTopic Name
10Straight Lines
10.1Introduction
10.2Slope of Line
10.3Various Forms of the Equation of Line
10.4General Equation of Line
10.5Distance of a Point From a Line

NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Exercise

NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Ex
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Ex

NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Questions are part of NCERT Solutions for Class 11 Maths. Here we have given Class 11 Maths NCERT Solutions Straight Lines Ch 10 Miscellaneous Questions with Solutions.

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-1
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-1
Ans.
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-2
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-3

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-2
NCERT Solution for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-4
Ans.
NCERT Solution for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-5

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-3
NCERT Solution for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-6
Ans.
NCERT Solutions Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-7

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-4
NCERT Solutions Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-8
Ans.
NCERT Solutions Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-9

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-5
Class 11 Maths NCERT Solutions Chapter 10 Straight Lines-10
Ans.
Class 11 Maths NCERT Solutions Chapter 10 Straight Lines-11
Class 11 Maths NCERT Solutions Chapter 10 Straight Lines-12

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-6
Maths NCERT Soutions Class 11 Chapter 10 Straight Lines-13
Ans.
Maths NCERT Soutions Class 11 Chapter 10 Straight Lines-14

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-7
Maths NCERT Soutions Class 11 Chapter 10 Straight Lines-15
Ans.
Maths NCERT Soutions Class 11 Chapter 10 Straight Lines-16

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-8
Maths Class 11 NCERT Soutions Chapter 10 Straight Lines-17
Ans.
NCERT Class 11 Maths Solutions Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-18

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-9
NCERT Class 11 Maths Solutions Chapter 10 Straight Lines-19
Ans.
NCERT Class 11 Maths Solutions Chapter 10 Straight Lines-20

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-10
Class 11 Maths NCERT Solutions Chapter 10 Straight Lines-21
Ans.
Class 11 Maths NCERT Solutions Chapter 10 Straight Lines-22
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-23

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-11
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-24
Ans.
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-25
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-26
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-27

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-12
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-28
Ans.
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-29

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-13
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-30
Ans.
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-31
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-32

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-14
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-33
Ans.
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-34

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-15
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-35
Ans.
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-36
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-37

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-16
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-38
Ans.
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-39
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-40

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-17
Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-41
Ans.
Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-42

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-18
Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-43
Ans.
NCERT Solution for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-44
NCERT Solution for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-45

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-19
NCERT Solutionsfor Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-46
Ans.
NCERT Solutionsfor Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-47
NCERT Solution for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-48

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-20
Straight Lines Maths Class 11 NCERT Solutions 49
Ans.
Straight Lines Maths Class 11 NCERT Solutions

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-21
Straight Lines Class 11 Maths NCERT Solutions 51
Ans.
Straight Lines Class 11 Maths NCERT Solutions 52
Straight Lines Class 11 Maths NCERT Solutions 53

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-22
Maths Class 11 NCERT Solutions Straight Lines-54
Ans.
Maths NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines-55
Straight Lines Class 11 Maths NCERT Solutions-56

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-23
Straight Lines Class 11 Maths NCERT Solutions-57
Ans.
Straight Lines Class 11 Maths NCERT Solutions-58
Straight Lines Class 11 Maths NCERT Solutions-59

Miscellaneous Exercise Class 11 Maths Question-24
Straight Lines Class 11 Maths NCERT Solutions-60
Ans.
Straight Lines Class 11 Maths NCERT Solutions-61
Straight Lines Class 11 Maths NCERT Solutions-62

NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines (सरल रेखाएँ) Hindi Medium Miscellaneous Exercise

NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines (सरल रेखाएँ)
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Exercise
11 Maths Miscellaneous Exercise
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Exercise Hindi Medium
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Exercise in Hindi Medium
11 Maths Miscellaneous Exercise in Hindi
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Exercise in pdf form free download
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Exercise in english medium
11 Maths Miscellaneous Exercise Pdf in Hindi Medium
11 Maths Miscellaneous Exercise in hindi medium
11 Maths Miscellaneous Exercise free
11 Maths Miscellaneous Exercise in hindi medium
11 Maths Miscellaneous Exercise for gujrat board
11 Maths Miscellaneous Exercise free download all answers
11 Maths Miscellaneous Exercise free guide for up, gujrat, mp board cbse
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Exercise
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Exercise in pdf free download
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Exercise in english medium
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Exercise updated for up, mp, gujrat and cbse board
11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise
11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise in hindi medium
11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise for gujrat board
11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise free download all answers
11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise free guide
Class 11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise
Class 11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise in hindi medium
Class 11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise free
Class 11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise in pdf form free
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise download in english medium
NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Miscellaneous Exercise for mp board

We hope the NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Questions, help you. If you have any query regarding NCERT Solutions for Class 11 Maths Chapter 10 Straight Lines Miscellaneous Questions, drop a comment below and we will get back to you at the earliest.

The post Class 11 Maths NCERT Solutions Chapter 10 Straight Lines appeared first on Learn CBSE.

Call of Duty Mobile launching on October 1: PUBG MOBILE rival to feature new game modes

0
0

Call of Duty Mobile vs PUBG MOBILE: Two splendid battle royale games but is the Chicken Dinner stale now?

Activision’s popular battle title Call of Duty is now on both the mobile platforms – Android and iOS. Published by Tencent, it sits in the same space as PUBG MOBILE with a dedicated battle royale mode. So, is this the new game of the year and does it make the Chicken Dinner stale?

HIGHLIGHTS

  • Call of Duty Mobile offers regular mission based game modes and battle royale mode.
  • Both PUBG MOBILE and Call of Duty Mobile have great console-quality graphics.
  • Both PUBG MOBILE and Call of Duty Mobile have an impressively detailed roster of ammunition

Since PUBG stepped into the mobile gaming arena, mobile games haven’t been the same since then. New titles keep coming out every few weeks with graphics and gameplay that can challenge proper console games any given day. However, the battle royale formula is superhit and every PC gaming franchise wants to be a part of this – there are talks that EA could bring Apex Legends to smartphones soon. Activision, who’s responsible for the worldwide-hit franchise Call of Duty (COD), has worked with Tencent to bring it to the mobile platform and it’s already available in beta now.

Simply titled Call of Duty Mobile, it aims to bring the familiar COD gameplay to the mobile for fans of the franchise. In addition, to tackle the competition, it also brings in the viral battle royale mode that challenges you to win as the last man standing. Sounds familiar? On paper, the concept sounds very similar to PUBG MOBILE’s gameplay. And when I tried it in person, it did feel very much like PUBG in a lot of ways. And that makes it interesting – a proper PUBG MOBILE rival is finally here after a long time.

So after playing it for a couple of hours, here’s how I feel it compares to PUBG MOBILE.

Gameplay: Classic Call of Duty experience with a PUBG twist

PUBG has immortalized the battle royale genre in the world of mobile games. Ever since PUBG MOBILE, the idea of fighting it out with up to 100 real-life players in a desolated map sprinkled with weapons has appealed to a larger crowd and pulled in more people in the world of games. Call of Duty carries that idea forward with its own twist to make it slightly different from what we are used to in PUBG MOBILE.

The pace of the game in PUBG MOBILE seems fast

The pace of the game in PUBG MOBILE seems fast, even in the Classic mode matches. In comparison, Call of Duty multiplayer mode matches have a more relaxed pace. I often found spending more time looking at the environment during the gameplay – something that I have always struggled to do in a PUBG match. Of course, you have to keep in mind that PUBG is themed around hardcore battle royale-style survival while Call of Duty Mobile has a more mission-based approach to its gameplay (excluding the Battle Royale mode). The missions require you to work on the strategies and focus more on ammunition management. This is classic Call of Duty gameplay.

In the Battle Royale mode, there’s not really much difference between Call of Duty and PUBG. Both the games have the same concept – you need to jump in a big map, collect weapons, protect your team members, move around using vehicles, kill enemies using smart strategies and be the last man (or team) standing to win the match. However, in PUBG MOBILE, a player is just part of a team and has no superiority over others, apart from the playing skills. Call of Duty goes for a different approach by offering each player to play a role with a special weapon or be a medic to look after your team.

What I love about Call of Duty is its approach to make new players more comfortable. For example, the game offers you an option to either let you fire the weapon on your own or let the game fire for you once you aim. For new players like me, it was a great way to increase the involvement in a match and have a better chance in playing with the professionals. PUBG MOBILE has always gone for a more rough approach by not offering any training or tips on how to play.

Graphics: Great graphics aren’t just restricted to PC anymore

PUBG MOBILE has led the mobile gaming industry in terms of graphics quality for a while until Gameloft dropped Asphalt 9: Legends. That said, the game still looks good on high graphics and each update has been improving the visual effects – the latest one added rain to two maps.

Call of Duty Mobile in comparison has noticeably better graphics. If you were impressed with the details in PUBG MOBILE, then Call of Duty Mobile will simply blow you away. The detailing on the character’s dresses are impeccable – all the pockets on the dress, the weapons, the stitching and the colour patterns – this is on par with what you get in PC games now.

The detailing also extends beyond the characters. The lighting effects are impeccable and the reflections on puddles surely look close to what you see in the console games. The textures are quite detailed for a mobile game and map design is very clever.

Weapons: Both are equally good

Both PUBG MOBILE and Call of Duty Mobile have an impressively detailed roster of ammunition with extreme attention to details. Players need to learn about weapons and how they work in order to have a better shot at killing enemies. Call of Duty has a slightly serious approach to the weapon design and modification whereas PUBG goes for a slightly more fun approach.

Early impressions: Does the Chicken Dinner still hold its relevance over “the Duty”?

Not very much. Since Call of Duty Mobile dropped in, I have mostly noticed many PUBG players spending more time on the new game instead of logging hours in PUBG MOBILE. However, a major reason for that is that Call of Duty is new and will draw people’s fancy for the first few days. In comparison, PUBG MOBILE hasn’t changed much, even with the new Zombie modes.

However, Call of Duty Mobile has a better chance at scooping out a lot of PUBG followers in its favour. Those who have been yearning for a more serious military-based gameplay will find Call of Duty Mobile appealing. The graphics is also good and the game offers a lot many modes to get hooked to it. The gameplay is slightly relaxed but holds the classic Call of Duty vibe, which in itself will help its cause. And this is a great thing considering the game is still in the beta stage.

If you have registered for the closed beta, go ahead and download it. When this comes out, PUBG MOBILE will have serious competition and it would be interesting to see whether gamers embrace Call of Duty like PUBG or ignore it like Fortnite.

Call of Duty Mobile launching on October 1: PUBG MOBILE rival to feature new game modes

Call of Duty Mobile is releasing on Android and iOS on October 1. The game will feature all popular Call of Duty playing modes from the PC versions.

PUBG MOBILE Call of Duty Mobile launching on October 1

HIGHLIGHTS

  • Call of Duty Mobile launching on October 1 across the globe.
  • The game will be available on both Android and iOS platforms.
  • Call of Duty Mobile will have many gameplay modes from the PC versions.

Earlier this year, Tencent Games released another online shooter title called Call of Duty Mobile for Android devices. The game was released in a closed beta for selected participants and it brought all the popular Call of Duty game modes from the PC versions in the past. We tried it out during the closed beta and it came close to displacing PUBG Mobile as the ultimate mobile shooter game you can play. However, once the beta was pulled off, many have been left wondering when the stable version will hit the servers. Well now, we have an answer.

The official page for Call of Duty Mobile has announced that the stable version of the game will be live from October 1. And the game will be available for both Android and iOS platform this time. The game is developed by Tencent’s Timi Studio and similar to the beta, it will be free-to-play for everyone.

For those in the unknown, the Call of Duty series is one of the most popular battle games from Activision. The mobile version aims to bring similar gameplay style to players around the globe along with all the classic Call of Duty gameplay modes and maps.

“We are delivering the definitive, first-person action experience on mobile with signature Call of Duty gameplay in the palms of your hands,” said Chris Plummer, VP, Mobile at Activision. “We are bringing together some of the best the franchise has to offer, including Modern Warfare maps like Crash and Crossfire, Black Ops maps like Nuketown and Hijacked, and many more, into one epic title.

The battle royale mode will be similar to the Classic mode matches in PUBG MOBILE, allowing 100 players at a time to battle it out in an open map. Similar to PUBG Mobile, Call of Duty Mobile can let you play in various modes like solo, duo and quad-player competitions. The maps will include battles across land, sea and air, with players able to rely on vehicles such as an ATV, helicopter and raft. Players can even choose first or third-person modes. And in typical Call of Duty style, the players can choose between any one of the six classes.

The Call of Duty Mobile will be a change for those players who have been playing PUBG MOBILE for long. In our short time with the beta, we found that Call of Duty Mobile fared better in many ways than PUBG MOBILE, especially with regards to gameplay style, graphics and more. In fact, PUBG MOBILE lifted off the PVP mode from COD Mobile’s Team Deathmatch mode.

Articles on PUBG Mobile

Call of Duty Mobile: Here’s how you can download it on your Android and iOS smartphone

Call of Duty Mobile

Activision’s Call of Duty Mobile is out now on Android and iOS in a closed beta. Closed beta restricts the distribution of the game but there is a way to install and play it on your phone right now.

HIGHLIGHTS

  • Call of Duty Mobile is now available in beta for Android and iOS users.
  • The game offers classic Call of Duty gameplay modes from the PC version and a new Battle Royale Mode.
  • Call of Duty Mobile will be a direct competitor to PUBG MOBILE.

For a long time, PUBG MOBILE has been sitting as the dominant game in the mobile world, increasingly gathering more popularity as the days pass by. Many other games have tried to steal PUBG of its limelight but the popular battle royale online fighter has maintained itself at the top of the charts. However, that hasn’t stopped other studios from trying and Activision is the latest one with its renowned Call of Duty series for Android and iOS.

Call of Duty Mobile is the latest title under Tencent’s umbrella and has been introduced as a new game that offers the thrills of the PC versions of the game while also dipping its foot in the viral battle royale mode. I even played it for a while and it seems like a breath of fresh air after being into PUBG for so long. The graphics are great and the gameplay does offer a variety of options. While it’s too early to say, it seems that Call of Duty Mobile could be the next big thing in the world of mobile games.

If you have been tempted to try it out, the game is available to the world in a closed beta form. However, Activision has been taking the registration for the game for almost a month now and those who were the early ones now have a chance to download it and try out the beta. If you didn’t register for the beta, here’s how you can do that from your Android and iOS device.

Call of Duty Mobile Guide: Everything you need to know about its class system

Call of Duty Mobile Guide

Call of Duty Mobile offers the class system from its PC counterpart to players. If you haven’t played Call of Duty before, here’s a brief guide to the class system and how you can take advantage of it.

HIGHLIGHTS

  • Call of Duty Mobile offers anew class-based system while playing as a team.
  • Those who play as clowns get a very special power – summon zombies.
  • As a Medic, the player is essentially the one responsible for looking after the team members.

It has been a few weeks since Call of Duty rolled out for the mobile platforms. And at the very least, the game competes with PUBG MOBILE in terms of player involvement. In fact, we did a comparison with PUBG MOBILE a few days ago and found that the Activision’s Call of Duty Mobile is ahead of PUBG MOBILE in certain areas, especially gameplay and graphics. However, like PUBG MOBILE, Call of Duty Mobile requires the player to understand some of its features to enjoy the game.

In essence, for you to play Call of Duty Mobile like an ace, you need to have a basic idea about the franchise and how its previous games used to work. And if you are like me who hasn’t played Call of Duty ever, then it must be a struggle to get along with the game, especially with the class system. Unlike PUBG MOBILE, Call of Duty Mobile requires you to choose a class while playing in the multiplayer mode.

If this class system is confusing to you, then here’s a brief explanation that might help you in a massive way as a novice.

Call of Duty Mobile: Class system explained

Scout:

As a scout, the player gets a massive power give you an idea about hostile positions in the vicinity. The player gets to use Sensor Darts that can give you an idea about which areas nearby you run a huge risk. Scouts can also track footprints of enemies nearby with the tracker ability.

Clown:

This is nothing like the name suggests. In fact, as a clown, the player gets a very special power summon zombies. Yes, zombies!

With the toy bomb, a clown can summon zombies to protect him/her from the enemies nearby. Zombies will attack the enemy and giving the player time to escape or run for safety. The clown can also limit enemy zombies in their aggression.

Mechanic:

As the name suggests, a mechanic gets to use all the cool gadgets in the team. As a mechanic, the player can summon an EMP drone that will halt all electrical operations on the enemy team.

Apart from the EMP drone, a mechanic can also get to use the Engineer ability that will help him/her get an augmented view of vehicles, traps set up by enemies and other items.

Medic:

As a Medic, the player is essentially the one responsible for looking after the team members. The Medic gets to heal players nearby. Additionally, the rate at which the Medic can heal himself/herself is faster than other players.

The post Call of Duty Mobile launching on October 1: PUBG MOBILE rival to feature new game modes appeared first on Learn CBSE.

JK Scholarship | Eligibility, Application Procedure, Everything You Need To Know

0
0

JK Scholarship: JK Scholarship also is known as PMSSS is meant for students of Jammu and Kashmir who are willing to get higher education in various fields such as, Engineering and Technology, Nursing, Pharmacy, Hotel Management, and Catering Technology, Architecture, Crafts and Design, Arts, Medical and General education. The scheme is also available for Diploma passed students who want to do graduation in Engineering and Technology as Lateral Entry(2nd year BE/B.Tech).

Prime Minister’s Special Scholarship Scheme (PMSSS), J&K is an elite scholarship opportunity for students who are citizens of Jammu and Kashmir. Begun in the year 2011, the scheme strives at improving employment opportunities for the young scholars of the state by granting them financial support to proceed with studies at an undergraduate level outside J&K. 5000 fresh scholarships every year, for studying in the best academic institutions outside J&K. Administered by the All India Council for Technical Education, the AICTE JK Scholarship is executed within the state by J&K Cell.

Get the details of the eligibility conditions to qualify for this scholarship, how to apply for it, along with the duration of application. Also, know the procedure of the scholarship to be paid to students and selection procedures.  In this article, each important detail about AICTE JK scholarship including the dates, eligibility criteria, application procedure, award details, selection procedure, etc. are given here.

JK Scholarship Important Dates

Before investigating information about the JK Scholarship, you should be knowledgeable of the important dates related to it. The scholarship encourages applications from eligible students every year within a specified time duration. Here, all the significant dates related to the scholarship for the academic session 2019-20 is mentioned.

EventsDates
Online registration starts10th April 2019
The last date of online registration for class 12 passed/ appearing students31st May 2019
The last date of online registration for diploma passed students (lateral entry in engineering stream only)18th June 2019
Online document verification of registered candidates at facilitation centers16th April 2019 to 31st May 2019,
16th April 2019 to 14th May 2019 (for lateral entry students)
Choice filling option for students whose documents have been verified22nd April 2019 to 31st May 2019,
20th April 2019 to 14th May 2019 (for lateral entry students)
Publishing of provisional merit list on the portal11th June 2019,
Up to 10th June 2019 (for lateral entry students)
Document re-verification at facilitation centers11th June 2019 to 13th June 2019
Publishing of final merit list on the portal18th June 2019,
14th June 2019 (for lateral entry students)
The first round of online counseling (provisional seat allotment)To be announced
The second round of online counseling (provisional seat allotment)To be announced

Scholarships for Students

JK Scholarship Eligibility Criteria

To apply for the JK Scholarship, students have to fulfill certain requirements which essentially depend on their domicile, academic qualification, and family income. Know about the eligibility criteria which are necessary to be accomplished for this scholarship here.

  • Students should be State Subject (domicile) of J&K State
  • Students should have Passed 10+2 Exam from JKBOSE or CBSE affiliated schools located in J&K
  • Students should have Passed 10+3 Diploma from J&K State Polytechnic for admission directly in the second year in the prescribed list of Colleges against on the vacant seats of the previous year
  • Overall Family income of the student should not exceed Rs. 8.00 Lakh per annum

If a student is not eligible:

  • The students are persevering their studies within open universities.
  • The students who are already undergoing financial assistance under this plan or any other scholarship scheme.
  • The students getting admission within the management quota.
  • The students who are persevering studies at the postgraduation level.
  • The students who have procured admission to a college other than the designated colleges.
  • The students getting admission within NGOs/Agents.
  • The students who have annual family earnings greater than INR 8 Lakh per annum.

JK Scholarship Application Procedure

Every year, AICTE welcomes online applications from eligible candidates on its official website. If candidates fulfill all the eligibility criteria for JK scholarship, they can apply for it, following the below steps:

  • Visit the AICTE JK Scholarship official website, www.aicte-jk-scholarship-gov.in.
  • Click on the registration button to apply for PMSSS.
  • Fill in all necessary details.
  • Submit the registration form.
  • On successful registration, candidates will receive an SMS/email on a registered mobile number/email for verification.
  • Click on the verification link to perform the registration process.
  • After the successful registration, candidates are required to log in via the AICTE JK Scholarship website.
  • Keep the scanned copies of all the supporting documents in jpg/png format with the file size not more than 2 MB.
  • Once logged in, read the brochure thoroughly, tick the declaration and click on “Proceed Further” button.
  • Fill in all necessary details in the application form such as personal information, address, family income, educational details, etc.
  • Upload all supporting documents as particularized and preview the application form.
  • Provide the details of preferences and grievance centre details.
  • Finally, submit the application form by clicking on “Submit Application”.
  • After successful submission of application online, the candidates are required to get the print out of the application form and visit the facilitation center along with all supporting certificates in original for document verification.
  • Present the photocopies of all the certificates to the facilitation center at the time of verification.
  • Once the document verification is done, the candidates are required to assemble a copy of their document verification report.

Documents Required for JK Scholarship

  • Passport-sized photograph of the candidate (preferred size – 200 X 230 pixels)
  • Scanned signature of the candidate (preferred size – 140 X 60 pixels)
  • SSC/Class 10th mark sheet
  • Domicile/Day Scholar certificate issued by the government of J&K
  • Aadhaar card (if available)
  • Family income certificate issued by the Tehsildar or equivalent
  • Category/Caste certificate issued by the competent authority of state government (if applicable)
  • Certificate of disability (for Persons with Disabilities – PWD)

Note: Aadhar Card is essential for smooth DBT (Direct Benefit Transfer) through Public Financial Management System (PFMS).

JK Scholarship – List of Facilitation Center

The applicant is required to get their uploaded documents verified with the originals at the nearest Facilitation Centres set-up by Government of J&K and once it got verified and uploaded with stamp on portal of Facilitation Centres and then only choice filling window will be activated for only The choice filling window will be blocked on the last date, after that no change will be allowed in order of preference. After document verification from the facilitation center, the candidate should collect a copy of the document verification report without fail.

Facilitation Centers for J&K PMSSS 2019-20 Jammu Division

Find the list of the college name, contact number, and email Id:

  • Government G.M. Science College, Jammu – 01912578189, principalggm@gmail.com
  • Government College for Women Gandhi Nagar, Jammu – 01912435158, principal@gcwgandhinagar.com
  • Government Degree College, Boys (Kathua) – 01922234315
  • Government Degree College, Bani – 01921268025, gdcbani08@gmail.com
  • Government Degree College, Boys Udhampur – 01992270239, 01992270289, principal@gdcudhampur.in
  • Government Degree College, Rajouri – 01962262510, gdcrajouri@gmail.com
  • Government Degree College, Poonch – 01965220231, degreecollegepoonch@gmail.com
  • Government Degree College GDC, Doda – 01996233552, principalgdcdo@yahoo.in
  • Government Degree College, Reasi – 019912455905, principalgdcreasi20@gmail.com
  • Government Degree College, Ramban – 01998266779, principalgdcramban@gmail.com
  • Government Degree College, Banihal – 01998255906, gdc.banihal@yahoo.com
  • Government Degree College, Kishtwar – 01995259513, gdckishtwar@gmail.com
  • Government Degree College, Bhaderwah – 01997244155
  • Government Degree College, Marwah – Principalmarwah@gmail.com
  • Government Degree College, R.S.Pura – 01923252958, gdcrspura@gmail.com
  • Government Degree College, Samba – 01923241044, gdcsamba90@gmail.com
  • Government Degree College, Mendhar – 01965226793, principalgdcmendhar@gmail.com

Facilitation Centers for J&K PMSSS 2019-20 Kashmir Division

Find the list of the college name, contact number, and email Id:

  • Sri Pratap College, Srinagar – 09142476828, 09142476804, spcsgr1905@gmail.com
  • Government Degree College, Anantnag – 01932222308, principal@gdcboysang.ac.in
  • Government College (Women), M.A. Road, Srinagar – 09142478259, gcwmaroad@yahoo.in
  • Government Degree College, Bijbehara – 01932233263, principalbijbehara@gmail.com
  • Government Degree College (Boys), Sopore – 0195422262, soporecollege@gmail.com
  • Government Degree College (Boys), Baramulla – 01952234214, principal@baramullacollege.com
  • Government Degree College, Pattan – 01954231244, gdcpattan@yahoo.com
  • Government Degree College (Boys), Kupwara – 01955252155, kcollege786@gmail.com
  • Government Degree College, Kulgam – 01931260177
  • Government Degree College (SAM), Budgam – 01951256444, principalsamdc5@gmail.com
  • Government Boys College, Pulwama – 01933241250, gdcpulwama@gmail.com
  • Government Degree College, Shopian – 01933260204, spncollege@hotmail.com
  • Government Degree College, Tral – 01933251278, gdctral@rediffmail.com
  • Government Degree College, Bandipora – 01957226033, degreecollegebpr@gmail.com
  • Government Degree College, Dooru – 01932230157, principal.gdcdooru@gmail.com
  • Government Degree College Ganderbal – 01942416854, info@gdcganderbal.org
  • Government Degree College, Chrari sharief – 0195125340, gdc.chrarisharief@gmail.com

JK Scholarship Selection Process

JK Scholarship conducted by AICTE is completely a merit-based scholarship that examines the marks obtained by students in class 12th for the selection. Apart from this, there are various other conditions on the basis of which choices are made for different streams. These conditions include

  • Only those students will be elected who have secured admission to a degree course after qualifying an entrance examination conducted by either the central government or state government.
  • For admission in MBBS or BDS courses, the candidates have to qualify the NEET (CBSE) examination.
  • For admission in Architecture course, the candidates need to qualify the NATA examination conducted by the Council of Architecture.
  • Caste and category reservations are also available where 8% of the total seats in each stream are held for SC candidates, 11% reservation is for ST candidates, 25% reservation is for SEBC candidates and remaining seats are for General category students.

JK Scholarship Statistics

Let us know the scholarship gained by students in the previous year’s data as per the AICTE scholarship scheme for Jammu and Kashmir. With this scholarship, the J&K government is able to support many students for higher studies. The table given below here shows the statistics for the past 6 years.

Academic SessionNumber of Students AdmittedNumber of Students Reported
2017-1834002706 + 516 (Diploma Lateral Entry)
2016-1738182272
2015-1641021410
2014-1529571726
2013-1445853981
2012-1337753675

General Instructions To Candidates of JK Scholarship

  • Applicant should confidently ensure uploading of joining report on the portal of AICTE on or before the last date of joining, which will be verified by the Institute, after which DBT application will be opened by the eligible candidates.
  • An applicant who will not upload their joining report on the portal of AICTE on or before the last date of joining, their seats under the scheme will be canceled automatically and will be allotted to the students in the next/subsequent rounds of counseling (if any).
  • Applicants are required to report for admission at designated University / Institution on the date particularized as per the counseling schedule along with the original documents/testimonials/ certificates required at the time of admission.
  • Nodal Officer may lead the applicant during his/her stay in the college campus.
  • Applicants are advised to visit the AICTE website for all PMSSS updates.
  • No fresh registrations shall be provided in next/subsequent rounds of counseling
  • Applicants must bring the original and one set of self-attested photocopies of the certificates at the time of reporting for final admission in allotted University / Institute.
  • The applicants are suggested to refer the fee structure and other details of the Institute before choosing the seat.

FAQ’s on JK Scholarship

Question 1.
Is document verification at Facilitation Centre is necessary?

Answer:
Yes, without document verification at Facilitation Centre, the student is not eligible for Scholarship.

Question 2.
Who is eligible for Medical courses in JK Scholarship?

Answer:
For Medical Stream with Biology the candidate who seeks admission in any of the courses in Medical Stream (MBBS, BDS, BAMS, BHMS, etc.) on his/her own merit within the sanctioned intake in any of the institutions recognized by the respective Regulatory Bodies based on the merit at class 10+2 & after qualifying NEET examination. They also need to register during online registration.

Question 3.
Can we edit the application form after it is submitted online?

Answer:
Yes, Officer of the facilitation center can only edit the online application form, subject to the production of original documents in support of your claim/request for editing.

Question 4.
What is the J&K Scholarship amount for various streams?

Answer:

StreamAcademic Fee, No. of Scholarships
General DegreeUpto Rs. 30,000, 2070
Engineering Degree/ProfessionalUpto Rs. 1.25 Lakh, 2830
Medical/BDS or equivalent Medical StreamsUpto Rs. 3.00 Lakh, 100
Total No.of Scholarships – 5000

Maintenance charges limits: Uniformly Rs. 1.00 Lakh For all

Question 5.
What format or size of photo and signature to upload in the website for J&K PMSSS Scholarship?

Answer:
Both photo & signature should be in.JPG /.PDF/.PNG format with the size of the file should be less than 2 MB.

Question 6.
Is it necessary to submit a separate online application for the General & Engineering course?

Answer:
Candidates are required to select “Both” option from the dropdown menu under “Stream applied for” field if they want to apply for both General & Engineering Stream under J&K PMSSS while submitting the online application. The candidate needs to fill only one application form.

Question 7.
To which facilitation center should the candidate go for document verification?

Answer:
You can go to any one of the facilitation centers established by Govt. of J&K as per your convenience for document verification and after that choice filling option would be open.

Question 8.
Who will be paying the admission fee?

Answer:
Academic Fee to the Institution will be disbursed directly by AICTE.

Question 9.
What should a candidate do after the qualifying NEET examination?

After qualifying NEET examination, students are required to take admission in medical/dental colleges on their own and then submit NEET score card, Joining Report and Counseling Allotment letter to AICTE.

Question 10.
What all documents student need to carry while visiting the Institute?

Answer:
All candidates who are provisionally allotted a seat in any round of counseling are required to physically report at the respective University/Institute as per the counseling schedule. Candidates must bring the original and one self-attested photocopy of the following documents at the time of reporting at the respective University / Institute for document verification:

  • AICTE Allotment Letter (in original)
  • Welcome Letter (in original)
  • Transfer certificate from 12th Board (in original)
  • Migration certificate of 12th Board (in original)
  • Character certificate of 12th Class (in original)
  • Five (5) passport size photographs.
  • Passed 10th Class Certificate from School Authority showing Date of Birth (in original)
  • Passed 10+2 Certificate from J&K Board or CBSE Affiliated Schools located in J&K State (JK Bose/CBSE) (in original)
  • Domicile Certificate from J & K State(in original)
  • Family Income Certificate issued by Tehsildar (J&K) showing the family income.
  • Aadhar Card (Aadhar Number to be seeded with Bank Account)
  • Bank Passbook (in original, if the bank account is already opened)
  • Physically Handicapped Certificate (in original, if any)
  • Passed Diploma Certificate from J&K Technical Board (for lateral entry only)
  • Reservation Certificate (Caste/Category) as per J& K Govt. Policy (in original, if any)

The post JK Scholarship | Eligibility, Application Procedure, Everything You Need To Know appeared first on Learn CBSE.

Prime Minister’s Special Scholarship Scheme (PMSSS) | Dates, Eligibility, Application Procedure

0
0

PMSSS 2019: PMSSS (Prime Minister’s Special Scholarship Scheme) also is known as J&K Scholarship, meant for students of Jammu and Kashmir who wants to acquire higher education in different fields such as, Engineering and Technology, Nursing, Pharmacy, Architecture, Hotel Management and Catering Technology, Crafts and Design, Arts, Medical and General education. The scheme is available for Diploma passed students also who want to be graduate in Engineering and Technology as Lateral Entry(2nd year BE/B.Tech).

J&K or PMSSS is an elite scholarship opportunity provided to students who are a domicile of Jammu and Kashmir. Commenced in the year 2011, the scheme focusses on improving job opportunities for the youth of the state by giving them financial support, so that they can proceed with higher studies at an undergraduate level outside J&K. 5000 fresh scholarships are provided by the government every year, for studying in the best academic institutions outside J&K. Conducted by the All India Council for Technical Education, the AICTE PMSSS is administered within the state by the J&K government.

Get complete information related to PMSSS eligibility conditions to qualify for different scholarship schemes, application procedure, what is the last date to apply. Also, know the method through which scholarship will be paid to students and the selection process.  In this article, all the important detail related to J and K scholarship such as the dates, eligibility criteria, application procedure, award details, selection procedure, etc. are given here.

PMSSS Important Dates

Before reviewing information about the PMSSS, you should know the important dates related to it. The scholarship supports applications from eligible students every year within a mentioned time duration. Here, all the vital dates related to the JK scholarship for the academic session 2019-20 is given.

ParticularsDates
Online registration starting date10th April 2019
Last date to register online for class 12 passed/ appearing students31st May 2019
The last date to register online for diploma passed students (lateral entry in engineering stream only)18th June 2019
Document verification of registered candidates at facilitation centers (online)16th April 2019 to 31st May 2019
16th April 2019 to 14th May 2019 (for lateral entry students)
Choice filling option for students whose documents have been verified22nd April 2019 to 31st May 2019
20th April 2019 to 14th May 2019 (for lateral entry students)
Release of provisional merit list on the portal11th June 2019
Up to 10th June 2019 (for lateral entry students)
Document re-verification at facilitation centers (Offline)11th June 2019 to 13th June 2019
Release of final merit list on the portal (Online)18th June 2019
14th June 2019 (for lateral entry students)
The first round of counseling (provisional seat allotment) _OnlineYet to be announced
The second round of counseling (provisional seat allotment)_OnlineYet to be announced

Scholarships for Students

PMSSS Eligibility Criteria

To apply for Prime Minister’s Special Scholarship Scheme, students need to meet certain requirements which mainly depend on their citizenship, academic qualification and total income of the family. Know about details of eligibility criteria, necessarily required for this scholarship here.

  • Candidates should be a domicile of J&K State
  • Candidates should have Passed 10+2 Exam from JKBOSE or CBSE affiliated schools located in J&K
  • Candidates should have Passed 10+3 Diploma from J&K State Polytechnic to get admission directly in the second year in the stated list of Colleges against the vacant seats of the previous year
  • Overall Family income of the candidates should not exceed Rs. 8.00 Lakh per annum

Candidates who are not eligible

  • Seeking their studies within open universities.
  • Already undergoing financial support under this plan or any other scholarship scheme.
  • Getting admission within the management quota.
  • Persevering studies at the postgraduation level.
  • Procured admission to a college other than the designated colleges.
  • Getting admission within NGOs/Agents.
  • Annual family earnings are greater than INR 8 Lakh per annum.

PMSSS Application Procedure

Every year, AICTE welcomes on its official website online applications filled by eligible candidates. If applicants fulfill all the criteria needed for PMSSS, they can apply by following the below steps:

  • Go the AICTE PMSSS official website, www.aicte-jk-scholarship-gov.in
  • To apply for PMSSS, click on the registration button.
  • Fill in all the mandatory details.
  • Submit the registration form.
  • Once registration is done, candidates will receive an SMS/email on their registered mobile number/email for verification.
  • Click the verification link and complete the registration process.
  • After the successful registration, candidates have to log in via the AICTE PMSSS website.
  • Keep the scanned copies of all the supporting documents in jpg/png format with the file size not more than 2 MB.
  • Once logged in, read the brochure carefully, tick mark the declaration and click on the “Proceed Further” button.
  • Fill the required details in the application form such as personal information, address, family income, educational details, etc.
  • Upload all the scanned copies of supporting documents and preview the application form.
  • Provide the details of preferences and grievance centre details.
  • Now submit the application by clicking on “Submit Application”.
  • After submitting the application, applicants should take the print out of the application form and visit the facilitation center along with all supporting documents in original for verification.
  • Present the photocopies of all the certificates to the facilitation center at the time of verification.
  • Once the verification is done, the applicants have to collect a copy of their document verification report.

Documents Required for PMSSS

  • Passport-sized photograph (preferred size – 200 X 230 pixels)
  • Scanned signature (preferred size – 140 X 60 pixels)
  • SSC/Class 10th mark sheet
  • Domicile/Day Scholar certificate issued by the government of J&K
  • Aadhaar card (if available)
  • Family income certificate issued by the Tehsildar or equivalent
  • Category/Caste certificate issued by the competent authority of state government (if applicable)
  • Certificate of disability (for Persons with Disabilities – PWD)

Note: Aadhar Card is essential for smooth DBT (Direct Benefit Transfer) through Public Financial Management System (PFMS).

PMSSS – List of Facilitation Center for Documents Verification

Candidates are required to get their uploaded documents verified with the originals at the nearest Facilitation Centres set-up by the Government of J&K and once it is verified and uploaded with the stamp on Facilitation Centres portals, the choice filling window will be activated for only. The choice filling window will be blocked on the last date, after that, no change will be allowed in order of preference. After document verification from the facilitation center, the candidate has to collect a copy of the document verification report without fail.

Facilitation Centers for J&K PMSSS 2019-20 Jammu Division

Name of the CollegeContact Number, Email Id
Government G.M. Science College, Jammu01912578189, principalggm@gmail.com
Government College for Women Gandhi Nagar, Jammu01912435158, principal@gcwgandhinagar.com
Government Degree College, Boys (Kathua)01922234315
Government Degree College, Bani01921268025, gdcbani08@gmail.com
Government Degree College, Boys Udhampur01992270239, 01992270289, principal@gdcudhampur.in
Government Degree College, Rajouri01962262510, gdcrajouri@gmail.com
Government Degree College, Poonch01965220231, degreecollegepoonch@gmail.com
Government Degree College GDC, Doda01996233552, principalgdcdo@yahoo.in
Government Degree College, Reasi019912455905, principalgdcreasi20@gmail.com
Government Degree College, Ramban01998266779, principalgdcramban@gmail.com
Government Degree College, Banihal01998255906, gdc.banihal@yahoo.com
Government Degree College, Kishtwar01995259513, gdckishtwar@gmail.com
Government Degree College, Bhaderwah01997244155, Principalmarwah@gmail.com
Government Degree College, MarwahNA, gdcrspura@gmail.com
Government Degree College, R.S.Pura01923252958
Government Degree College, Samba01923241044, gdcsamba90@gmail.com
Government Degree College, Mendhar01965226793, principalgdcmendhar@gmail.com

Facilitation Centers for J&K PMSSS 2019-20 Kashmir Division

Name of the CollegeContact Number, Email ID
Sri Pratap College, Srinagar09142476828, 09142476804, spcsgr1905@gmail.com
Government Degree College, Anantnag01932222308, principal@gdcboysang.ac.in
Government College (Women), M.A. Road, Srinagar09142478259, gcwmaroad@yahoo.in
Government Degree College, Bijbehara01932233263, principalbijbehara@gmail.com
Government Degree College (Boys), Sopore0195422262, soporecollege@gmail.com
Government Degree College (Boys), Baramulla01952234214, principal@baramullacollege.com
Government Degree College, Pattan01954231244, gdcpattan@yahoo.com
Government Degree College (Boys), Kupwara01955252155, kcollege786@gmail.com
Government Degree College, Kulgam01931260177
Government Degree College (SAM), Budgam01951256444, principalsamdc5@gmail.com
Government Boys College, Pulwama01933241250, gdcpulwama@gmail.com
Government Degree College, Shopian01933260204, spncollege@hotmail.com
Government Degree College, Tral01933251278, gdctral@rediffmail.com
Government Degree College, Bandipora01957226033, degreecollegebpr@gmail.com
Government Degree College, Dooru01932230157, principal.gdcdooru@gmail.com
Government Degree College Ganderbal01942416854, info@gdcganderbal.org
Government Degree College, Chrari-sharief0195125340, gdc.chrarisharief@gmail.com

PMSSS Selection Process

Prime Ministers Special Scholarship Scheme conducted by AICTE is totally a merit-based scholarship that evaluates the marks obtained by students in class 12th for the selection. Apart from this, there are many other conditions on the basis of which choices are made for different streams. These conditions include

  • Only those candidates will be selected who have secured admission to a degree course after clearing an entrance examination administered by either the central government or state government.
  • To get admission to MBBS or BDS courses, the students have to qualify the NEET (CBSE) examination.
  • To get admission to the Architecture course, the students need to qualify for the NATA examination conducted by the Council of Architecture.
  • Caste and category reservations are also available where 8% of the total seats in each stream are held for SC applicants, 11% reservation is for ST applicants, 25% reservation is for SEBC applicants and remaining seats are for General category students.

PMSSS Statistics

Let us know the PMSSS scholarship got by students in the previous year’s data as per the Jammu and Kashmir scheme. With the help of these scholarships, J and K government is able to help many students for higher studies. The table given here presents the statistics for the past 6 years.

Academic SessionNumber of Students AdmittedNumber of Students Reported
2017-1834002706 + 516 (Diploma Lateral Entry)
2016-1738182272
2015-1641021410
2014-1529571726
2013-1445853981
2012-1337753675

General Instructions To Applicants of PFMSSS

  • Candidates should guarantee the uploading of joining report on the AICTE portal, on or before the last date of joining. It will be later verified by the Institute, after which the DBT application will be opened by the eligible candidates.
  • Candidates who fail to upload their joining report on the portal of AICTE on or before the last date of joining, their seats will be canceled automatically under the scheme and will be given to the students in the next/subsequent rounds of counseling (if any).
  • Candidates are required to report for admission at designated University / Institution on the date specified as per the counseling dates along with the original documents/testimonials required at the time of admission.
  • Nodal Officer may direct the Candidates during his/her stay in the college campus.
  • Candidates are suggested to visit the AICTE website for all PMSSS updates.
  • No new registrations shall be provided in next/subsequent rounds of counseling
  • Candidates must bring the original and one set of self-attested photocopies of the documents at the time of reporting for final admission in allotted University / Institute.
  • Candidates are advised to refer the fee structure and other details of the Institute before choosing the seat.

FAQ’s on PFMSSS

Question 1.
Who is eligible for PMSSS?

Answer:

  • Must be the State subject of J&K.
  • Must have passed 10+2 examination from J&K Board or CBSE school located in J&K.
  • Must have passed 10+3 Diploma from J&K State Polytechnics eligible for admission in the direct second year in the prescribed list of colleges on the vacant seats of Engg category for batch 2018-19.
  • The family income from all sources for the Financial Year 2018- 19 should not be more than Rs. 8.0 Lakh per annum.
  • Only those willing to study outside the State of J&K.

Question 2.
How to apply for PMSSS?

Answer:
Log on to AICTE Website and follow the steps to apply for “Online Registration for scholarship” and follow the instructions on how to fill the online application.

  • Open AICTE Website via the link: https://www.aicte-india.org/
  • Go to the PMSSS tab on the home page.
  • Further, click on the tab of A/Y 2019-20 and register yourself by following the instructions.

Question 3.
What is the PMSSS amount for various streams?

Answer:

StreamAcademic FeeMaintenance charges limitsNo. of Scholarships
General DegreeUpto Rs. 30,000/-Uniformly 1 Lakh For all2070
Engineering Degree/ProfessionalUpto Rs. 1.25 Lakh2830
Medical/BDS or equivalent Medical StreamsUpto Rs. 3.00 Lakh100
Total No. of Scholarships5000

Question 4.
What documents are required at the facilitation center for verification?

Answer:
Original Documents to be produced at the time of Verification at Facilitation Center are as

  • Xth Standard Mark sheet
  • XIIth Standard Mark sheet(if any)
  • Diploma Certificate (for lateral entry only)
  • Domicile Certificate  Aadhaar Card (if any)
  • Family Income Certificate (Issued by Tehsildar or equivalent)
  • Valid Caste certificate for SC/ST/SEBC for claiming the reservation as per State Govt. Policy
  • Valid disability Certificate (if any)

The post Prime Minister’s Special Scholarship Scheme (PMSSS) | Dates, Eligibility, Application Procedure appeared first on Learn CBSE.

Scholarships for Students

0
0

Scholarships for Students

State Wise Scholarships

Top Scholarships for Class 1 to Class 10

Popular Scholarships in India

Best Scholarships in India

  • NTSE – National Talent Search Examination
  • KVPY – Kishore Vaigyanik Protsahan Yojana 2019
  • NSP – National Scholarship Portal

State Level National Talent Search Exam (NTSE) 2019 – 2020

Top Scholarships for Class 1 to Class 10

Pre Matric Scholarship for SC, ST & General Students, Uttar Pradesh 2019-20

Eligibility
  • Be a domicile of Uttar Pradesh
  • Be studying in class 9 and 10
  • Belong to ST/SC/General Category
  • Have a family income of not more than INR 1 Lakh per annum
Important Dates
  • Last date to apply under fresh application: 10 September 2019
  • Last date to submit an application for renewal: 10 August 2019
Important Links

Pre Matric Scholarship for OBC Students, Uttar Pradesh 2019-20

Eligibility
  • Be a domicile of Uttar Pradesh
  • Belong to OBC category
  • Have a family income less than INR 1 Lac per annum from all sources
Important Dates
  • Last date to apply under fresh application: 10 September 2019
  • Last date to submit an application for renewal: 10 August 2019
Important Links

Pre Matric Scholarship for Minority Students, Uttar Pradesh 2019-20

Eligibility
  • Be a domicile of Uttar Pradesh
  • Belong to the Minority community
  • Have the family income of less than INR 1 Lakh per annum from all sources
  • Be studying in class 9 and 10
Important Dates
  • Last date to apply under fresh application: 10 September 2019
  • Last date to submit application for renewal: 10 August 2019
Important Links

West Bengal Pre Matric Scholarship

Eligibility
  • Be a domicile of West Bengal
  • Be studying in class 1 to 10 at a school or institution which is affiliated with a Council/Educational Board/University of State or Central Government
  • Have scored at least 50% marks in his/her last qualifying exam
  • Have a family income of less than INR 2 Lakhs per annum
  • Belong to minority section of West Bengal

Note – Students pursuing their studies outside West Bengal are not eligible for this scholarship

Important Dates
  • Application deadline – 15th September 2019
Important Links

National Scholarship Exam (NSE) 2019

Eligibility
  • Students in Class 5 to 12 (SSC/ICSE/CBSE board)
  • Students enrolled in a Diploma course (any stream and any year)
  • Students enrolled in a Degree (any stream and any year)
Important Dates
  • Registrations open: 1 April 2019
  • Last date to apply: 30 September 2019
  • Date of exam: 15th December 2019
Important Links

Kind Scholarship for Meritorious Students

Kind Scholarship for Meritorious Students is an initiative to support academically meritorious students coming from under-privileged section of society to build a foundation for their bright future.  The scholarship is funded by  donations received from Individuals & professionals who want to support meritorious students in need.

Scholarship award varies as per the need of candidates. However, the standard scholarship awards are the following:-

  • For Class 9 & 10 students: INR 6,000 per year
  • For Class 11 & 12 students: INR 12,000 per year
  • For Polytechnic / ITI / Diploma / Graduation & Others: INR 18,000 per year
Eligibility
  • Be studying in any Indian school (Class 9 to 12) or college (Graduation; ITI, Polytechnic, Vocational & Professional Courses)
  • Have an annual household income less than INR 4 Lakhs
  • Have cleared the previous examination with at least 60% marks

Note: Preference will be given to candidates having high merit, single parent, orphan or wards of Indian Armed Forces died on duty.

Important Dates
  • Starting date: July 1, 2019
  • End date: September 30, 2019

Begum Hazrat Mahal National Scholarship Scheme for Minorities Girls 2019-20

Eligibility
  • Only girl students belonging to Muslim, Christian, Sikh, Buddhist, Jain, and Parsi communities are eligible for this scholarship.
  • They must be studying in class 9 to 12.
  • The annual family income of the student should be less than INR 2 Lakhs.
  • The students must have secured a minimum of 50% marks (in aggregate) in the previous class.
Important Dates
  • Last date to submit the application: 30th September 2019
Important Links

24th Anuvrat Essay Writing Competition 2019

Eligibility
  • Junior Group: Class 1 to 8
  • Senior Group: Class 9 to 12

What are the benefits?

  • 3 graded prizes for 1st, 2nd  and 3rd winning essays in each group
  • Some consolation prizes for each participating group
  • Honor for best participants
  • Merit/appreciation certificate for commendable essay writers
Important Dates
  • Deadline for essay submission – 30th September 2019
  • Result declaration – December 2019
Important Links

The Gaud Saraswat Brahman (G.S.B.) Scholarship 2019

The scholarship offers the following-

  • Free scholarship- Awarded to students from Class 5 to Graduate level
  • Foreign loan scholarship- Up to INR 17 lakhs (INR 1.7 million) with a loan scholarship of INR 2 lakhs per student
Eligibility
  • Applicants must belong to the Gaud Saraswat Brahman community.
  • Students of class 5th to undergraduate courses will be eligible for this scholarship scheme.
  • All Students enrolled in courses like diploma /B.A/B.Sc/B.Com/B.Arch/MBBS/B.Pharma/B.E can also apply.
Important Dates
  • Application deadline for students of Class 5 to 10 – 15th July 2019
  • Application deadline for students of PUC I & II/Jr. College – 15th August 2019
  • Application deadline for students of Degree (BA/BSc/B.Com) & Diploma – 15th September 2019
  • Application deadline for students of BE/BArch/BPharm/MBBS etc. – 15th October 2019
Important Links

Pre Matric Scholarships Scheme for Minorities 2019-20

Eligibility
  • Must be studying in class 1 to 10
  • Must have secured at least 50% marks in the previous final examination
  • Must have a family income of not more than INR 1 lakh per annum from all sources
  • Must belong to the minority community (Muslims, Sikhs, Christians, Buddhists, Jains and Zoroastrians/Parsis)
Important Dates
  • Scholarship announcement date: 15 July 2019
  • Scholarship closing date: 15 October 2019
  • Last date for defect verification: 31 October 2019
  • Last date for Institute verification: 31 October 2019
Important Links

Pre-Matric Scholarship for Students with Disabilities 2019-20

Eligibility
  • Be a regular full-time student of class 9 or class 10 in government or recognised school.
  • Have more than 40% disability and a valid certificate for the same.
  • Belong to the family where the annual income is not more than INR 2.50 Lakhs from all the sources.
Important Dates
  • Scholarship announcement date: 15 July 2019
  • Scholarship closing date: 15 October 2019
  • Last date for defect verification: 31 October 2019
  • Last date for Institute verification: 31 October 2019
Important Links

Financial Assistance for Education of the Wards of Beedi/Cine/IOMC/LSDM Workers – Post-Matric 2019-20

The selected scholar will receive the following benefits:

  • Girls studying in PUC I & II will receive INR 2,440
  • Boys studying in PUC I & II will receive INR 2,000
  • Girls and boys enrolled in ITI courses will receive INR 10,000
  • Girls and boys enrolled in Degree courses will receive INR 3,000
  • Girls and boys enrolled in Professional courses such as BE/MBBS/BSc-Agri. will receive INR 15,000
Eligibility
  • One or both the parents of the applicants should be working as a Beedi worker/ Iron Ore Manganese & Chrome Ore Mines (IOMC) worker/ Limestone & Dolomite Mines (LSDM) worker/ Cine worker for at least last six months.
  • The monthly income of the family must not exceed INR 10,000 from all the sources except for Cine workers where the income must not exceed INR 8,000 per month or INR 1,00,000 per annum.
  • The student must have passed the last qualifying examination in the first attempt.
  • The student must have enrolled in a regular course of general or technical education, including medical, engineering and agricultural studies.

Note: This scholarship is also for the children of Contract/ Gharkhataworkers.

Important Dates
  • Scholarship announcement date: 15 July 2019
  • Scholarship closing date: 31 October 2019
  • Last date for defective verification: 15 November 2019
  • Last date for institute verification: 15 November 2019
Important Links
  • please visit NSP website https://scholarships.gov.in/

The post Scholarships for Students appeared first on Learn CBSE.

Pragati Scholarship | Eligibility, Application, Rewards

0
0

AICTE Pragati Scholarships 2019-20: Pragati Scholarship is an MHRD Scheme being implemented by AICTE strived at assisting the Advancement of Girls pursuing Technical Education. Education is one of the most important means of enabling women with the knowledge, skill, and self-confidence required to join fully in the development process. This is an effort to allow young women for further education and prepare for a successful future by “Empowering Women through Technical Education”

All India Council Technical Education (AICTE) welcomes online applications for Pragati Scholarship Schemes for the academic year 2019. The scholarship will be given to only two girl children of a family for pursuing her undergraduate professional/diploma courses. In a year total of 4000 scholarship will be offered to the selected girl students  (2000 for Degree and 2000 for Diploma). The Last Date to apply for the Pragati Scholarship is tentatively on the 2nd week of October 2019.

Pragati Scholarship Eligibility Criteria

The details of the conditions required to apply for the Pragati scheme are given here. Candidates should make sure they fulfill all the criteria before applying for the scholarship.

  • Up to Two Girls per family can apply.
  • Family income should not be more than Rs. 8 Lakhs per Annum (in case of a married girl, the income of parents/in-laws, whichever is higher will be considered)
  • Students Admitted for Diploma/Undergraduate Degree Level Programmes/Courses in AICTE Approved Institutions.
  • Only for the students admitted in the first year of their Degree/Diploma for the academic year 2017-18.
  • The selection of the candidate will be made on merit on the basis of qualifying examination to peruse the respective Technical Degree/Diploma course from any of the AICTE approved institutions.

Pragati Scholarship Application Process

Check the complete step by step procedure to apply for Pragati Scholarship.

  • Go to AICTE Portal @ https://www.aicte-pragati-saksham-gov.in/ to register for Pragati Scheme.
  • Click on “Register Here” to create a new profile. Enter the details and click on “Register”.
  • A confirmation e-mail link will be sent to the registered e-mail ID. Please click on the link to confirm your registration.
  • Login again at https://www.aicte-pragati-saksham-gov.in/ with the registered e-mail Id/User name and Password to fill the online application form.
  • Enter personal details, details of family and income, details of the Institute in which Admission is taken for first-year Degree or Diploma course along with fee paid details, SSC/10th Standard and HSC/12th Standard details, details of the Aadhar seeded Savings Bank Account.
  • Attach the scan copies of all the necessary documents in jpg./pdf./png. Formats.
  • Submit the application form.
  • Take the print out for future reference.

Documents Required for Pragati Scholarship

Find here all the necessary documents required to apply for the Pragati scholarship. Students have to keep ready the scan copy of all these documents before they start filling up the application form.

  • SSC/10th Standard Mark sheet.
  • HSC/12th Standard Mark sheet.
  • Annual Family Income Certificate for the financial year 2016-17 as per Annexure-I (or) in the prescribed format issued by Tehsildar or above competent Authority.
  • Admission letter issued by the Centralized Admission Authority to first-year Degree/Diploma courses for the academic year 2017-18.
  • Tuition fee paid receipt for the academic year 2017-18.
  • Scanned Copy of Aadhar Seeded Bank Pass Book showing the name of the student, Account number, IFSC code and Photograph pasted at appropriate place duly signed by Manager with the rubber stamp of Bank affixed.
  • Certificate Issued by the Director/Principal/HOD as per Annexure-II
  • Certificate issued by Competent Authority in case of candidates applying for Saksham Scheme (Only for Physically Disabled Candidates having more than 40% disability) as per the State Government Format.
  • Attested Scanned copy of SC/ST/OBC Certificate, in case applying for SC/ST/OBC category.
  • Declaration by parents duly signed stating that the information provided by their child is correct and will refund the Scholarship amount if found false at any stage a per Annexure – III
  • Aadhar Card
  • Candidate Photograph.
  • Candidate Signature.

Pragati Scholarship Benefits and Rewards

The amount of scholarship offered by the Pragati scheme and who will get the amount, other benefits are given to the students along with scholarship reward, and other related details are provided here.

  • The AICTE Pragati Scholarship rewards a total of 4000 scholarships to girl students, in which 2000 scholarships are given to students pursuing diploma and 2000 to degree students.
  • The selected scholars will receive a tuition fee of INR 30,000 or the actual tuition fee amount, whichever is less.
  • The selected scholars also become eligible to get INR 2000 per month for 10 months as incidental charges each year.
  • In case of Tuition fee waiver/reimbursement, Students are eligible to get an amount of Rs. 30,000/- for the purchase of Books/Equipment/Softwares/ Laptop/Desktop/Vehicle/Fee paid towards competitive examination application forms/exam.
  • Fees paid for competitive exams, application forms/exam fees for all examinations related to higher education/employment.

Pragati Scholarship Reservation

  • A reservation of 15% for SC candidates, 7.5% for ST candidates and 27% for OBC candidate/applicant is provided by AICTE.
  • Candidates falling under these categories have to provide their caste certificate at the time of document submission while applying for the scheme.

Important Instructions for Pragati Scholarship

  • Only the scholars who have taken admission in the first year of their degree/diploma program in the current academic year can apply for this scholarship.
  • The scanned copies of the applicant’s passport size photo and signature must be uploaded in .jpg/.pdf/.png format while filling the application form. The file size of the photo should not be more than 200 kb and signature should not be more than 50kb.
  • Students who got admission through management quota are not eligible for the AICTE Pragati Scholarship.
  • Candidates must have a general savings account of their own in a bank. They cannot use the FRILL/Minor/Joint account.
  • Direct Benefit Transfer (DBT) is used to directly transfer the scholarship amount into the selected candidate’s bank account.
  • The scholarships for degree and diploma are transferable in event of non-availability of eligible applicants in any of the degree/diploma level programs.

FAQ’s on Pragati Scholarship

Question 1.
What is Pragati Scholarship?

Answer:
Pragati Scholarship is a government scholarship scheme implemented by the All India Council for Technical Education (AICTE). Under this scholarship scheme, a total of 4000 scholarships are disbursed every year among meritorious girl students for pursuing technical education.  Tuition Fee of Rs. 30,000/- or at actual, whichever is less and Rs.2000/- per month for 10 months as incidentals charges each year.

Question 2.
What is Saksham Scholarship?

Answer:
Saksham is an MHRD Scheme being implemented by AICTE aimed at providing encouragement and support to specially-abled children to pursue Technical Education. This is an attempt to give every young student, who is otherwise specially-abled, the opportunity too studies further and prepare for a successful future. Tuition Fee of Rs. 30,000/- or at actual, whichever is less and Rs.2000/- per month for 10 months as incidentals charges each year.

Question 3.
Is AADHAAR Card Mandatory for PRAGATI (or) SAKSHAM Scholarship?

Answer:
Yes. Aadhaar card and Aadhaar seeded bank account in the name of the candidate are mandatory for submitting an online application under Pragati/Saksham schemes.

Question 4.
How the scholarship will be disbursed through College/Institute?

Answer:
The scholarship will be disbursed only through Direct Benefit Transfer (DBT) directly in the bank account of the student. The student must have a General Saving Account in the bank. (FRILL/Minor/Joint account will not be accepted).

The post Pragati Scholarship | Eligibility, Application, Rewards appeared first on Learn CBSE.

Rajiv Gandhi National Fellowship | Eligibility, Awards, Application, and Documents 

0
0

RGNF Scheme: Rajiv Gandhi National Fellowship (RGNF) scheme initiated by the Ministry of Social Justice and Empowerment and the Ministry of Tribal Affairs. The scheme is open to Scheduled Castes and Scheduled Tribe students. The RGNF for SC students is formulated and funded by the Ministry of Social Justice and Empowerment. Whereas the RGNF for ST students is formulated and funded by the Ministry of Tribal Affairs. This fellowship offers support to SC and ST candidates who desire to pursue higher studies such as regular and full-time M.Phil. and Ph.D. degrees. These degrees can be pursued in Science, Humanities, Social Sciences, Engineering, and Technology. Candidates who belong to SC and ST categories can only apply for this fellowship.

Application for RGNF releases on the official website of University Grants Commission (UGC). Candidates can fill the application and apply for RGNF in the last week of October 2019. The article below provides complete information about Rajiv Gandhi National Fellowship.

Rajiv Gandhi National Fellowship 2019

Rajiv Gandhi National Fellowship encourages SC and ST students from lower-income families to pursue higher education. RGNF helps the candidates from the deprived section of the society to undertake advanced studies and research. The objective of this fellowship is to provide fellowships in the form of financial support to SC/ST students. These students can complete higher education without financial hassle. The RGNF is also available for those SC/ST students who study M.Phil., Ph.D., Engineering and Technology courses every year. There are 2000 seats available for SC and 667 seats for ST candidates every year for all the subjects. Govt. of India has reserved 3% fellowships for disability candidates who belong to SC categories.

Rajiv Gandhi National Fellowship Overview

ParticularsDetails
Conducting BodyMinistry of Social Justice and Empowerment for Scheduled Caste
Ministry of Tribal Affairs for Scheduled Tribe
Fellowship NameRajiv Gandhi National Fellowship
AwardsThe selected candidates get the amount of Rs.28,000/- per month along with contingency grant, HRA, and allowances for PH and blind candidates
Last Date for Submission of RGNF ApplicationLast Week of October 2019
Websitehttps://www.ugc.ac.in/

Rajiv Gandhi National Fellowship 2019 – Eligibility Criteria

Candidates must fulfill the following eligibility criteria to apply for RGNF

  • Candidate must belong to SC and ST categories.
  • Candidate should have passed the postgraduate examination.
  • Candidates must be registered themselves for full-time M.Phil/Ph.D. degrees.
  • Candidates register as regular students in University/Institute/Colleges recognized by UGC under Section 2 (f) of the UGC Act/ICAR.
  • Candidate belongs to the transgender category are also eligible.

Rajiv Gandhi National Fellowship 2019 – Selection Process

The Selections for RGNF made on the basis of merit and as per the procedures of the Commission. The Commission scrutinizes and selects the received applications. The final selection depends on the decision of the Commission. The Commission has the right to withdraw/cancel the award without conveying any reason. After these formalities, candidates Joining Report will be duly signed by the supervisor/head of department. Then, it will be sent to the UGC through the Registrar/ Director/ Principal. The first-year admissible grant releases on receipt of the Joining Report and other required documents. Otherwise, the concerned university will be informed to release the grant.

This grant releases from the funds which have sanctioned for this purpose by the Commission. Thereon, the fellows may get the amount from the institutions/bank after getting the UGC approval/award letter. Also, other expenses from the grants paid by the Commission in conformity with the rules. The payment of the fellowships will be transferred directly into the bank account of the beneficiaries.

Rajiv Gandhi National Fellowship 2019 – Terms and Conditions

  • The duration of RGNF scheme is initially for two years.
  • The work of the Fellow will be evaluated by a Committee of three members before the completion of this duration. These three committee members are the Head of the Department, Supervisor and one external subject expert. These members are to be constituted by the concerned Department/ University/ College.
  • The tenure will be extended further based on the research work satisfaction. If the work is satisfactory, then tenure will be extended for 3 more years.
  • The tenure will be extended under the enhanced emoluments of the Rajiv Gandhi National Senior Research Fellowship (RGNSRF).
  • The recommendation of the Committee for upgrading the level of RGNSRF will be submitted to the UGC.
  • The work status and the time spent on fellowships of any agency other than the UGC will not be accepted. The fellowship information from UGC only considers improving the value of fellowship.
  • The fellowship may be withdrawn in case of the dissatisfaction of the work. Also, if the candidate fails in any of the examinations related to Ph.D.
  • In case the work for the first two years is not satisfied, an extra year will be given to a candidate for improvement.
  • In this duration, the candidate will be designated as Rajiv Gandhi National Junior Research Fellow (RGNJRF).
  • Again the work will be evaluated after completion of 2nd year of the tenure.
  • If found any improvement, then the Fellow will get two more years under the RGNSRF.
  • So, the total period of fellowship (RGNJRF and RGNSRF) is for five years, with no more provision of extension.

Rajiv Gandhi National Fellowship 2019 – Awards

RGNF aims to improve the low literacy levels of the SC/ST categories through higher education. The shortlisted candidates get financial help from the Govt. to pursue M.Phil./Ph.D. degrees under RGNF. Refer the below award details of RGNF

ParticularsDetails
Fellowship AmountRGNF JRF (Junior Research Fellow) candidates receive a fellowship amount of Rs. 25,000/- per month for the initial two years.
RGNF JRF candidates promoted to SRF (Senior Research Fellow) receive a fellowship amount of Rs.28,000/- per month for the remaining three years.
Contingency grant for Humanities and Social SciencesAn amount of Rs.10,000/- per annum for the initial two years.
An amount of Rs.20,500/- per annum for remaining tenure.
Contingency grant for Science, Engineering, and TechnologyAn amount of Rs.12,000/- per annum for the initial two years.
An amount of Rs.25,000/- per annum for the remaining three years.
Escorts/Reader Assistance to PH CandidatesAn amount of Rs.2,000/- per month
Departmental Assistance for providing infrastructure to the host institutionAn amount of Rs.3,000/- per annum for each student
House Rent Allowance (HRA)As per rules of the University/Institution/Colleges
MedicalAs per rules of the University/Institution/Colleges

Rajiv Gandhi National Fellowship 2019 – Application Process

The application for RGNF releases online on the official website of UGC. Candidates can fill and submit the application in the last week of October 2019. Candidates can apply for this scholarship through the UGC website. It is a platform run by Govt. of India for coordinating, deciding and maintaining teaching standards, examination and research in University. Candidates must read the instructions carefully before filling RGNF application. Make sure to keep ready all the relevant documents prior to fill the RGNF application form. Refer to the below points to apply for RGNF Scholarship.

  • Visit the official website of UGC, New Delhi, India.
  • Click on the “e-SARTS” link appeared on the under “Quick Links” of the home page.
  • Check the National Fellowship for Scheduled Caste Students details appeared under Fellowship section.
  • Similarly, check the National Fellowship for Higher Education of ST Students details.
  • Candidates can click on the “See Details Info” to apply for the desired fellowship.
  • After that, click on the “Apply Now” to open the application form.
  • Fill the correct and necessary information as per the RGNF instruction.
  • Recheck the filled application to avoid rejection by the RGNF committees during verification.
  • Upload the required documents along with the RGNF application.
  • Finally, submit the RGNF filled application along with the documents.

Rajiv Gandhi National Fellowship 2019 – Checklist of Documents

Candidates must upload the scanned copy of essential documents along with the application. The following are the list of essential documents to apply for RGNF.

  • Candidates caste certificate only in pdf, jpg or gif format issued by the competent authority
  • Specific disability certificate, if required
  • Post-graduation mark sheet only in pdf, jpg or gif format
  • Certificate from the Head of the Department /Institution stating that the required facilities will be provided by the Institution/College/University if the candidate gets selected for RGNF

Contact Details

In case of any queries related to RGNF send the queries to Email ID – sosa3ugc@gmail.com

FAQ’s on Rajiv Gandhi National Fellowship 2019

Question 1.
What is Rajiv Gandhi National Fellowship?

Answer:
Rajiv Gandhi National Fellowship also known as RGNF is an initiative of Government. It offers support to SC and ST candidates for pursuing full-time M.Phil. and Ph.D. degrees.

Question 2.
Is RGNF open to all category candidates?

Answer:
No, RGNF scheme is open to only Scheduled Castes and Scheduled Tribe category candidates.

Question 3.
What are the streams offered to pursue M.Phil and Ph.D. degrees?

Answer:
The degrees can be pursued in Science, Humanities, Social Sciences, Engineering and Technology streams.

Question 4.
What is the last date to submit the RGNF application?

Answer:
The last date for submitting RGNF application is the last week of October 2019.

Question 5.
How many seats are available for SC and ST candidates in RGNF?

Answer:
There are 2000 seats available for SC and 667 seats for ST candidates. However, 3% fellowships reserved for PH candidates who belong to SC categories.

Hope this article will help you to get more information about RGNF 2019. If you have queries related to RGNF, then leave it in the comment box to get in touch with us.

The post Rajiv Gandhi National Fellowship | Eligibility, Awards, Application, and Documents  appeared first on Learn CBSE.

JEE Advanced 2020 | Exam Dates (Announced), Syllabus, Exam Pattern, Admit Card, Result

0
0

JEE Advanced 2020: JEE Advanced 2020 exam will be on May 17, 2020.  JEE Advanced Admit Card will be made available on online mode on its official website and is available to download in the second week of May 2020 @ jeeadv.nic.in. JEE Advanced will be organized by IIT Delhi on 17th May 2020. Almost for 11279 B.Tech seats in 23 IIT’S all over India are providing admissions into JEE Advanced.

Every year 1.4 lakhs students appear in JEE exam and this year nearly 2,50,000 students will be shortlisted for JEE Advance. It is the second entrance exam conducted after JEE Main to facilitate admissions for candidates in B.E/B.Tech courses of IIT and other colleges such as ISM Dhanbad, IISc Bangalore.

In this article, we are providing complete information about JEE Advanced 2020 exam, Read on to find more about JEE Advanced 2020.

JEE Advanced 2020 Highlights

DescriptionDetails
Exam NameJoint Entrance Exam (JEE) Advanced
Exam LevelNational
Conducting AuthorityIIT Delhi
LanguageHindi & English
Official Websitejeeadv.ac.in
Exam ModeOnline
PeriodicityOnce a year
Exam DateMay 17th, 2020 (Announced)
Exam Duration3 hours per paper
Type of questionsa. Multiple-choice questions
b. Numerical questions

What Was New In JEE Advanced 2020?

  • This year JEE Advanced will be conducted by IIT Delhi.
  • Comparing to previous year JEE Advanced 2019, there will an increase in the attempters of this exam.
  • JEE Advanced 2020 exam timings are changed for paper – 2 and the timings are 2.30 PM to 5.30 PM. Previously the exam timings are 2 PM to 5 PM.
  • From this year, JEE Advanced will also be conducted in the United States. In San Francisco, an examination center will set up to the students of JEE Advanced.
  • Due to the absence of students in two cities, Addis Ababa and Colombo are discontinued for JEE Advanced 2020.

JEE Advanced 2020 – Important Dates

JEE Advanced EventsImportant Dates
Registration for JEE Advanced 2020The first week of May 2020
Last Date for fee payment for registered candidatesTo be announced soon
Admit Card AvailabilityThe second week of May 2020
JEE Advanced 2020 Exam date17th May 2020 (Released)
Copy of candidate responses to be sent to candidatesThe third week of May 2020
Online display of JEE Advanced 2020 Answer KeyLast week of May 2020
Feedback and comments on answer keys from studentsTo be announced soon
JEE Advanced 2020 Results (Online declaration)The first week of June 2020
Registration for IIT JEE-AATLast week of June 2020

JEE Advanced 2020 – Eligibility Criteria

Indian nationals must fulfill all the below-mentioned eligibility criteria to appear for JEE Advanced 2020:

  • Students who have completed class 12 examination in 2019 or 2020 for the first time can appear for JEE Advanced 2020.
  • Applicants must be among top 250000 scorers.
  • Students must not be appear in JEE Advanced before.
  • There is no age limit for candidates who are appearing for JEE Advanced 2020.
  • Students can appear for JEE Advanced 2020twice in the consecutive years which means students who appeared last year can also appear for 2020 also.
  • Students whose admission has been canceled in IIT are not eligible for appearing in the exam. Applicant should not be any student of IIT’s before appearing in the exam.

JEE Advanced Application Form 2020

Follow the following steps to fill the JEE Advanced Application Form:

  • Step – 1: Students need to log in using the credentials which you used during JEE Main 2020 Registration Process, choose preferred language of question paper along with the city you wish to take the exam in. Students will also have to provide their mobile number for correspondence to update.
  • Step – 2: Upload the scanned copies of required documents which are as below:
    • Class X certificate if the date of birth is mentioned in it OR birth certificate.
    • Class XII  or its equivalent certificate (candidates who appeared in 2019 or whose board declared result after June 2018)
    • For those who changed their name must provide a gazette notification proving the name change.
    • Candidates seeking admission under various categories must provide a relevant certificate proving their status while uploading the documents.
  • Step – 3: In order to complete the application process applicants need to make a payment of a non-refundable fee
CategoryFemale Candidates (all categories)SC/ST/PwDAll Other Candidates
FeeRs.1300 + GSTRs.1300 + GSTRs.2600 + GST
Foreign countries Registration Fees
CategorySAARC CountriesNon-SAARC Countries
All CandidatesUSD 75+ GSTUSD 150 + GST

JEE Advanced 2020 Exam Pattern

Paper 1
Type of QuestionsMarksNegative Marking
Single Correct Answer3-1
One or More Correct Answer4-2
Single Digit Integer30
Paper 2
Type of QuestionsMarksNegative Marking
Single Correct Answer3-1
One or More Correct Answer4-2
Comprehension Type30

JEE Advanced 2020 Syllabus

As mentioned earlier, candidates must be aware of the concepts in JEE Advanced 2020 exam from Physics, Chemistry and Mathematics subjects. The detailed JEE Advanced Syllabus is tabulated below with all the concepts from each subject. Take a loo

JEE Advanced 2020 Syllabus for Physics

General PhysicsUnits and dimensions, dimensional analysis; least count, significant figures; Methods of measurement and error analysis for physical quantities pertaining to the following experiments: Experiments based on using Vernier calipers and screw gauge (micrometer), Determination of g using simple pendulum, Young’s modulus by Searle’s method, Specific heat of a liquid using calorimeter, focal length of a concave mirror and a convex lens using uv method, Speed of sound using resonance column, Verification of Ohm’s law using voltmeter and ammeter, and specific resistance of the material of a wire using meter bridge and post office box.
MechanicsKinematics in one and two dimensions (Cartesian coordinates only), projectiles; Uniform circular motion; Relative velocity.
Newton’s laws of motion; Inertial and uniformly accelerated frames of reference; Static and dynamic friction; Kinetic and potential energy; Work and power; Conservation of linear momentum and mechanical energy.
Systems of particles; Centre of mass and its motion; Impulse; Elastic and inelastic collisions.
Law of gravitation; Gravitational potential and field; Acceleration due to gravity; Motion of planets and satellites in circular orbits; Escape velocity.
Rigid body, moment of inertia, parallel and perpendicular axes theorems, moment of inertia of uniform bodies with simple geometrical shapes; Angular momentum; Torque; Conservation of angular momentum; Dynamics of rigid bodies with fixed axis of rotation; Rolling without slipping of rings, cylinders and spheres; Equilibrium of rigid bodies; Collision of point masses with rigid bodies.
Linear and angular simple harmonic motions.
Hooke’s law, Young’s modulus.
Pressure in a fluid; Pascal’s law; Buoyancy; Surface energy and surface tension, capillary rise; Viscosity (Poiseuille’s equation excluded), Stoke’s law; Terminal velocity, Streamline flow, equation of continuity, Bernoulli’s theorem and its applications.
Wave motion (plane waves only), longitudinal and transverse waves, superposition of waves; Progressive and stationary waves; Vibration of strings and air columns; Resonance; Beats; Speed of sound in gases; Doppler effect (in sound).
Thermal PhysicsThermal expansion of solids, liquids and gases; Calorimetry, latent heat; Heat conduction in one dimension; Elementary concepts of convection and radiation; Newton’s law of cooling; Ideal gas laws; Specific heats (Cv and Cp for monoatomic and diatomic gases); Isothermal and adiabatic processes, bulk modulus of gases; Equivalence of heat and work; First law of thermodynamics and its applications (only for ideal gases); Blackbody radiation: absorptive and emissive powers; Kirchhoff’s law; Wien’s displacement law, Stefan’s law.
Electricity and MagnetismCoulomb’s law; Electric field and potential; Electrical potential energy of a system of point charges and of electrical dipoles in a uniform electrostatic field; Electric field lines; Flux of electric field; Gauss’s law and its application in simple cases, such as, to find field due to infinitely long straight wire, uniformly charged infinite plane sheet and uniformly charged thin spherical shell.
Capacitance; Parallel plate capacitor with and without dielectrics; Capacitors in series and parallel; Energy stored in a capacitor.
Electric current; Ohm’s law; Series and parallel arrangements of resistances and cells; Kirchhoff’s laws and simple applications; Heating effect of current.
Biot–Savart’s law and Ampere’s law; Magnetic field near a current-carrying straight wire, along the axis of a circular coil and inside a long straight solenoid; Force on a moving charge and on a current-carrying wire in a uniform magnetic field.
The magnetic moment of a current loop; Effect of a uniform magnetic field on a current loop; Moving coil galvanometer, voltmeter, ammeter, and their conversions.
Electromagnetic induction: Faraday’s law, Lenz’s law; Self and mutual inductance; RC, LR and LC circuits with d.c. and a.c. sources.
OpticsRectilinear propagation of light; Reflection and refraction at plane and spherical surfaces; Total internal reflection; Deviation and dispersion of light by a prism; Thin lenses; Combinations of mirrors and thin lenses; Magnification.
Wave nature of light: Huygen’s principle, interference limited to Young’s double-slit experiment.
Modern PhysicsAtomic nucleus; α, β and γ radiations; Law of radioactive decay; Decay constant; Half-life and mean life; Binding energy and its calculation; Fission and fusion processes; Energy calculation in these processes.
Photoelectric effect; Bohr’s theory of hydrogen-like atoms; Characteristic and continuous X-rays, Moseley’s law; de Broglie wavelength of matter waves.

JEE Advanced 2020 Syllabus For Chemistry

JEE Advanced Syllabus for Physical Chemistry

General TopicsConcept of atoms and molecules; Dalton’s atomic theory; Mole concept; Chemical formulae; Balanced chemical equations; Calculations (based on mole concept) involving common oxidation-reduction, neutralization, and displacement reactions; Concentration in terms of mole fraction, molarity, molality, and normality.
Gaseous and Liquid StatesThe absolute scale of temperature, ideal gas equation; Deviation from ideality, van der Waals equation; Kinetic theory of gases, average, root mean square and most probable velocities and their relation with temperature; Law of partial pressures; Vapour pressure; Diffusion of gases.
Atomic Structure and Chemical BondingBohr model, spectrum of hydrogen atom, quantum numbers; Wave-particle duality, de Broglie hypothesis; Uncertainty principle; Qualitative quantum mechanical picture of hydrogen atom, shapes of sp and d orbitals; Electronic configurations of elements (up to atomic number 36); Aufbau principle; Pauli’s exclusion principle and Hund’s rule; Orbital overlap and covalent bond; Hybridisation involving sp and d orbitals only; Orbital energy diagrams for homonuclear diatomic species;  Hydrogen bond; Polarity in molecules, dipole moment (qualitative aspects only); VSEPR model and shapes of molecules (linear, angular, triangular, square planar, pyramidal, square pyramidal, trigonal bipyramidal, tetrahedral and octahedral).
EnergeticsThe first law of thermodynamics; Internal energy, work, and heat, pressure-volume work; Enthalpy, Hess’s law; Heat of reaction, fusion, and vapourization; Second law of thermodynamics; Entropy; Free energy; Criterion of spontaneity.
Chemical EquilibriumLaw of mass action; Equilibrium constant, Le Chatelier’s principle (effect of concentration, temperature, and pressure); Significance of ΔG and ΔG0 in chemical equilibrium; Solubility product, common ion effect, pH and buffer solutions;  Acids and bases (Bronsted and Lewis concepts); Hydrolysis of salts.
ElectrochemistryElectrochemical cells and cell reactions; Standard electrode potentials; Nernst equation and its relation to ΔG; Electrochemical series, emf of galvanic cells; Faraday’s laws of electrolysis; Electrolytic conductance, specific, equivalent and molar conductivity, Kohlrausch’s law; Concentration cells.
Solid StateClassification of solids, crystalline state, seven crystal systems (cell parameters abc, α, β, γ), the close-packed structure of solids (cubic), packing in fcc, bcc and hcp lattices; Nearest neighbors, ionic radii, simple ionic compounds, point defects.
SolutionsRaoult’s law; Molecular weight determination from lowering of vapor pressure, the elevation of boiling point and depression of freezing point.
Surface ChemistryElementary concepts of adsorption (excluding adsorption isotherms); Colloids: types, methods of preparation and general properties; Elementary ideas of emulsions, surfactants and micelles (only definitions and examples).
Nuclear ChemistryRadioactivity: isotopes and isobars; Properties of α, β and γ rays; Kinetics of radioactive decay (decay series excluded), carbon dating; Stability of nuclei with respect to proton-neutron ratio; Brief discussion on fission and fusion reactions.

JEE Advanced 2020 Syllabus for Inorganic Chemistry

Isolation/Preparation and Properties of Non-MetalsBoron, silicon, nitrogen, phosphorus, oxygen, sulfur, and halogens; Properties of allotropes of carbon (only diamond and graphite), phosphorus and sulfur.
Preparation and Properties of Inorganic CompoundsOxides, peroxides, hydroxides, carbonates, bicarbonates, chlorides and sulphates of sodium, potassium, magnesium and calcium; Boron: diborane, boric acid and borax; Aluminium: alumina, aluminium chloride and alums; Carbon: oxides and oxyacid (carbonic acid); Silicon: silicones, silicates and silicon carbide;  Nitrogen: oxides, oxyacids and ammonia; Phosphorus: oxides, oxyacids (phosphorus acid, phosphoric acid) and phosphine; Oxygen: ozone and hydrogen peroxide; Sulphur: hydrogen sulphide, oxides, sulphurous acid, sulphuric acid and sodium thiosulphate; Halogens: hydrohalic acids, oxides and oxyacids of chlorine, bleaching powder; Xenon fluorides.
Transition Elements (3d Series)Definition, general characteristics, oxidation states, and their stabilities, color (excluding the details of electronic transitions) and calculation of spin-only magnetic moment; Coordination compounds: nomenclature of mononuclear coordination compounds, cis-trans, and ionization isomerism, hybridization and geometries of mononuclear coordination compounds (linear, tetrahedral, square planar and octahedral).
Preparation and Properties of CompoundsOxides and chlorides of tin and lead; Oxides, chlorides, and sulfates of Fe2+, Cu2+, and Zn2+; Potassium permanganate, potassium dichromate, silver oxide, silver nitrate, silver thiosulphate.
Ores and MineralsCommonly occurring ores and minerals of iron, copper, tin, lead, magnesium, aluminum, zinc and silver.
Extractive MetallurgyChemical principles and reactions only (industrial details excluded); Carbon reduction method (iron and tin); Self-reduction method (copper and lead); Electrolytic reduction method (magnesium and aluminum); Cyanide process (silver and gold).
Principles of Qualitative AnalysisGroups I to V (only Ag+, Hg2+, Cu2+, Pb2+, Bi3+, Fe3+, Cr3+,  Al3+, Ca2+, Ba2+, Zn2+, Mn2+ and Mg2+); Nitrate, halides (excluding fluoride), sulphate and sulphide.

JEE Advanced 2020 Syllabus for Organic Chemistry

ConceptsHybridisation of carbon; σ and π-bonds; Shapes of simple organic molecules; Structural and geometrical isomerism;  Optical isomerism of compounds containing up to two asymmetric centres, (R,S and E,Z nomenclature excluded); IUPAC nomenclature of simple organic compounds (only hydrocarbons, mono-functional and bi-functional compounds); Conformations of ethane and butane (Newman projections); Resonance and hyperconjugation; keto-enol tautomerism; Determination of empirical and molecular formulae of simple compounds (only combustion method); Hydrogen bonds: definition and their effects on physical properties of alcohols and carboxylic acids; Inductive and resonance effects on acidity and basicity of organic acids and bases; Polarity and inductive effects in alkyl halides; Reactive intermediates produced during homolytic and heterolytic bond cleavage;  Formation, structure and stability of carbocations, carbanions and free radicals.
Preparation, Properties, and Reactions of AlkanesHomologous series, physical properties of alkanes (melting points, boiling points, and density); Combustion and halogenation of alkanes; Preparation of alkanes by Wurtz reaction and decarboxylation reactions.
Preparation, Properties, and Reactions of Alkenes and AlkynesPhysical properties of alkenes and alkynes (boiling points, density and dipole moments); Acidity of alkynes; Acid catalysed hydration of alkenes and alkynes (excluding the stereochemistry of addition and elimination); Reactions of alkenes with KMnO4 and ozone; Reduction of alkenes and alkynes; Preparation of alkenes and alkynes by elimination reactions; Electrophilic addition reactions of alkenes with X2, HX, HOX and H2O (X=halogen);  Addition reactions of alkynes; Metal acetylides.
Reactions of BenzeneStructure and aromaticity; Electrophilic substitution reactions: halogenation, nitration, sulphonation, Friedel-Crafts alkylation, and acylation; Effect of o-, m– and p-directing groups in monosubstituted benzenes.
PhenolsAcidity, electrophilic substitution reactions (halogenation, nitration, and sulphonation); Reimer-Tieman reaction, Kolbe reaction.
Characteristic Reactions of the Following (including those mentioned above)Alkyl halides: rearrangement reactions of alkyl carbocation, Grignard reactions,  nucleophilic substitution reactions;  Alcohols: esterification, dehydration and oxidation, reaction with sodium, phosphorus halides, ZnCl2/concentrated HCl, conversion of alcohols into aldehydes and ketones; Ethers: Preparation by Williamson’s  Synthesis; Aldehydes and Ketones: oxidation, reduction, oxime and hydrazone formation; aldol condensation, Perkin reaction; Cannizzaro reaction; haloform reaction and nucleophilic addition reactions (Grignard addition);  Carboxylic acids: formation of esters, acid chlorides and amides, ester hydrolysis; Amines: basicity of substituted anilines and aliphatic amines, preparation from nitro compounds, reaction with nitrous acid, azo coupling reaction of diazonium salts of aromatic amines, Sandmeyer and related reactions of diazonium salts; carbylamine reaction; Haloarenes: nucleophilic aromatic substitution in haloarenes and substituted haloarenes (excluding Benzyne mechanism and Cine substitution).
CarbohydratesClassification; mono- and disaccharides (glucose and sucrose); Oxidation, reduction, glycoside formation and hydrolysis of sucrose.
Amino Acids and PeptidesGeneral structure (only primary structure for peptides) and physical properties.
Properties and Uses of Some Important PolymersNatural rubber, cellulose, nylon, Teflon, and PVC.
Practical Organic ChemistryDetection of elements (N, S, halogens); Detection and identification of the following functional groups: hydroxyl (alcoholic and phenolic), carbonyl (aldehyde and ketone), carboxyl, amino, and nitro; Chemical methods of separation of mono-functional organic compounds from binary mixtures.

JEE Advanced 2020 Syllabus for Mathematics

AlgebraAlgebra of complex numbers, addition, multiplication, conjugation, polar representation, properties of modulus and principal argument, triangle inequality, cube roots of unity, geometric interpretations.
Quadratic equations with real coefficients, relations between roots and coefficients, the formation of quadratic equations with given roots, symmetric functions of roots.
Arithmetic, geometric and harmonic progressions, arithmetic, geometric and harmonic means, sums of finite arithmetic and geometric progressions, infinite geometric series, sums of squares and cubes of the first n natural numbers.
Logarithms and their properties.
Permutations and combinations, binomial theorem for a positive integral index, properties of binomial coefficients.
Matrices as a rectangular array of real numbers, equality of matrices, addition, multiplication by a scalar and product of matrices, transpose of a matrix, Determinant of a square matrix of order up to three, inverse of a square matrix of order up to three, properties of these matrix operations, diagonal, symmetric and skew-symmetric matrices and their properties, solutions of simultaneous linear equations in two or three variables.
Addition and multiplication rules of probability, conditional probability, Bayes Theorem, independence of events, computation of probability of events using permutations and combinations.
TrigonometryTrigonometric functions, their periodicity, and graphs, addition and subtraction formulae, formulae involving multiple and sub-multiple angles, general solution of trigonometric equations.
Relations between sides and angles of a triangle, sine rule, cosine rule, half-angle formula and the area of a triangle, inverse trigonometric functions (principal value only).
Analytical GeometryTwo dimensions: Cartesian coordinates, the distance between two points, section formulae, the shift of origin.
Equation of a straight line in various forms, angle between two lines, a distance of a point from a line; Lines through the point of intersection of two given lines, equation of the bisector of the angle between two lines, concurrency of lines; Centroid, orthocentre, incentre and circumcentre of a triangle.
Equation of a circle in various forms, equations of tangent, normal and chord.
Parametric equations of a circle, the intersection of a circle with a straight line or a circle, equation of a circle through the points of intersection of two circles and those of a circle and a straight line.
Equations of a parabola, ellipse, and hyperbola in standard form, their foci, directrices and eccentricity, parametric equations, equations of tangent and normal.
Locus problems.
Three dimensions: Direction cosines and direction ratios, equation of a straight line in space, equation of a plane, a distance of a point from a plane.
Differential CalculusReal valued functions of a real variable, into, onto and one-to-one functions, sum, difference, product and quotient of two functions, composite functions, absolute value, polynomial, rational, trigonometric, exponential and logarithmic functions.
Limit and continuity of a function, limit, and continuity of the sum, difference, product and quotient of two functions, L’Hospital rule of evaluation of limits of functions.
Even and odd functions, the inverse of a function, continuity of composite functions, the intermediate value property of continuous functions.
A derivative of a function, a derivative of the sum, difference, product and quotient of two functions, chain rule, derivatives of polynomial, rational, trigonometric, inverse trigonometric, exponential and logarithmic functions.
Derivatives of implicit functions, derivatives up to order two, geometrical interpretation of the derivative, tangents, and normals, increasing and decreasing functions, maximum and minimum values of a function, Rolle’s theorem and Lagrange’s mean value theorem.
Integral CalculusIntegration as the inverse process of differentiation, indefinite integrals of standard functions, definite integrals and their properties, fundamental theorem of integral calculus.
Integration by parts, integration by the methods of substitution and partial fractions, application of definite integrals to the determination of areas involving simple curves.
Formation of ordinary differential equations, solution of homogeneous differential equations, separation of variables method, linear first-order differential equations.
VectorsAddition of vectors, scalar multiplication, dot and cross products, scalar triple products and their geometrical interpretations.

JEE Advanced 2020 Admit Card

IIT Delhi will release JEE Advanced Admit Card 2020 in the month of May 2020 on the official website @ jeeadv.ac.in. Students who successfully complete the application form will be able to download JEE Advanced Admit Card. Follow the following steps to download admit card:

  • Step – 1: Visit the official website.
  • Step – 2: After that enter your JEE Advanced 2020 registration number, date of birth, mobile number, email id.
  • Step – 3: Click on the submit after entering all the details.
  • Step – 4: On-screen JEE Advanced Admit Card will appear.
  • Step – 5: Check on all the details thoroughly.
  • Step – 6: Download the admit card from the official website and take a printout for future references.

Students need to check all the details, in case of any mistakes on the admit card students need to contact the exam authorities.

  • Candidates’ Name
  • Roll Number for JEE Advanced 2020
  • Date of Birth
  • Address for correspondence
  • Category
  • Status of Person with Disability
  • IIT Zone
  • Centre Code
  • Candidates’ Photograph
  • Candidates’ Signature
  • Name and address of the exam center allotted
  • Exam date and timings
  • Signature of JEE Advanced 2020 Chairman
  • Instructions to be followed on the exam day.

In case of any discrepancy, while downloading or verifying the details, students were advised to contact the Chairman, JEE Advanced 2020 of that respective Zonal coordinating IIT.

We hope we have provided all the necessary information about JEE Advanced 2020. If you have any doubt regarding this post or JEE Advanced 2020, please comment in the comment section we will get back to you at the earliest.

The post JEE Advanced 2020 | Exam Dates (Announced), Syllabus, Exam Pattern, Admit Card, Result appeared first on Learn CBSE.

PUBG Tips and Tricks

0
0

Dozens of tips and little-known tricks for winning that Chicken Dinner.

PUBG, or PlayerUnkown’s Battlegrounds to those who like to keep it official, is pretty simple on the surface, but it’s a classic example of a game much deeper than it looks.

This PUBG tips page will tackle as much of that depth as possible, from beginners PUBG tips to a more advanced guide to the game.

PUBG beginners guide: How Battlegrounds works and how to survive until the end game

There are so many little tips and tricks worth knowing for PUBG that we’ve decided to compile one big ol’ list of them right here, splitting them up into the relevant categories so you can choose to skip ahead, or just browse at your leisure.

Before diving in though, it’s worth talking a little about how to approach PUBG matches in general, especially if you’re a newcomer or just looking to learn the game a little better.

How Battlegrounds works

PUBG is not your typical shooter. The aim is to survive, not to get the most kills – in fact you can win without getting a single one – so your usual shooter strategy needs to adapt.

The prevailing meta, so to speak, is stealth. In fact, many of the highest-ranking players who are aiming to compete at upcoming tournaments simply rely on ‘boring’ stealth strategies, like hiding offshore on boats, to see them through to the final gunfight at the end of a round. The argument goes that everyone else will kill each other anyway, so why expose yourself to the risk?

PUBG Tips and Tricks Guide

But that’s not the whole story – combat, for starters, is great practise. PUBG’s combat mechanics are a little odd and mastering those makes a massive difference to how many final-10 situations you’ll win.

Likewise, mid-game kills are a great way to take your gear from passable to excellent. And finally, if you do get spotted hiding in a bush, it helps to know how to shoot the one who found you.

The general flow of a game then is roughly as follows:

  • You’ll spawn in the plane, and need to choose somewhere to land. We’ve put together a dedicated guide on the best PUBG loot locations on Erangel and Miramar, as well as specific pages on the Erangel map and Miramar map, too, but the short version here is that you want to avoid high-traffic areas like major towns and cities, and find a safe little spot to loot some weapons and equipment on your own.
  • Then, when you’re all set (or run out of things to loot before the electrical field starts getting close) it’s a case of going where the white circle is. You’ll need to find safe points to rest, loot, and defend yourself along the way, while the player count gradually drops, until you ideally reach the last 10 or 15 players.
  • At that point, most people’s strategies go out the window, but hopefully that’s where the final part of this page comes in most handy, where we go through not only the useful stuff for the early and mid game, but some advanced tips for winning that final fight to the death.

There’s obviously a lot more to just the above, which our tips below can help with.

Tips And Tricks To Survive The End Game In PUBG Mobile

Getting an early advantage might be easy, however, you have to know how to capitalize on that advantage in order to win the chicken dinner.

The early stages of PUBG Mobile can be pretty easy, as you can just lurk around and occasionally kill an enemy or two. It is a bit harder after that, however, as the playing field shrinks. You would have to face enemies from all sides, sometimes without respite. The last 20 players of a match are always the hardest challenge any PUBG player has to overcome to get the ultimate victory.

The late game in PUBG is vastly different from the early stages of the match, as all the best players equipped with the best gears get crammed into a small area. Coupled with all the excitements and nerves from being in the final zones, beating the last stage is a huge challenge that only the best of the best could accomplish.

This guide will help you in planning ahead for situations that could happen, and with that, your chance of victory would be improved heavily.

Be careful when using vehicles

Vehicles are loud and obnoxious
Vehicles are loud and obnoxious

This might sound weird, as in order to get to the final zone, most of the time you would have to use a vehicle. It could be your doom, however.

As soon as you start the engine, any players nearby would be alerted by the noise – they would have the information to track your location. If the playing area left is too small, it would be very easy to shoot you down, as a car is a huge target.

If you have been using a vehicle to get to some area, it is best to stop just outside then walk in. With this approach, the other players inside the zone might not be able to spot or hear you.

Don’t Shoot Without a Plan

Wait for the enemy to get out of cover first
Wait for the enemy to get out of cover first

This tip is similar in nature to the previous one, as the first person to start shooting would draw all the attention of people nearby.

During the later stages of the game, it is best that you try to regulate the number of shots you take. If you encounter another player, don’t immediate shoot at them, unless you are confident in your ability to get an instant kill. Sustained firefights would put you in a massive disadvantage.

Furthermore, if you are stuck in that type of firefights, it is best to stop firing and retreat.

Try to keep your health bar as high as possible

Try to heal yourself as often as possible
Try to heal yourself as often as possible

During the later stages in which every player has the best loadouts possible, one hit point could make a great difference. If you have full health at all times, your chances of surviving the fight would definitely increase.

It is important to utilize energy drinks and painkillers, as you would be able to run faster with a full energy bar and slowly heal back if you have taken chip damage. As the guide has stated above, every little thing can make a difference.

Get a good cover spot

Indoor covers are the best
Indoor covers are the best

The deciding factor in any PUBG match is your ability to find good covers. The best locations are the ones with the least exposed angles. It can either be a rock, a fence, inside a building, or even behind a vehicle.

Once you have gained access to a good cover, it is time to survey the immediate area to gain more information about nearby hostiles.

Always be wary of the next play area

Get to the next play area first is very important
Get to the next play area first is very important

Try to keep an eye on the remaining time that the current play area has and where the next area would be. With that, you would be able to evacuate on a moment’s notice. It is rather easy to overlook this because of the late-game pressure.

If you forgot the circle or get delayed by a fight, you would put yourself in a huge disadvantage. Firstly, the end game circle has very high damage – getting hit by that would often be fatal. Secondly, the enemies would be able to get to the covers before you and set up an ambush.

Don’t underestimate your enemies

Some strategies would not work in the late game
Some strategies would not work in the late game

During the early game, it is ok to just run from cover to cover while speeding across an open area. However, this should be avoided in the late game.

At this point, players are trying way harder to look for enemies – and if you walk around without sufficient intel, the chance to one of many enemies to detect your location would be way higher.

It is best to just stay camping inside a decent cover. The only time that you should go out is for moving to the next safe zone.

If you are going to move, try to create a plan about how you would accomplish that with the least risk possible. Pick a route that would allow you to stick to covers at all times so that you would be able to hide when under fire.

Don’t be greedy with loot

Loot is not as important in the late game
Loot is not as important in the late game

Looting at the end game is very risky, as every time you are on the loot screen, you would be distracted and vulnerable. You should only risk it if you are desperately in need of ammo, armor or meds.

The best source of loot in the late game is players. However, it is a bad idea to go for the loot right after that player is dead. During the end game, most players would be very aware of their surroundings. If there is a body with loot lying on the ground, chances that there are already campers who are watching the spot.

It is best to wait for a while before checking out the kill. Only go for the loot if you are sure the area is safe.

PUBG beginners tips for mastering Battlegrounds

PUBG can get a little overwhelming, especially for beginners, so here’s a rundown of the basics that you need to know – and some useful stuff that it really helps to get to grips with early – before we start diving into the more advanced strategies.

Mastering the essentials: setting up and basic controls

1. Remember to put away your weapon (the X key on PC), meaning you can sprint six per cent faster.

2. In the pre-game, take off your shoes! Barefoot running is the same speed as running with shoes, but you’re noticeably quieter on most surfaces.

3. To refuel, the vehicle needs to be completely static, but you can still refuel from within the car by right-clicking the cannister in your inventory.

4. Use map markers at all times, and call out specific directions (numbers as well as North/South/East/West) when in a team.

5. You can stay in the game’s voice chat, but set your own chat to party-only – occasionally you’ll overhear enemy teams who forgot to set theirs to private.

6. Remember to toggle your rate of fire with the B key or left on the d-pad on console.

7. There are not two, but three types of aiming. Hip fire, a more accurate hip-fire (holding right mouse-button), and aiming-down-sights (‘ADS’, by tapping right mouse-button). You’ll also be able to change the settings to go straight to ADS by holding right-click rather than toggling it on/off.

Mastering the essentials: strategies and priorities

8. Big towns under the flight path are dangerous places to start, but normally have better loot. For the best chance of success, find small clusters of buildings right at the edge of parachuting range, or use one of the other more detailed, situational strategies to get even better loot, which you’ll find in our Erangel map article.

9. The key things you want to find as soon as possible are the good-in-most-situations assault rifles (ARs), a backpack, a bulletproof vest, healing items, and a helmet – the higher level for these items, the better.

10. All doors in the game start closed. If a door is open, someone’s been there. If you leave a door open, you’re telling the world you’ve been there too.

11. There is fall damage, which occurs from jumping around two stories, with more damage the higher the fall.

12. If you take fire from range and don’t know where it’s from, don’t go prone – you just make yourself a sitting duck right in the enemy’s line of sight. Instead, zig-zag and sprint until you get to cover and break line of sight. Getting over the brow of a hill is great for this, as is the classic “cheese it!” strategy in a vehicle (just drive away really fast).

13. Always clear buildings (unless you’re very rushed) before looting. It’s very easy to bait people into feeling secure by leaving loot on the ground, then shoot them in the back.

14. When fighting multiple enemies, ignore any that you down. They can’t get up unless rescued, so prioritise the ones who can still attack you.

15. Vehicles are great at covering large distances at speed, but draw huge amounts of attention with their noise. Use them wisely.

16. Vehicles will roll down hills, and explode when they hit things at speed. Park sideways on sloped terrain to stop them rolling away, and if you crash get away from the vehicle ASAP.

(Bonus tip – don’t do what we did here:)

17. Not all scopes work with all guns – you can’t put the 8x Scope on the M16 for instance, which was made an exception for balance purposes. Likewise you can’t put an 8x on SMGs.

18.Learn which helmets can take which amount of damage – a Kar98, the most commonly found and used sniper, can kill you instantly with a headshot if you have a Level 2 helmet or below, but a level 3 helmet can take a hit. Note what helmet opponents have before you start trading sniper fire, as there’s no point if you’re at a disadvantage.

19. After the beginning the game, pistols are almost completely pointless – only keep one if you either have the automstic pistol (P18C), which works like an SMG, or if you don’t have good weapons or much ammo for them – otherwise, pistol ammo is wasting precious inventory space.

20. Damaged high-level armour is actually often worse than undamaged low-level armour. Look at the number next to it in your inventory for a comparison.

21. Avoid bridges like the plague if you need to cross one to get into the safe zone – there are almost always bridge trolls (people waiting on them to kill you) when a bridge is a necessary route. Get there early, swim, or find a boat instead!

22. Always move, even when looting or camping, just a little bit – it stops someone picking you off with an easy headshot, which happens surprisingly often. Just wiggle side to side or keep crouching and standing up.

More controls and PC hotkeys you’ll need to memorise:

For controller layouts to familiarise yourself with all controls, visit our PUBG Xbox One controls article.

23. Hold ‘Alt’ or hold RB on Xbox to look around without moving – great if you’re camping, and also while falling from the plane.

24. You can dive underwater by holding ‘C’ while swimming (B on Xbox), and rise to the surface by holding ‘Space’ (A on Xbox).

25. Toggle seats in a vehicle with ‘Ctrl+1/2/3/4/5/6’, with ‘Ctrl+1’ taking you to the driving seat. On Xbox, this is tapping A, or holding for the driver seat.

26. On PC, you can auto-sprint by pressing ‘=’

27. Lean left with ‘Q’, or right with ‘E’, while aiming, or click in the sticks while aiming on Xbox. Use these to look and shoot around walls without exposing as much of yourself. High-level players also lean mid-combat to make themselves more awkward to hit.

28. Hold ‘Shift’ or the left trigger to boost vehicles.

29. Use a vehicle’s handbrake for a more aggressive turn or break with ‘Space’ or the Y button on Xbox.

30. Control motorbikes in the air by holding down ‘Space’ + ‘Left Ctrl’.

31. Toggle first and third person by pressing ‘V’ on PC or RB on Xbox.

32. Hold your breath while aiming with ‘Shift’ or LB on Xbox (only in ADS).

33. Watch your bullet drop while aiming by holding ‘Left Mouse-Button’ to shoot instead of tapping it.

34. Change weapon zeroing (when the weapon/sight permits, for use over different long ranges) with ‘Page Up’ and ‘Page Down’, or the d-pad while aiming on Xbox.

35. Cycle straight to your Grenade with ‘G’ as well as cycling all weapons with ‘Mouse Wheel’. On Xbox, this is by holding the right trigger.

36. Healing items are mapped to ‘7’, ‘8’, ‘9’, and ‘0’ by default – you don’t need to open your inventory screen to use them. On Xbox, this is by holding down on the d-pad, and you can tap to change the active consumable.

37. You can roll grenades with an under-arm throw with by holding ‘Left Mouse-Button’ and then ‘Right Mouse-Button’ to throw.

38. You can disable the HUD entirely if on-screen markers get in your way, by pressting ‘Ctrl+U’.

Teamfight Tactics guide

PUBG advanced tips for using medkits and grenades, and surviving combat and the final 10

Strategies for moving around the Battleground

39. With the arrival of version 1.0, you won’t need to master the crouch-jump, as vaulting should take its place. That said, it’s worth toggling the ‘Vault’ command to something other than the regular ‘jump’ (Spacebar) button, because there are certain things you can only scale the old-fashioned way. Learn what heights you can vault and scale for when you’re in a pinch.

40. Climb onto a roof from a balcony using Crouch-jump, by first opening the door, crouch-jumping onto it, and again from the top of the door to the roof. Great for sniping! Here’s an example.

41.You can also make more difficult jumps between roofs by crouch-jumping onto railings or raised areas and running along them, too.

42. You can shoot the M16 like a rapid-firing automatic weapon by using its burst fire mode, controlling the recoil and timing your clicks perfectly to do seriously fast DPS.

How to get the most out of your Medkits

43. There are only two ways to heal yourself back to 100 per cent – the very rare Medkit, which instantly heals you to 100 per cent after 10 seconds, and ‘boost’ items like Energy Drinks and Painkillers, which will heal you over time.

44. Both bandages and First Aid Kits get your back to 75 per cent health, but First Aid Kits work instantly after the seven seconds of application, whilst bandages require multiple applications and heal over time, taking up to about a minute. Use bandages early on, when in a safe location, and save First Aid kits for a helping hand during late-game firefights.

45. A great tip from player xTyler73’s excellent reddit guide – there is an optimal way to use bandages that lets you get more health out of them than you would from just spamming. Healing from bandages happens over time, with your healthbar ticking up from the red to fill up the white. On the third tick of the health going up, start using the next bandage, for the most efficient use of time and resources.

46. Speaking of which, when a healing item you’re using is down to 0.5 seconds left on the timer, you can start moving without cancelling it, and you can now use healing items as a passenger in vehicles, but only when the vehicle is steady (so note when your mate’s slamming it into trees and over hills…)

PUBG grenade tips and inventory tricks

47. Different items take up different amounts of space in your inventory – First Aid Kits are bigger than bandages, for example. But this also applies to different types of grenades, with Frags smaller than Smoke and Stun grenades for example.

48. You can carry more by equiping the larger items, as equipped items and ammo that’s loaded into your gun don’t take up inventory space. If you want to free up a Frag-sized space for example, equip your Smoke or Stun grenade – but beware, if your inventory is full, you then won’t be able to swap it out for the Frag without using or dropping something!

49. Contrary to popular belief, you can in fact put a pin back in a Frag grenade in Battlegrounds. To do so, open your inventory and drag the grenade from the grenade slot in the bottom right, to your storage column on the left.

PUBG combat tips: how and when to hide or engage

50. Sneaking your way into the final few players is absolutely a good strategy – but it won’t help you master the subtleties of combat. If you want to learn the feel of weapons and fighting, then spend a few games spawning in busy spots, as it’ll pay off in the long run.

51. If you do want to stealth your way to the win, hiding offshore in a boat, ideally behind a cliff where no one is likely to go looking, is a fantastic way to avoid being spotted. With some spare fuel, you can normally speed your way to many safe zones on the map.

52. Jumping whilst melee attacking makes headshots easier, and yes, headshot punches do considerably more damage.

53. If someone starts attacking you with their bare hands, always fight it out. If you can land a headshot or two you can win the fight even if they get a headstart on working you over!

54. Generally when trying to win a game, unless you’re looking for practise, just avoid combat. The rule of thumb is to only engage if you’re near certain you can win the fight, or if you’re unable to flee. This includes sniping people – don’t take the shot unless you can also get the kill, otherwise you’ve given yourself away.

55. Speaking of fleeing, it is easier than you might think. Zig-zag if you’re on foot, and think in terms of breaking line of sight. People will only bother chasing you down under specific circumstances. This is especially true if you’re in a vehicle – there’s no point in hopping out to fight if you’ve already been knocked down to low health, just floor it!

56. Having bad gear is really not the end of the world, so don’t get greedy – what matters is how you adapt to what you have: if all you have is a Shotgun or SMG, then try to camp inside buildings and confined areas. If you just have a crossbow and a decent scope, avoid buildings like the plague and find a high spot for sniping. All it takes is one kill for you to gain a significant amount of loot!

57. If you’re hiding in one of the little wooden huts and spot an incoming enemy, bursting out of the hut and firing at them is often better than waiting in there. If they’re smart, they’ll either know someone’s in there or try to clear it out with a grenade or shoot through the wooden door first. The element of surprise normally works better.

PUBG Tips and Secrets Guide

PUBG combat tips: when you know you’re in for a fight

58. Take time to master the art of leaning, or ‘peeking’, around corners with Q and E (or clicking in the sticks on console) during combat, and note that leaning to the right (if you’re using the camera over the right shoulder) exposes less of your body than the opposite direction.

59. If you know a fight is coming, or need to sprint across a dangerous open area, use a ‘boost’ item like Painkillers or Energy Drinks, as the healing over time and extra speed can be crucial.

60. Long grass only renders at less than 150 metres away, but players render from far greater distance – which means if you’re relying on long grass as cover, a sniper can spot you easily at long range.

61. Using the Alt button (or holding RB and moving the left stick on Xbox) to look around whilst still in cover is perfect for ambushes, but beware your character model does still move a tiny bit when you release it, which can make you stand out when pretending to be a bush.

62. Loot, especially healing equipment like First Aid kits, makes for perfect bait. Leave some on the floor in the middle of a room, and enemies who enter will assume the building is safe, making them easy to quickly pick off.

63. Figure out which way the door swings inwards into your room if you’re camping inside a building. Hide to the side of the door that it opens, so players need to come in, turn around, and shut the door to actually spot you, giving you the edge to kill them before they do.

64. The opposite goes for those entering buildings to clear them – always check 360 degrees around you right after entering, and don’t assume a bit of loot means the whole thing’s safe!

65. Grenades are perfect for clearing small huts (if you can get one through the little windows) and buildings where you suspect someone is camping.

66. Save Smoke grenades though – they give away your position and the smoke renders differently for two players, so what might be obscuring your vision could be completely clear for the enemy, and vice versa. Only use for cover or distraction in emergencies.

67. ADS (aiming down sights) is generally more favourable than hip fire in almost every situation. Only rely on Shotguns and SMGs with hip-fire, as the spread is much smaller.

Advanced PUBG tips for how to win Battlegrounds in the late-game and final 10

Advanced PUBG tips for how to win Battlegrounds in the late-game and final 10:

68. When you get to the smaller safe zones, normally around the last 10 or 15, you want to try and quickly eliminate anyone you see first – if they survive, it’s only a small area, so you’re likely to bump into them again later and there’s no guarantee they won’t get the drop on you instead.

69. There are two main strategies for how you arrive to the final zone. If you’re sure you can get there as one of the first, then do so as soon as possible and set up in a position where you know at least one flank is secure – be that a little rock, or an interior wall with no windows.

70. If you’re getting there late, it can be better to wait it out at range before making your move. Keep one eye on the blue circle, and play around the edges of the area. Someone may be watching your direction as you approach, but if the safe zone’s small, a dozen or so people are left, and you’re the furthest one away, then they’ll probably have other enemies to prioritise.

71. Your knowledge of the terrain is crucial here. Be sure to learn the map as best you can – our Erangel map, Miramar map and best PUBG loot locations guides can help with that – and consciously choose where to go for a reason, rather than on impulse.

72. If you get to a safe location early, and have some decent long-range weapons, try camping any buildings that are just outside the safe zone (by which we mean camping somewhere safe and looking at the buildings, not camping in them!) Keep a close eye on any doors and windows, and as the blue circle starts to close in, players will be forced out of hiding and into the open for you to pick off.

73. Trees aren’t great cover. A forest is good visual cover if you need to move long-ish distances, but it’s easy to forget that hiding behind a narrow tree still leaves you exposed on three sides – and your vision’s heavily impared by the trunk in front of you anyway. Use them as a last resort!

74. When you get to the final three, if you’re undiscovered, stay that way. Don’t engage unless the kill is absolutely guaranteed, because the other two could easily wound and/or kill each other without you needing to risk death yourself. They’ll also give away their positions in the process, which means you of course know where they are for the final face off.

Best of luck getting those Chicken Dinners!

Articles on PUBG Mobile

 

The post PUBG Tips and Tricks appeared first on Learn CBSE.

PUBG Mobile: Amazon Prime Members Get Exclusive In-Game Rewards

0
0

Claim PUBG Mobile Loot Drops, available on iOS and Android exclusively for Amazon Prime members:

Survive epic 100-player battles in style with the exclusive Infiltrator skin, as well as the limited time epic gun and parachute.

In-game loot for Amazon Prime PUBG Mobile players includes Infiltrator Mask, Jacket, Pants, and Shoes, brand-new Blood Oath – Kar98K and Black Magma Parachute.

Amazon Prime subscribers will now reportedly be able to claim free in-game loot on certain mobile games, starting with PUBG Mobile. In an announcement made on September 20, Amazon announced that its Prime members will be able to receive free mobile game content. The company has already provided Twitch Prime benefits, available for PC and console gamers. The in-game items launched on PUBG Mobile include an exclusive Infiltrator Mask, Infiltrator Jacket, Infiltrator Pants, and Infiltrator Shoes along with brand-new Blood Oath – Kar98K and Black Magma Parachute. Amazon has also said that it will roll out new mobile gaming content on an ongoing basis, going forward, as part of the Prime membership program. In the coming days, the company will include games from partners like EA, Moonton, Netmarble, Wargaming Mobile, and others.

In an official statement, Ethan Evans, the VP for Twitch Prime, said, “Now, no matter what platform you play on, whether console, PC, or mobile, there are Prime game benefits for you. We’re starting with exclusive content for PUBG Mobile, one of the biggest mobile games in the world, and in the coming months, we’ll roll out benefits for some of the most popular mobile games across many favourite genres.” PUBG Mobile players can currently claim the first loot drop, which consists of the wearable Infiltrator Mask. For this, they need to visit this webpage for Amazon Prime on an iOS or Android device that has PUBG Mobile installed in it.

PUBG Mobile Loot Drops can only be claimed on mobile. To claim your content today, please visit www.amazon.com/PUBGM using an iOS or Android device.

Here is a list of items on offer and the dates to claim them:

Drop 1: 20th of September until 3rd of October – Infiltrator Mask

Drop 2: 4th of October until 17th of October – Infiltrator Jacket

Drop 3: 18th of October until 31st of October – Infiltrator Shoes

Drop 4: 1st of November until 14th of November – Infiltrator Pants

Drop 5: 15th of November until 28th of November – Epic Level Gun, Blood Oath – Kar98K

Drop 6: 29th of November until 12th of December – Epic Level Black Magma Parachute

PUBG Mobile यूजर्स के पास अगर Amazon Prime मेंबरशिप है तो वे अब कई फ्री इन-गेम कंटेंट को एक्सेस कर सकेंगे। Amazon ने घोषणा किया है कि प्राइम मेंबर्स को अब लीडिग मोबाइल गेम पब्लिशर्स की तरफ से मोबाइल गेम बेनिफिट्स भी मिलेगें। इसके लिए Amazon ने PUBG Mobile के साथ साझेदारी की है। अब जिन यूजर्स के पास Amazon Prime मेंबरशिप है और वो PUBG Mobile गेम भी खेलते हैं, तो उनको कई इन-गेम आइटम्स का लाभ मिलेगा, जिसें एक्सक्लूसिव स्टील्थी इनफिल्ट्रेटर मास्क शामिल हैं। इसके अलावा इनफ्लिट्रेटर जैकेट, इनफ्लिट्रिटर पैंट्स, इनफ्लिट्रेटर शूज और ब्रांड न्यू ब्लड ओथ- काराबानर 98K और ब्लैक मैग्मा पैराशूट शामिल हैं।

PUBG Mobile इस समय दुनियाभर में सबसे ज्यादा खेले जाने वाला मोबाइल गेम है। इसके भारत में भी करोड़ों यूजर्स हैं। Amazon ने ये घोषणा Apple Arcade गेमिंग सर्विस के लॉन्च होने के बाद की है। Apple Arcade गेमिंग सर्विस के जरिए iOS13 यूजर्स इस गेमिंग सर्विस का लाभ ले सकेंगे। Amazon Prime यूजर्स को PUBG Mobile के ये इन-गेम आइटम्स अक्टूबर से मिलने शुरू हो जाएंगे।

PUBG Mobile Lite के लिए 0.14.1 अपडेट जारी कर दिया गया है। इस लेटेस्ट अपडेट के साथ यूजर्स को गोल्डन वूड्स मैप, नए आर्केड मोड जैसे फीचर्स मिलेंगे। नया आर्केड मोड एक तरह का स्पेशल वॉर मोड है जिसमें यूजर्स RPG-7 के जरिए फाइट कर सकेंगे। इस लेटेस्ट अपडेट में गोल्डन वूड्स मैप मिलेगा, जो कि एक स्मॉल टाउन सेटिंग्स वाला मैप है। इस नए मैप मे टाइट मैच खेले जा सकेंगे। इसके अलावा प्लेयर्स को कई इंटेंस कॉम्बैट सिनेरियो भी मिलेंगे।

Articles on PUBG Mobile

The post PUBG Mobile: Amazon Prime Members Get Exclusive In-Game Rewards appeared first on Learn CBSE.

Savitribai Phule Scholarship | Eligibility, Benefits, and Application Process 

0
0

Savitribai Phule Scholarship: Savitribai Phule Scholarship is an initiative of the Social Justice and Special Assistance Department, Government of Maharashtra. The scheme is available to only the girl students of SC/VJNT/SBC categories. The backward class girl students of Maharashtra state can apply for this scholarship. This scholarship offers financial support to economically backward girl candidates. So that these candidates can enroll and complete their education. Maharashtra Education Department provides financial help to girls for improving education. This scholarship initiated to encourage girls for education.

Application for this Scholarship releases on the website of Aaple Sarkar DBT portal. Candidates can also apply through their respective school to avail the scholarship benefits. Candidates can fill the application and apply in the last week of December 2019. The article below provides complete information about Savitribai Phule Scholarship.

Savitribai Phule Scholarship

Savitribai Phule Scholarship helps girl students from lower-income families to continue their schooling. This scholarship is for the girls who belong to reserved categories. Also, girls under the poverty line can avail the benefits of this scholarship. This scheme empowers the girl candidates from the deprived section of the society to undertake education.

The objective of this scholarship is to provide an award in the form of financial support to SC/SBC/VJNT students. This scholarship organized by Maharashtra Government for the SC/SBC/VJNT girl students who are not able to fulfill their dreams. These students can complete their schooling under this scheme without any financial hassle.

Savitribai Phule Scholarship Overview

ParticularsDetails
Conducting BodyThe Social Justice and Special Assistance Department of the Government of Maharashtra State
Scholarship NameSavitribai Phule Scholarship
AwardsThe selected candidates get the amount of up to Rs.100 per month
Deadline of Savitribai Phule Scholarship Application SubmissionLast Week of December 2019
Educational QualificationClass 5th to 10th
Scholarship TypePre Matric Scholarship
Applicable StateMaharashtra
Websitemahadbtmahait.gov.in

Scholarships for Students

Savitribai Phule Scholarship 2019 – Eligibility Criteria

Candidates must fulfill the following eligibility criteria to apply for Savitribai Phule Scholarship

  • Only girl candidates of Maharashtra are eligible for this scholarship.
  • Candidates must belong to SC, VJNT or SBC category.
  • Candidates must be studying in 5th to 10th class in recognized Government schools.
  • Candidates must have passed the previous year’s examination.

Savitribai Phule Scholarship 2019 – Selection Process

The Selections for Savitribai Phule Scholarship are made on the basis of merit. Girl candidates will be shortlisted based on their performance and hardworking skills. The final selection depends on the decision of the Assistant Commissioner of Social Welfare. The Assistant Commissioner has the right to cancel the scholarship without any notice. The Assistant Commissioner verifies the application and shortlists the candidates for scholarship. The shortlisted girl candidates will receive the amount as per the sanctioned fund. The scholarship amount will be transferred directly into the shortlisted candidate’s bank account.

Savitribai Phule Scholarship 2019 – Benefits

The shortlisted candidates get financial help from the Govt. of Maharashtra to complete their school education. Refer the below award details of Savitribai Phule Scholarship

CategoryScholarship AmountDuration
Students studying in class 8th to 10thRs.100 per month10 months
Students studying in class 5th to 7thRs.60 per month10 months

Savitribai Phule Scholarship 2019 – Application Process

The application for this Scholarship releases on the official website of Aaple Sarkar DBT portal. It is a unique platform run by the Govt. of Maharashtra to assist its people for receiving the benefits of different schemes. But, candidates should have an Aadhar number link to this portal to apply through this portal. Candidates can fill and submit the application in the last week of December 2019. Candidates can apply for this scholarship in both online and offline mode. Candidates must read the instructions carefully before filling this scholarship application. Make sure to keep ready all the relevant documents before filing the application. Refer to the below points of online as well as the offline application for this scholarship.

Online Application Process

  • Visit the official website mahadbtmahait.gov.in.
  • Click on “Pre Matric Scholarship” to apply for Savitribai Phule Scholarship.
  • Click on “New Applicant Registration” appeared on the home page.
  • Enter the Aadhar number and authenticate Aadhaar by selecting OTP. Fill the necessary details to create user Id and password to login to this portal.
  • Log in to this portal and complete the registration process. Then, apply online for this scholarship.
  • Fill the scholarship application with accurate and necessary details in capital letters.
  • Recheck the filled application to avoid rejection by higher authorities during verification.
  • Upload scanned copies of the relevant documents to apply online for this scholarship.
  • Then, submit the filled application to be selected for Savitribai Phule Scholarship.

Offline Application Process

  • The eligible girl candidates can apply for this scholarship only through their respective school.
  • Interested candidates have to contact directly to their school Principal or Head Master.
  • After this, the HeadMaster will select the list of eligible candidates.
  • Then, submit the list to the Assistant Commissioner of Social Welfare of the respective district for sanction.

Savitribai Phule Scholarship 2019 – Checklist of Documents

Candidates must attach the relevant documents along with the application. The following are the list of relevant documents to apply for Savitribai Phule Scholarship.

  • Candidates caste certificate issued by the competent authority
  • Attested copies of mark sheets of last appeared examination
  • A photocopy of the first page of the candidate’s bank passbook
  • A photocopy of Aadhar Card
  • Xerox copy of domicile certificate
  • Candidates one recent passport size photograph
  • Age proof (class 10th mark sheets or birth certificate)
  • Residential Proof (Electricity Bill/ Voter ID/ Aadhar Card/ Ration Card/ Driving License etc.)

Savitribai Phule Scholarship 2019 – Renewal

Candidates who have already registered for Savitribai Phule Scholarship must renew it every year. Candidates application renewal depends on the performance in each year’s annual exam. Candidates must have passed the previous year’s examination to renew the scholarship. If the candidate’s performance is satisfactory then they will be considered to avail the benefits of this scholarship. Candidates can modify the existing application and submit for renewal.

Savitribai Phule Scholarship 2019 – Contact Details

In case of any queries related to this scholarship contact on the below details:

Phone022-22025251/022-22843665/220231652
AddressSocial Justice and Special Assistance Department, Annex Building, 1st Floor, Mantralaya, Hutatma Rajguru Chowk, Nariman Point, Mumbai-400032, Maharashtra
Email IDmin.socjustice@maharashtra.gov.in, mahadbt.helpdesk@maharashtra.gov.in

FAQ’s on Savitribai Phule Scholarship 2019

Question 1.
Why should apply for Savitribai Phule Scholarship?

Answer:
This scholarship offers financial support to economically backward girl candidates. So that these candidates can enroll and complete their education. This scholarship initiated to encourage girls for education. So, girls who desire to fulfill their dreams should apply for this scholarship.

Question 2.
Is Savitribai Phule Scholarship available for all category candidates?

Answer:
No, this scheme is available for the girl candidates of SC/VJNT/SBC categories.

Question 3.
Is Savitribai Phule Scholarship open to all states?

Answer:
No, Savitribai Phule Scholarship is open to only girl candidates of Maharashtra State.

Question 4.
What is the deadline to submit the Savitribai Phule Scholarship application?

Answer:
The deadline for submitting the application is the last week of December 2019.

Question 5.
How much amount will be paid to the shortlisted candidates?

Answer:

  • Candidates studying in class 5th to 7th will get the scholarship amount of Rs. 60/- per month for 10 months. However,
  • Candidates studying in class 8th to 10th will get the scholarship amount of Rs. 100/- per month for 10 months.

Hope this article will help you to know more about Savitribai Phule Scholarship. For any queries related to Savitribai Phule Scholarship, leave it in the comment box to get in touch with us.

The post Savitribai Phule Scholarship | Eligibility, Benefits, and Application Process  appeared first on Learn CBSE.

CBSE Class 10 Hindi A Unseen Passages अपठित गद्यांश

0
0

CBSE Class 10 Hindi A Unseen Passages अपठित गद्यांश

अपठित बोध

अपठित बोध ‘अपठित’ शब्द अंग्रेजी भाषा के शब्द ‘unseen’ का समानार्थी है। इस शब्द की रचना ‘पाठ’ मूल शब्द में ‘अ’ उपसर्ग और ‘इत’ प्रत्यय जोड़कर बना है। इसका शाब्दिक अर्थ है-‘बिना पढ़ा हुआ।’ अर्थात गद्य या काव्य का ऐसा अंश जिसे पहले न पढ़ा गया हो। परीक्षा में अपठित गद्यांश और काव्यांश पर आधारित प्रश्न पूछे जाते हैं। इस तरह के प्रश्नों को पूछने का उद्देश्य छात्रों की समझ अभिव्यक्ति कौशल और भाषिक योग्यता का परख करना होता है।

अपठित गद्यांश

अपठित गद्यांश अपठित गद्यांश प्रश्नपत्र का वह अंश होता है जो पाठ्यक्रम में निर्धारित पुस्तकों से नहीं पूछा जाता है। यह अंश साहित्यिक पुस्तकों पत्र-पत्रिकाओं या समाचार-पत्रों से लिया जाता है। ऐसा गद्यांश भले ही निर्धारित पुस्तकों से हटकर लिया जाता है परंतु, उसका स्तर, विषय वस्तु और भाषा-शैली पाठ्यपुस्तकों जैसी ही होती है।

प्रायः छात्रों को अपठित अंश कठिन लगता है और वे प्रश्नों का सही उत्तर नहीं दे पाते हैं। इसका कारण अभ्यास की कमी है। अपठित गद्यांश को बार-बार हल करने से –

  • भाषा-ज्ञान बढ़ता है।
  • नए-नए शब्दों, मुहावरों तथा वाक्य रचना का ज्ञान होता है।
  • शब्द-भंडार में वृद्धि होती है, इससे भाषिक योग्यता बढ़ती है।
  • प्रसंगानुसार शब्दों के अनेक अर्थ तथा अलग-अलग प्रयोग से परिचित होते हैं।
  • गद्यांश के मूलभाव को समझकर अपने शब्दों में व्यक्त करने की दक्षता बढ़ती है। इससे हमारे अभिव्यक्ति कौशल में वृद्धि होती है।
  • भाषिक योग्यता में वृद्धि होती है।

अपठित गद्यांश के प्रश्नों को कैसे हल करें –

अपठित गद्यांश के प्रश्नों को कैसे हल करेंअपठित गद्यांश पर आधारित प्रश्नों को हल करते समय निम्नलिखित तथ्यों का ध्यान रखना चाहिए

  • गद्यांश को एक बार सरसरी दृष्टि से पढ़ लेना चाहिए।
  • पहली बार में समझ में न आए अंशों, शब्दों, वाक्यों को गहनतापूर्वक पढ़ना चाहिए।
  • गद्यांश का मूलभाव अवश्य समझना चाहिए।
  • यदि कुछ शब्दों के अर्थ अब भी समझ में नहीं आते हों तो उनका अर्थ गद्यांश के प्रसंग में जानने का प्रयास करना चाहिए।
  • अनुमानित अर्थ को गद्यांश के अर्थ से मिलाने का प्रयास करना चाहिए।
  • गद्यांश में आए व्याकरण की दृष्टि से कुछ महत्त्वपूर्ण शब्दों को रेखांकित कर लेना चाहिए। अब प्रश्नों को पढ़कर संभावित उत्तर गद्यांश में
  • खोजने का प्रयास करना चाहिए।
  • शीर्षक समूचे गद्यांश का प्रतिनिधित्व करता हुआ कम से कम एवं सटीक शब्दों में होना चाहिए।
  • प्रतीकात्मक शब्दों एवं रेखांकित अंशों की व्याख्या करते समय विशेष ध्यान देना चाहिए।
  • मूल भाव या संदेश संबंधी प्रश्नों का जवाब पूरे गद्यांश पर आधारित होना चाहिए।
  • प्रश्नों का उत्तर देते समय यथासंभव अपनी भाषा का ध्यान रखना चाहिए।
  • उत्तर की भाषा सरल, सुबोध और प्रवाहमयी होनी चाहिए।
  • प्रश्नों का जवाब गद्यांश पर ही आधारित होना चाहिए, आपके अपने विचार या राय से नहीं।
  • अति लघूत्तरात्मक तथा लघूत्तरात्मक प्रश्नों के उत्तरों की शब्द सीमा अलग-अलग होती है, इसका विशेष ध्यान रखना चाहिए।
  • प्रश्नों का जवाब सटीक शब्दों में देना चाहिए, घुमा-फिराकर जवाब देने का प्रयास नहीं करना चाहिए।

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए –

CBSE Class 10 Hindi A Unseen Passages अपठित गद्यांश -1

1. आकाश गंगा को यह नाम क्यों मिला?
उत्तर:
आकाश में पृथ्वी से देखने पर आकाशगंगा नदी की धारा की भाँति दिखाई देती है, इसलिए इसका नाम आकाशगंगा पड़ा।

2. पृथ्वी से कितनी आकाशगंगा दिखाई देती है ? उनके नाम क्या हैं ?
उत्तर:
पृथ्वी से केवल एक आकाशगंगा दिखाई देती है। इसका नाम ‘स्पाइरल गैलेक्सी’ है।

3. आकाशगंगा में कितने तारे हैं ? उनमें सूर्य की स्थिति क्या है?
उत्तर:
आकाशगंगा में लगभग बीस अरब तारे हैं, जिनमें अनेक सूर्य से भी बड़े हैं। सूर्य इसी आकाशगंगा का एक सदस्य है जो इसके केंद्र से दूर इसकी एक भुजा पर स्थित है।

4. आकाशगंगा में उभार और मछली की भाँति भुजाएँ निकलती क्यों दिखाई पड़ती हैं ?
उत्तर:
आकाशगंगा के केंद्र में तारों का जमावड़ा है। यही जमावड़ा उभार की तरह दिखाई देता है। आकाशमंडल में अन्य तारे धूल और गैस के बादलों में समाए हुए हैं। इनकी स्थिति देखने में मछली की भुजाओं की भाँति निकलती-सी प्रतीत होती हैं।

5. प्रकाश वर्ष क्या है? गद्यांश में इसका उल्लेख क्यों किया गया है?
उत्तर:
प्रकाशवर्ष लंबी दूरी मापने की इकाई है। एक प्रकाशवर्ष प्रकाश द्वारा एक वर्ष में तय की गई दूरी होती है। गद्यांश में इसका उल्लेख आकाशगंगा की विशालता बताने के लिए किया गया है, जिसकी लंबाई एक लाख प्रकाश वर्ष है।

उदाहरण (उत्तर सहित)

कुछ अपठित गद्यांशों के उदाहरण दिए जा रहे हैं। छात्र इनका अभ्यास करें।
निम्नलिखित गद्यांशों को पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के उत्तर लिखिए –

1. भारत में हरित क्रांति का मुख्य उद्देश्य देश को खाद्यान्न मामले में आत्मनिर्भर बनाना था, लेकिन इस बात की आशंका किसी को नहीं थी कि रासायनिक उर्वरकों और कीटनाशकों का अंधाधुंध इस्तेमाल न सिर्फ खेतों में, बल्कि खेतों से बाहर मंडियों तक में होने लगेगा। विशेषज्ञों के मुताबिक रासायनिक उर्वरकों और कीटनाशकों का प्रयोग खाद्यान्न की गुणवत्ता के लिए सही नहीं है, लेकिन जिस रफ़्तार से देश की आबादी बढ़ रही है, उसके मद्देनज़र फ़सलों की अधिक पैदावार ज़रूरी थी। समस्या सिर्फ रासायनिक खादों के प्रयोग की ही नहीं है। देश के ज़्यादातर किसान परंपरागत कृषि से दूर होते जा रहे हैं।

दो दशक पहले तक हर किसान के यहाँ गाय, बैल और भैंस खूटों से बँधे मिलते थे। अब इन मवेशियों की जगह ट्रैक्टर-ट्राली ने ले ली है। परिणामस्वरूप गोबर और घूरे की राख से बनी कंपोस्ट खाद खेतों में गिरनी बंद हो गई। पहले चैत-बैसाख में गेहूँ की फ़सल कटने के बाद किसान अपने खेतों में गोबर, राख और पत्तों से बनी जैविक खाद डालते थे। इससे न सिर्फ खेतों की उर्वरा-शक्ति बरकरार रहती थी, बल्कि इससे किसानों को आर्थिक लाभ के अलावा बेहतर गुणवत्ता वाली फसल मिलती थी। (Delhi 2015)

1. हमारे देश में हरित क्रांति का उद्देश्य क्या था?
उत्तर:
हमारे देश में हरित क्रांति का मुख्य उद्देश्य था – देश को खाद्यान्न के मामले में आत्मनिर्भर बनाना।

2. खाद्यान्नों की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए किनका प्रयोग सही नहीं था?
उत्तर:
खाद्यान्नों की गुणवत्ता बनाए रखने हेतु रासायनिक उर्वरक और कीटनाशकों का प्रयोग आवश्यक नहीं था।

3. विशेषज्ञ हरित क्रांति की सफलता के लिए क्या आवश्यक मानने लगे और क्यों?
उत्तर:
विशेषज्ञ हरित क्रांति की सफलता हेतु रासायनिक उर्वरक और कीटनाशकों का प्रयोग आवश्यक मानते थे क्योंकि देश की आबादी
बहुत तेजी से बढ़ रही थी। इसका पेट भरने के लिए फ़सल के भरपूर उत्पादन की आवश्यकता थी।

4. हरित क्रांति ने किसानों को परंपरागत कृषि से किस तरह दूर कर दिया?
उत्तर:
हरित क्रांति के कारण किसान खेती के पुराने तरीके से दूर होते गए। वे खेती में हल-बैलों की जगह ट्रैक्टर की मदद से कृषि कार्य करने लगे। इससे बैल एवं अन्य जानवर अनुपयोगी होते गए।

5. हरित क्रांति का मिट्टी की उर्वरा शक्ति पर क्या असर हुआ? इसे समाप्त करने के लिए क्या-क्या उपाय करना चाहिए?
उत्तर:
हरित क्रांति की सफलता के लिए रासायनिक उर्वरकों और कीटनाशकों के प्रयोग से ज़मीन प्रदूषित होती गई, जिससे वह अपनी उपजाऊ क्षमता खो बैठी। इसे समाप्त करने के लिए खेतों में घूरे की राख और कंपोस्ट की खाद के अलावा जैविक खाद का प्रयोग भी करना चाहिए।

2. ताजमहल, महात्मा गांधी और दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र-इन तीन बातों से दुनिया में हमारे देश की ऊँची पहचान है। ताजमहल भारत की अंतरात्मा की, उसकी बहुलता की एक धवल धरोहर है। यह सांकेतिक ताज आज खतरे में है। उसको बचाए रखना बहुत ज़रूरी है।

मजहबी दर्द को गांधी दूर करता गया। दुनिया जानती है, गांधीवादी नहीं जानते हैं। गांधीवादी उस गांधी को चाहते हैं जो कि सुविधाजनक है। राजनीतिज्ञ उस गांधी को चाहते हैं जो कि और भी अधिक सुविधाजनक है। आज इस असुविधाजनक गांधी का पुनः आविष्कार करना चाहिए, जो कि कड़वे सच बताए, खुद को भी औरों को भी।

अंत में तीसरी बात लोकतंत्र की। हमारी जो पीड़ा है, वह शोषण से पैदा हुई है, लेकिन आज विडंबना यह है कि उस शोषण से उत्पन्न पीड़ा का भी शोषण हो रहा है। यह है हमारा ज़माना, लेकिन अगर हम अपने पर विश्वास रखें और अपने पर स्वराज लाएँ तो हमारा ज़माना बदलेगा। खुद पर स्वराज तो हम अपने अनेक प्रयोगों से पा भी सकते हैं, लेकिन उसके लिए अपनी भूलें स्वीकार करना, खुद को सुधारना बहुत आवश्यक होगा (Delhi 2015)

1. संसार में भारत की प्रसिद्धि का कारण क्या है?
उत्तर:
संसार में भारत की प्रसिद्धि के तीन कारण हैं-ताजमहल, महात्मा गांधी और लोकतांत्रिक प्रणाली।

2. गांधीवादी आज किस तरह के गांधी को चाहते हैं ?
गांधीवादी आज उस गांधी को चाहते हैं जो सुविधाजनक है।

3. हमारे देश के लिए ताजमहल का क्या महत्त्व है? आज इसे किस स्थिति से गुजरना पड़ रहा है?
उत्तर:
हमारे देश के लिए ताजमहल का विशेष महत्त्व है। यह हमारे देश की अंतरात्मा की उसकी बहुलता की धरोहर है। आज
प्रदूषण के कारण यह खतरे की स्थिति से गुजर रहा है। इसकी रक्षा करना आवश्यक हो गया है।

4. राजनीतिज्ञ किस गांधी की आकांक्षा रखते हैं ? वास्तव में आज कैसे गांधी की ज़रूरत है?
उत्तर:
राजनीतिज्ञ उस गांधी की आकांक्षा रखते हैं जो और भी सुविधाजनक हो। वास्तव में आज ऐसे गांधी की आवश्यकता है जो खुद को भी कड़वा सच बताए और दूसरों को भी बताए।

5. ज़माना बदलने के लिए क्या आवश्यक है ? इसके लिए हमें क्या करना चाहिए?
उत्तर:
ज़माना बदलने के लिए हमें स्वयं पर स्वराज लाना होगा। इसे पाने के लिए हमें अपने पर अनेक प्रयोग करने होंगे, अपनी भूलें स्वीकारनी होंगी तथा खुद को सुधारना होगा।

3. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अध्ययनों और संयुक्त राष्ट्र की मानव-विकास रिपोर्टों ने भारत के बच्चों में कुपोषण की व्यापकता के साथ-साथ बाल मृत्यु-दर और मातृ मृत्यु दर का ग्राफ़ काफ़ी ऊँचा रहने के तथ्य भी बार-बार जाहिर किए हैं। यूनिसेफ़ की रिपोर्ट बताती है कि लड़कियों की दशा और भी खराब है।

पाकिस्तान और अफ़गानिस्तान के बाद, बालिग होने से पहले लड़कियों को ब्याह देने के मामले दक्षिण एशिया में सबसे ज़्यादा भारत में होते हैं। मातृ-मृत्यु दर और शिशु मृत्यु-दर का एक प्रमुख कारण यह भी है। यह रिपोर्ट ऐसे समय जारी हुई है जब बच्चों के अधिकारों से संबंधित वैश्विक घोषणा-पत्र के पच्चीस साल पूरे हो रहे हैं। इस घोषणा-पत्र पर भारत और दक्षिण एशिया के अन्य देशों ने भी हस्ताक्षर किए थे। इसका यह असर ज़रूर हुआ कि बच्चों की सेहत, शिक्षा, सुरक्षा से संबंधित नए कानून बने, मंत्रालय या विभाग गठित हुए, संस्थाएँ और आयोग बने।

घोषणा-पत्र से पहले की तुलना में कुछ सुधार भी दर्ज हआ है। पर इसके बावजूद बहुत सारी बातें विचलित करने वाली हैं। मसलन, देश में हर साल लाखों बच्चे गुम हो जाते हैं। लाखों बच्चे अब भी स्कूलों से बाहर हैं। श्रम-शोषण के लिए विवश बच्चों की तादाद इससे भी अधिक है वे स्कूल में पिटाई और घरेलू हिंसा के शिकार होते रहते हैं।

परिवार के स्तर पर देखें तो संतान का मोह काफ़ी प्रबल दिखाई देगा, मगर दूसरी ओर बच्चों के प्रति सामाजिक संवेदनशीलता बहुत क्षीण है। कमज़ोर तबकों के बच्चों के प्रति तो बाकी समाज का रवैया अमूमन असहिष्णुता का ही रहता है। क्या ये स्वस्थ समाज के लक्षण हैं? (All India 2015)

1. यूनिसेफ की रिपोर्ट में किस बात पर चिंता व्यक्त की गई है ?
उत्तर:
यूनिसेफ की रिपोर्ट में नवजात बच्चों और माताओं की ऊँची मृत्युदर पर चिंता व्यक्त की गई है।

2. घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर करने का उद्देश्य क्या था?
उत्तर:
घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर करने का उद्देश्य था बच्चों एवं माताओं की मृत्युदर में कमी लाकर उनकी दशा सुधारने का प्रयास करना।

3. भारत-पाकिस्तान किस समस्या से जूझ रहे हैं? इसका मुख्य कारण क्या है?
उत्तर:
भारत और पाकिस्तान दोनों ही नवजात बच्चों एवं माताओं की ऊची मृत्युदर की समस्या से जूझ रहे हैं। इसका मुख्य कारण वयस्क होने से पहले ही लड़कियों का विवाह कर देना है। इस अवस्था में लड़कियाँ गर्भधारण के योग्य नहीं होती हैं।

4. बच्चों के अधिकारों से संबंधित घोषणापत्र जारी होने के बाद क्या सुधार हुआ और ऐसी कौन-सी बातें हैं जो हमें दुखी करती हैं?
उत्तर:
बच्चों के अधिकारों से संबंधित घोषणापत्र जारी होने के बाद बच्चों की सेहत, शिक्षा सुरक्षा आदि से जुड़े कानून बने पर प्रतिवर्ष लाखों बच्चों का गुम होना, लाखों बच्चों का स्कूल न जाना, बाल श्रमिक बनने को विवश होना तथा पिटाई एवं हिंसा का शिकार होना आदि हमें दुखी करती है।

5. क्या ये स्वस्थ समाज के लक्षण हैं ? ऐसा किस स्थिति को देखकर कहा गया है और क्यों?
उत्तर:
गरीब वर्ग के बच्चों के प्रति समाज का रवैया अच्छा न होना, उनके प्रति असहिष्णुता की भावना रखना आदि स्थिति को देखकर ऐसा कहा गया है क्योंकि एक ओर परिवार में संतान के प्रति काफ़ी मोह दिखाई देता है तो सामाजिक स्तर पर लोग संवेदनहीन
बन गए हैं।

4. चंपारण सत्याग्रह के बीच जो लोग गांधी जी के संपर्क में आए वे आगे चलकर देश के निर्माताओं में गिने गए। चंपारण में गांधी जी न सिर्फ सत्य और अहिंसा का सार्वजनिक हितों में प्रयोग कर रहे थे बल्कि हलुवा बनाने से लेकर सिल पर मसाला पीसने और चक्की चलाकर गेहूँ का आटा बनाने की कला भी उन बड़े वकीलों को सिखा रहे थे, जिन्हें गरीबों की अगुवाई की जिम्मेदारी सौंपी जानी थी। अपने इन आध्यात्मिक प्रयोगों के माध्यम से वे देश की गरीब जनता की सेवा करने और उनकी तकदीर बदलने के साथ देश को आजाद कराने के लिए समर्पित व्यक्तियों की एक ऐसी जमात तैयार करना चाह रहे थे जो सत्याग्रह की भट्ठी में उसी तरह तपकर निखरे, जिस तरह भट्ठी में सोना तपकर निखरता और कीमती बनता है।

गांधी जी की मान्यता थी कि एक प्रतिष्ठित वकील और हज़ामत बनाने वाले हज़्ज़ाम में पेशे के लिहाज़ से कोई फ़र्क नहीं, दोनों की हैसियत एक ही हैं। उन्होंने पसीने की कमाई को सबसे अच्छी कमाई माना और शारीरिक श्रम को अहमियत देते हुए उसे उचित प्रतिष्ठा व सम्मान दिया था। कोई काम बड़ा नहीं, कोई काम छोटा नहीं, इस मान्यता को उन्होंने प्राथमिकता दी ताकि साधन शुद्धता की बुनियाद पर एक ठीक समाज खड़ा हो सके। आज़ाद हिंदुस्तान आत्मनिर्भर, स्वावलंबी और आत्म-सम्मानित देश के रूप में विश्व-बिरादरी के बीच अपनी एक खास पहचान बनाए और फिर उसे बरकरार भी रखे। (All India 2015)

1. किसी काम या पेशे के बारे में गांधी जी की मान्यता क्या थी?
उत्तर:
किसी काम या पेशे के बारे में गांधी जी की मान्यता यह थी कि एक प्रसिद्ध वकील और हज्जाम के पेशे में कोई अंतर नहीं है।

2. गांधी जी सबसे अच्छी कमाई किसे मानते थे?
उत्तर:
गांधी जी पसीने की कमाई को सबसे अच्छी कमाई मानते थे।

3. चंपारण सत्याग्रह के दौरान गांधी जी आध्यात्मिक प्रयोग क्यों कर रहे थे?
उत्तर:
चंपारण सत्याग्रह के दौरान गांधी जी आध्यात्मिक प्रयोग इसलिए कर रहे थे ताकि देश की गरीब जनता की सेवा करने तथा देश को आजाद कराने के लिए ऐसे लोगों की फ़ौज तैयार की जा सके जो उद्देश्य के प्रति समर्पित रहें।

4. गांधी जी लोगों को शारीरिक श्रम का महत्त्व किस तरह समझा रहे थे?
उत्तर:
गांधी जी लोगों को शारीरिक श्रम समझाने के लिए उच्चशिक्षित लोगों को हलुवा बनाने और सिल पर मसाला पीसने जैसे काम सिखा रहे थे ताकि लोग शारीरिक श्रम में रुचि लें।

5. शारीरिक श्रम को महत्त्व देने और हर काम को समान समझने के पीछे गांधी जी की दूरदर्शिता क्या थी?
उत्तर:
शारीरिक श्रम को महत्त्व देने और हर काम को समान समझने के पीछे गांधी जी की दूरदर्शिता यह थी कि इससे एक स्वस्थ समाज का निर्माण हो सके जिससे देश हमारा आत्मनिर्भर और स्वावलंबी बनकर दुनिया में एक अलग पहचान बनाए। ।

5. आज की नारी संचार प्रौद्योगिकी, सेना, वायुसेना, चिकित्सा, इंजीनियरिंग, विज्ञान वगैरह के क्षेत्र में न जाने किन-किन भूमिकाओं में कामयाबी के शिखर छू रही है। ऐसा कोई क्षेत्र नहीं, जहाँ आज की महिलाओं ने अपनी छाप न छोड़ी हो। कह सकते हैं कि आधी नहीं, पूरी दुनिया उनकी है। सारा आकाश हमारा है। पर क्या सही मायनों में इस आज़ादी की आँच हमारे सुदूर गाँवों, कस्बों या दूरदराज के छोटे-छोटे कस्बों में भी उतनी ही धमक से पहुँच पा रही है? क्या एक आज़ाद, स्वायत्त मनुष्य की तरह अपना फैसला खुद लेकर मज़बूती से आगे बढ़ने की हिम्मत है उसमें?

बेशक समाज बदल रहा है मगर यथार्थ की परतें कितनी बहुआयामी और जटिल हैं जिन्हें भेदकर अंदरूनी सच्चाई तक पहुँच पाना आसान नहीं। आज के इस रंगीन समय में नई बढ़ती चुनौतियों से टकराती स्त्री की क्रांतिकारी आवाजें हम सबको सुनाई दे रही हैं, मगर यही कमाऊ स्त्री जब समान अधिकार और परिवार में लोकतंत्र की अनिवार्यता पर बहस करती या सही मायनों में लोकतंत्र लाना चाहती है तो वहाँ इसकी राह में तमाम धर्म, भारतीय संस्कृति, समर्पण, सहनशीलता, नैतिकता जैसे सामंती मूल्यों की पगबाधाएँ खड़ी की जाती हैं। नारी की सच्ची स्वाधीनता का अहसास तभी हो पाएगा जब वह आज़ाद मनुष्य की तरह भीतरी आज़ादी को महसूस करने की स्थितियों में होगी। (Foreign 2015)

1. नारी की वास्तविक आज़ादी कब होगी?
उत्तर:
नारी की वास्तविक आज़ादी तब होगी जब वह आज़ाद मनुष्य की तरह मन से आज़ादी महसूस कर सकेगी।

2. कामयाबी, नैतिकता शब्दों से प्रत्यय अलग करके मूलशब्द भी लिखिए।
उत्तर:
CBSE Class 10 Hindi A Unseen Passages अपठित गद्यांश -2

3. कैसे कहा जा सकता है कि आधी दुनिया नहीं बल्कि पूरी दुनिया महिलाओं की है?
उत्तर:
वर्तमान समय में नारी प्रौदयोगिकी, सेना, वायुसेना, विज्ञान आदि क्षेत्र में तरह-तरह के रूपों में सफलता के झंडे गाड़ रही है। उसने हर क्षेत्र में अपनी पहचान छोड़ी है। इस तरह कहा जा सकता है कि आधी दुनिया नहीं, बल्कि पूरी दुनिया महिलाओं की हैं।

4. दूरदराज़ के क्षेत्रों में लेखक को महिलाओं की आज़ादी पर संदेह क्यों लगता है ?
उत्तर:
दूरदराज के क्षेत्रों एवं ग्रामीण अंचलों में महिलाओं की आज़ादी के बारे में लेखक को इसलिए संदेह लगता है क्योंकि ऐसे क्षेत्रों में महिलाएँ स्वतंत्र मनुष्य की भाँति अपना फैसला स्वयं लेकर मज़बूती से आगे बढ़ने का साहस नहीं कर पा रही हैं।

5. नारी जब परिवार में लोकतंत्र लाना चाहती है तो वह कमज़ोर क्यों पड़ जाती है?
उत्तर:
नारी जब परिवार में लोकतंत्र लाना चाहती है तो इसलिए कमज़ोर पड़ जाती है क्योंकि तब इसकी राह में धर्म, भारतीय संस्कृति, समर्पण, सहनशीलता, नैतिकता की बात सामने आ जाती है और परिवार की स्थिरता के लिए उसे समर्पण भाव अपनाना पड़ता हैं।

6. अकाल के बीच भी अच्छे काम और अच्छे विचार का एक सुंदर छोटा सा उदाहरण राजस्थान के अलवर क्षेत्र का है जहाँ तरुण भारत संघ पिछले बीस बरस से काम कर रहा है। वहाँ पहले अच्छा विचार आया तालाबों का, हर नदी, नाले को छोटे-छोटे बाँधों से बाँधने का। इस तरह वहाँ आसपास के कुछ और जिलों के कोई 600 गाँवों ने बरसों तक वर्षा की एकएक बूंद को सहेज लेने का काम चुपचाप किया। इन तालाबों, बाँधों ने वहाँ सूखी पड़ी पाँच नदियों को ‘सदानीरा’ का नाम वापस दिलाया।

अच्छे विचारों से अच्छा काम हुआ और फिर आई चुनौती भरे अकाल की पहली सूचना। नदियों में, तालाबों में, कुओं में वहाँ तब भी पानी लबालब भरा था। फिर भी इस क्षेत्र के लोगों ने, किसानों ने आज से सात-आठ माह पहले यह निर्णय किया कि पानी कम गिरा है इसलिए ऐसी फ़सलें नहीं बोनी चाहिए जिनकी प्यास ज़्यादा होती है। तो कम पानी लेने वाली फ़सलें लगाई गईं। इसमें उन्हें कुछ आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा पर आज यह क्षेत्र अकाल के बीच में एक बड़े हरे द्वीप की तरह खड़ा है। यहाँ सरकार को न तो टैंकरों से पानी ढोना पड़ रहा है न अकाल राहत का पैसा बाँटना पड़ा है। गाँव के लोग, किसी के आगे हाथ नहीं पसार रहे हैं।

उनका माथा ऊँचा है। पानी के उम्दा काम ने उनके स्वाभिमान की भी रक्षा की है। अलवर में नदियाँ एक दूसरे से जोड़ी नहीं गई हैं। यहाँ के लोग अपनी नदियों से, अपने तालाबों से जुड़े हैं। यहाँ पैसा नहीं बहाया गया है, पसीना बहाया है, लोगों ने और उनके अच्छे काम और अच्छे विचारों ने अकाल को एक दर्शक की तरह पाल के किनारे खड़ा कर दिया है। (Foreign 2015)

1. तरुण भारत संघ कहाँ काम कर रहा है?
उत्तर:
तरुण भारत संघ राजस्थान के अलवर क्षेत्र में काम कर रहा है।

2. लोगों के परिश्रम के कारण अकाल की स्थिति कैसी हो गई है?
उत्तर:
लोगों के परिश्रम के कारण अकाल की स्थिति एक दर्शक की भाँति हो गई।

3. ‘सदानीरा’ किन्हें कहा जाता है ? राजस्थान की पाँच नदियों को यह नाम कैसे वापस मिला?
उत्तर:
‘सदानीरा’ उन नदियों को कहा जाता है जिसमें बारहों महीने जल भरा रहता है। राजस्थान के अलवर क्षेत्र में तालाबों, नदी, नालों को छोटे-छोटे बाँधों से बाँधने के कारण वर्षा की एक-एक बूंद बचाने का काम किया गया जिससे नदियाँ सदानीरा हो उठी।

4. राजस्थान के किसानों ने अकाल का किस तरह मुकाबला किया?
उत्तर:
राजस्थान के किसानों को पता लगा कि वर्षा कम हुई है, उन्होंने ऐसी फ़सलें बोने का निर्णय लिया जिन्हें कम पानी की आवश्यकता होती है। इस तरह अकाल के बीच भी यह क्षेत्र हरा-भरा बना रहा और अकाल का प्रभाव कम हो गया।

5. अच्छे विचार लोगों का स्वाभिमान बनाए रखने में सहायक होते हैं, कैसे?
उत्तर:
अच्छे विचारों से ही अच्छा काम होता है। लोगों ने यह अच्छा काम नदियों से अपने तालाबों को जोड़कर किया। इस कारण उन्हें सरकारी मदद और अकाल राहत के पैसे का इंतज़ार नहीं करना पड़ा और न हाथ फैलाना पड़ा। इससे उनका स्वाभिमान ज्यों का त्यों बना रहा।

7. गांधी जी ने दक्षिण अफ्रीका में प्रवासी भारतीयों को मानव-मात्र की समानता और स्वतंत्रता के प्रति जागरूक बनाने का प्रयत्न
किया। इसी के साथ उन्होंने भारतीयों के नैतिक पक्ष को जगाने और सुसंस्कृत बनाने के प्रयत्न भी किए। गांधी जी ने ऐसा क्यों किया? इसलिए कि वे मानव-मानव के बीच काले-गोरे, या ऊँच-नीच का भेद ही मिटाना पर्याप्त नहीं समझते थे, वरन् उनके बीच एक मानवीय स्वाभाविक स्नेह और हार्दिक सहयोग का संबंध भी स्थापित करना चाहते थे। इसके बाद जब वे भारत आए, तब उन्होंने इस प्रयोग को एक बड़ा और व्यापक रूप दिया।

विदेशी शासन के अन्याय-अनीति के विरोध में उन्होंने जितना बड़ा सामूहिक प्रतिरोध संगठित किया, उसकी मिसाल संसार के इतिहास में अन्यत्र नहीं मिलती। पर इसमें उन्होंने सबसे बड़ा ध्यान इस बात का रखा कि इस प्रतिरोध में कहीं भी कटुता, प्रतिशोध की भावना अथवा कोई भी ऐसी अनैतिक बात न हो जिसके लिए विश्व मंच पर भारत का माथा नीचा हो ऐसा गांधी जी ने इसलिए किया क्योंकि वे मानते थे कि बंधुत्व, मैत्री, सद्भावना, स्नेह-सौहार्द आदि गुण मानवता-रूपी टहनी के ऐसे पुष्प हैं जो सर्वदा सुगंधित रहते हैं। (All India 2014)

1. अफ्रीका में प्रवासी भारतीयों के पीड़ित होने का क्या कारण था?
उत्तर:
अफ्रीका में प्रवासी भारतीयों के पीड़ित होने का कारण रंग-भेद और सामाजिक स्तर से संबंधित भेदभाव था।

2. मिसाल, प्रतिशोध शब्दों के अर्थ लिखिए।
उत्तर:
मिसाल – उदाहरण

3. गांधी जी ने दक्षिण अफ्रीका में प्रवासी भारतीयों के बीच क्या-क्या कार्य किए और क्यों?
उत्तर:
प्रतिशोध – बदला लेना

4. भारत आने पर गांधी जी ने अपने प्रयोग को किस तरह व्यापक रूप दिया?
उत्तर:
गांधी जी ने दक्षिण अफ्रीका में प्रवासी भारतीयों के बीच समानता और जागरूकता बनाए रखने का कार्य किया। इसका कारण यह था कि वे काले-गोले या ऊँच-नीच का भेद-भाव मिटाकर लोगों में स्नेह और हार्दिक सहयोग स्थापित करना चाहते थे।

5. गांधी जी प्रतिरोध में कटुता की भावना क्यों नहीं लाने देना चाहते थे? इसके लिए उन्होंने क्या किया?
उत्तर:
गांधी जी अंग्रेजों के विरुद्ध प्रतिरोध में कटुता की भावना इसलिए नहीं लाने देना चाहते थे ताकि विश्व स्तर पर भारत का माथा नीचा न होने पाए। इसके लिए उन्होंने प्रेम, मैत्री, बंधुत्व, सद्भावना, स्नेह आदि गुणों को अपनाए रखा।

8. तिलक ने हमें स्वराज का सपना दिया और गांधी ने उस सपने को दलितों और स्त्रियों से जोड़कर एक ठोस सामाजिक अवधारणा के रूप में देश के सामने ला रखा। स्वतंत्रता के उपरांत बड़े-बड़े कारखाने खोले गए, वैज्ञानिक विकास भी हुआ, बड़ी-बड़ी योजनाएँ भी बनीं, किंतु गांधीवादी मूल्यों के प्रति हमारी प्रतिबद्धता सीमित होती चली गई। दुर्भाग्य से गांधी के बाद गांधीवाद को कोई ऐसा व्याख्याकार न मिला जो राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक संदर्भो में गांधी के सोच की समसामयिक व्याख्या करता। सो यह विचार लोगों में घर करता चला गया कि गांधीवादी विकास का मॉडल धीमे चलने वाला और तकनीकी प्रगति से विमुख है। उस पर ध्यान देने से हम आधुनिक वैज्ञानिक युग की दौड़ में पिछड़ जाएँगे। कहना न होगा कि कुछ लोगों की पाखंडी जीवन शैली ने भी इस धारणा को और पुष्ट किया।

इसका परिणाम यह हुआ कि देश में बुनियादी तकनीकी और औद्योगिक प्रगति तो आई पर देश के सामाजिक और वैचारिकढाँचे में ज़रूरी बदलाव नहीं लाए गए। सो तकनीकी विकास ने समाज में व्याप्त व्यापक फटेहाली, धार्मिक कूपमंडूकता और जातिवाद को नहीं मिटाया। (Delhi 2014)

1. गांधी जी ने स्वराज के सपने को सामाजिक अवधारणा का रूप कैसे दिया?
उत्तर:
गांधी जी ने स्वराज के सपने को सामाजिक अवधारणा का रूप देने के लिए देश की महिलाओं और दलितों को जोड़ा।

2. स्वतंत्रता, प्रतिबद्धता शब्दों में प्रयुक्त उपसर्ग, मूलशब्द और प्रत्यय अलग कीजिए।
उत्तर:
CBSE Class 10 Hindi A Unseen Passages अपठित गद्यांश - 3

3. स्वतंत्रता के बाद गांधीवादी मूल्यों की क्या दशा हुई और क्यों?
उत्तर:
स्वतंत्रता के बाद लोगों द्वारा गांधीवादी मूल्यों की उपेक्षा शुरू कर दी गई क्योंकि गांधी जी की मृत्यु के बाद गांधीवाद का कोई ऐसा व्याख्या करने वाला न मिला जो राजनीतिक सामाजिक और आर्थिक संदर्भो में गांधी जी के विचारों की समसामयिक व्याख्या करता।

4. गांधीवादी मूल्य आजादी के बाद लोगों के आकर्षण का केंद्र-बिंदु क्यों नहीं बन सके?
उत्तर:
आज़ादी के बाद गांधीवादी मूल्य लोगों के आकर्षण का केंद्र-बिंदु इसलिए नहीं बन सके क्योंकि लोग यह मानने लगे कि गांधीवादी विकास का मॉडल धीरे चलने वाला है। इससे हम वैज्ञानिक युग की दौड़ में पीछे रह जाएँगे।।

5. गांधीवादी मूल्यों की उपेक्षा का परिणाम क्या हुआ?
उत्तर:
गांधीवादी मूल्यों की उपेक्षा का यह परिणाम हआ कि देश ने बुनियादी, तकनीकी और औद्योगिक प्रगति तो की पर देश के सामाजिक-वैचारिक ढाँचे में बदलाव न लाने के कारण गरीबी, धर्मांधता और जातिवाद के ज़हर को कम नहीं किया जा सका।

9. कहा जाता है कि हमारा लोकतंत्र यदि कहीं कमज़ोर है तो उसकी एक बड़ी वजह हमारे राजनीतिक दल हैं। वे प्रायः अव्यवस्थित हैं, अमर्यादित हैं और अधिकांशतः निष्ठा और कर्मठता से संपन्न नहीं हैं। हमारी राजनीति का स्तर प्रत्येक दृष्टि से गिरता जा रहा है। लगता है उसमें सुयोग्य और सच्चरित्र लोगों के लिए कोई स्थान नहीं है। लोकतंत्र के मूल में लोकनिष्ठा होनी चाहिए, लोकमंगल की भावना और लोकानुभूति होनी चाहिए और लोकसंपर्क होना चाहिए। हमारे लोकतंत्र में इन आधारभूत तत्वों की कमी होने लगी है, इसलिए लोकतंत्र कमज़ोर दिखाई पड़ता है।

हम प्रायः सोचते हैं कि हमारा देश-प्रेम कहाँ चला गया, देश के लिए कुछ करने, मर-मिटने की भावना कहाँ चली गई ? त्याग और बलिदान के आदर्श कैसे, कहाँ लुप्त हो गए? आज हमारे लोकतंत्र को स्वार्थांधता का घुन लग गया है। क्या राजनीतिज्ञ, क्या अफसर, अधिकांश यही सोचते हैं कि वे किस तरह से स्थिति का लाभ उठाएँ, किस तरह एक-दूसरे का इस्तेमाल करें। आम आदमी अपने आपको लाचार पाता है और ऐसी स्थिति में उसकी लोकतांत्रिक आस्थाएँ डगमगाने लगती हैं।

लोकतंत्र की सफलता के लिए हमें समर्थ और सक्षम नेतृत्व चाहिए, एक नई दृष्टि, एक नई प्रेरणा, एक नई संवेदना, एक नया आत्मविश्वास, एक नया संकल्प और समर्पण आवश्यक है। लोकतंत्र की सफलता के लिए हम सब अपने आप से पूछे कि हम देश के लिए, लोकतंत्र के लिए क्या कर सकते हैं? और हम सिर्फ पूछकर ही न रह जाएँ, बल्कि संगठित होकर समझदारी, विवेक और संतुलन से लोकतंत्र को सफल और सार्थक बनाने में लग जाएँ। (Delhi 2014)

1. हमारे लोकतंत्र की कमज़ोरी का कारण क्या है?
उत्तर:
हमारे लोकतंत्र की कमजोरी का कारण अव्यवस्थित और अमर्यादित वे राजनीतिक दल हैं जिनमें निष्ठा और कर्मठता की कमी

2. आज राजनीति का स्तर क्यों गिरता जा रहा है?
उत्तर:
आज राजनीति का स्तर इसलिए गिरता जा रहा है क्योंकि राजनीति में सुयोग्य और सच्चरित्र लोगों की कमी होती जा रही है।

3. लोकतंत्र के आधारभूत तत्व कौन-से हैं ? इनकी कमी का लोकतंत्र पर क्या असर पड़ा है ?
उत्तर:
लोकतंत्र के मूल में लोकनिष्ठा, लोकमंगल की भावना लोकानुभूति, लोकसंपर्क आदि लोकतंत्र के आधारभूत तत्व हैं। इनकी कमी के कारण लोकतंत्र से लोगों की आस्था कमज़ोर होती जाती है और लोकतंत्र कमज़ोर पड़ जाता है।

4. आम आदमी की लोकतांत्रिक आस्थाएँ क्यों डगमगाने लगती हैं ?
उत्तर:
आज लोकतंत्र में देश-प्रेम, देश के लिए कुछ करने की भावना, त्याग-बलिदान आदि गायब हो चुकी है। लोगों में स्वार्थांधता भरती जा रही हैं। राजनीतिज्ञ अफसर अपनी स्थिति का फायदा उठाने को आतुर हैं। ऐसे में लाचार आम आदमी की लोकतांत्रिक आस्थाएँ उगमगाने लगती हैं।

5. लोकतंत्र को सफल बनाने के लिए क्या करना चाहिए?
उत्तर:
लोकतंत्र को सफल बनाने के लिए नई दृष्टि, नई प्रेरणा, नई संवेदना, नया आत्मविश्वास, संकल्प और समर्पण रखते हुए लोकतंत्र के प्रति अपने दायित्वों को समझने का प्रयास करें। फिर हमें संगठित होकर समझदारी विवेक और संतुलन से लोकतंत्र को सफल बनाने का प्रयास करना चाहिए।

10. एक ज़माना था जब मुहल्लेदारी पारिवारिक आत्मीयता से भरी होती थी। सब मिल-जुलकर रहते थे। हारी-बीमारी, खुशी-गम सब में लोग एक दूसरे के साथ थे। किसी का किसी से कुछ छिपा नहीं था। आज के लोगों को शायद लगे कि लोगों की अपनी ‘प्राइवेसी’ क्या रही होगी, लेकिन इस ‘प्राइवेसी’ के नाम पर ही तो हम एक-दूसरे से कटते रहे और कटते-कटते ऐसे अलग हुए कि अकेले पड़ गए। पहले अलग चूल्हे-चौके हुए, फिर अलग मकान लेकर लोग रहने लगे, निजी स्वतंत्रता को अपनी नई परिभाषा देकर यह एकाकीपन हमने स्वयं अपनाया है। मुहल्ले में आपस में चाहे जितनी चखचख हो, यह थोड़े ही संभव था कि बाहर का कोई आकर किसी को कड़वी बात कह जाए। पूरा मोहल्ला टिड्डी-दल की तरह उमड़ पड़ता था।

देखते-देखते ज़माना हवा हो गया। मुहल्लेदारी टूटने लगी, आबादी बढ़ी, महँगाई बढ़ी, पर सबसे ज़्यादा जो चीज़ दुर्लभ हो गई वह थी आपसी लगाव, अपनापन। लोगों की आँखों का शील मर गया।

देखते-देखते कैसा रंग बदला है। लोग अपने-आप में सिमटकर पैसे के पीछे भागे जा रहे हैं। सारे नाते-रिश्तों को उन्होंने ताक पर रख दिया है, तब फिर पड़ोसी से उन्हें क्या लेना-देना है। यह नीरस महानगरीय सभ्यता महानगरों से चलकर कस्बों और देहातों तक को अपनी चपेट में ले चुकी है। मकानों में रहने वाले एक-दूसरे को नहीं जानते। इन जगहों में आदमी का अस्तित्व समाप्त हो गया है। यदि आपको फ़्लैट नंबर मालूम नहीं है तो उसी बिल्डिंग में जाकर भी वांछित व्यक्ति को नहीं ढूँढ़ पाएँगे। ऐसी जगहों में किसी प्रकार के संबंधों की अपेक्षा ही कहाँ की जा सकती है? (All India 2014)

1. आज एक-दूसरे से कटते जाने का कारण क्या है?
उत्तर:
आज एक-दूसरे से कटते जाने का कारण ‘प्राइवेसी’ बनाए रखने का प्रयास है।

2. आज के व्यक्ति को प्राइवेसी के नाम पर क्या प्राप्त हुआ है?
उत्तर:
आज के व्यक्ति को प्राइवेसी के नाम पर अलगाव और अकेलापन प्राप्त हुआ है।

3. मुहल्लेदारी में पारिवारिक आत्मीयता से लाभ क्या-क्या होता था?
उत्तर:
मुहल्लेदारी में पारिवारिक आत्मीयता बनी रहने से सब मिल-जुलकर रहते थे, एक दूसरे के सुख-दुख में काम आते थे। वे आपस में भले झगड़ लें, पर बाहरी व्यक्ति का मुकाबला करने के लिए एकजुट हो जाते थे।

4. वह ज़माना हवा होते ही आया बदलाव समाज के लिए उपयुक्त था या अनुपयुक्त, स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
वह ज़माना हवा होते ही मुहल्लेदारी टूटने लगी, आबादी और महँगाई तो बढ़ी पर आपसी लगाव, अपनापन गायब हो गया। … लोगों की आँखों से शील मर गई। ये बदलाव समाज के लिए पूर्णतया अनुचित और अनुपयुक्त था।

5. प्राइवेसी ने महानगरीय सभ्यता से संबंधों को लगभग समाप्त कर दिया है। ऐसा कहना कितना उचित है?
उत्तर:
‘प्राइवेसी’ ने महानगरीय सभ्यता की छाँव में पलने वाले संबंधों को छिन्न-भिन्न कर दिया है। यहाँ एक ही मकान में रहने वाले लोग एक-दूसरे को जानते नहीं हैं। फ़्लैट नंबर मालूम न होने पर बिल्डिंग में वांछित व्यक्ति से नहीं मिला जा सकता है। अतः यहाँ संबंध पूर्णतया समाप्त हो गए हैं।

11. गरीबी, जाति और धर्म की सीमाओं को भेद जाती है। भारत की जनसंख्या का बहुत बड़ा हिस्सा गरीब है या गरीबी के आसपास है। इसलिए देश के प्रशासकों ने इस समस्या के समाधान के लिए आर्थिक विकास और सामाजिक न्याय को राष्ट्रीय लक्ष्य के रूप में स्वीकार किया है इससे समाज में आर्थिक विषमता घटेगी। हमारे संविधान की प्रस्तावना में भी गणतंत्र के विशेषणों में ‘समाजवादी’ शब्द सम्मिलित है। इसके फलस्वरूप भारतीय समाज के कमजोर वर्गों को आर्थिक आधार पर विशेष सलक पाने का अधिकार प्राप्त हो जाता है। कृषि-मज़दूरों, छोटे किसानों, देहाती-शहरी गरीबों के लिए योजनाबद्ध विकास के कार्यक्रम तैयार किए गए हैं। ये कार्यक्रम जाति के आधार पर नहीं, समानता-असमानता के आधार पर हैं।

सभी प्रकार के पिछड़ेपन को, भले ही वह आर्थिक हो या सामाजिक या सांस्कृतिक, दूर करना निश्चित रूप से न्यायपूर्ण एवं स्वीकार करने योग्य लक्ष्य है। आर्थिक पिछड़ेपन ने सामाजिक असमानता के निर्माण में महत्त्वपूर्ण योगदान किया है। इस समस्या का उपचार करने के लिए सरकार ने एक रणनीति अपनाई-कानून बनाने के रूप में। जिसका उल्लंघन करने वालों को सजा का प्रावधान है।

एक उदाहरण लें-‘अस्पृश्यता अपराध कानून’ के अंतर्गत अस्पृश्यता को दंडनीय अपराध माना गया और इसके परिणामस्वरूप देश से अस्पृश्यता प्रायः समाप्त हो गई है। इतना अवश्य है कि इस दिशा में अभी बहुत कुछ किया जाना है।

1. ‘गरीबी, जाति और धर्म की सीमाओं को भेद जाती है।’-का आशय क्या है?
उत्तर:
‘गरीबी जाति और धर्म की सीमाओं को भेद जाती है’ का आशय है-यह सभी जातियों और धर्मावलंबियों को समान रूप से
प्रभावित करती है।

2. अस्पृश्यता समाप्त होने का कारण क्या है?
उत्तर:
अस्पृश्यता समाप्त होने का कारण अस्पृश्यता अपराध कानून बनाकर इसे दंडनीय घोषित करना है।

3. गरीबी की समस्या के समाधान के लिए प्रशासकों ने क्या किया? उनके प्रयास का फल क्या होगा?
उत्तर:
गरीबी की समस्या दूर करने के लिए प्रशासकों ने आर्थिक विकास और सामाजिक न्याय को राष्ट्रीय लक्ष्य के रूप में स्वीकार किया। उनके इस प्रयास से आर्थिक विषमता घटने की संभावना है।

4. संविधान की प्रस्तावना में ‘समाजवादी’ विशेषण सम्मिलित करना इस समस्या के समाधान के लिए कितना कारगर सिद्ध होगा?
उत्तर:
संविधान की प्रस्तावना में समाजवादी विशेषण शामिल करने से समाज के कमजोर वर्गों कृषि-मज़दूरों, छोटे किसानों, देहाती शहरी गरीबों के विकास के लिए कार्यक्रम बनाए जाते हैं, जो समानता-असमानता पर आधारित होते हैं। यह प्रयास कारगर सिद्ध होगा।

5. पिछड़ापन दूर करने की मुहिम को कानून से जोड़ना क्या कारगर सिद्ध होगा? उदाहरण द्वारा स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
पिछड़ापन दूर करने की मुहिम को कानून से जोड़ने पर इसके उल्लंघन करने वालों के लिए सज़ा का प्रावधान हो जाता है। इसका उदाहरण अस्पृश्यता अपराध कानून है जिससे अस्पृश्यता समाप्त हो गई।

12. हमारे देश में लोकतांत्रिक व्यवस्था है। इस व्यवस्था में न कोई छोटा होता है न बड़ा, न कोई अमीर न कोई गरीब। देश का संविधान सबके लिए समान है। नागरिक अधिकारों पर सबका समान हक है। लोकतंत्र पारिवारिक-सामाजिक सभी स्तरों पर स्त्री-पुरुष को एक नज़र से देखता है। अपने अधिकारों का इस्तेमाल करने, अपनी बात बेझिझक कहने का सबको समान अधिकार है।

आज़ादी मिलने के बाद इस लोकतंत्रात्मक पद्धति के आधार पर हम सभी क्षेत्रों में आगे बढ़े हैं। नारी जागृति आई है, शिक्षा, स्वास्थ्य. राजनीति-सभी क्षेत्रों में विकास हुआ है। ऐसी स्थिति में भी जब हम निराशाजनक बातें करते हैं कि तंत्र ठप्प हो गया है, यह पद्धति असफल हो गई है-यह ठीक नहीं। वास्तव में दोष तंत्र का नहीं-दोष हमारे नज़रिये का है। हमारी अपेक्षाएँ इतनी बढ़ गई हैं जिन्हें संतुष्ट करने के लिए एक क्या अनेक तंत्र असफल हो जाएँगे। हमारा देश विशाल आबादी वाला एक विशाल देश है।

इसे चलाने वाला तंत्र भी उतना ही विशाल और समर्थ चाहिए और जैसा कि नाम से स्पष्ट है लोकतंत्र में हम ही तंत्र हैं। जब हर नागरिक इतना शिक्षित हो जाए कि अपने देश, समाज, परिवार, हर व्यक्ति सबके प्रति निष्ठा से अपना दायित्व निभाता रहे तब लोकतंत्र की सफलता सामने आएगी। ज़रूरी है कि हमारी सोच सकारात्मक हो। हम सोचें कि इतनी उदारता, इतनी ग्रहणशीलता और किसी तंत्र में नहीं है जितनी लोकतंत्र में है, मानवता का इतना संतुलित सर्वांगीण विकास किसी और तंत्र में हो भी नहीं सकता। (Foreign 2014)

1. ‘तंत्र ठप हो गया है’-ऐसा कहना किसका दोष प्रकट करता है?
उत्तर:
‘लोकतंत्र ठप हो गया है’-ऐसा कहना हमारे नज़रिये का दोष प्रकट करता है।

2. मानवता का सबसे संतुलित विकास किस तंत्र में हो सकता है?
उत्तर:
मानवता का सबसे संतुलित विकास लोकतंत्र में ही हो सकता है।

3. गद्यांश के आधार पर लोकतंत्र की विशेषताएँ लिखिए।
उत्तर:
लोकतंत्र में सभी समान होते हैं। नागरिक अधिकारों पर सबका समान हक होता है। इस तंत्र में पारिवारिक-सामाजिक सभी स्तरों पर स्त्री-पुरुष बराबर होते हैं। सभी को अपनी बातें कहने तथा अधिकारों के इस्तेमाल का अधिकार होता है।

4. लोकतंत्र के संबंध में निराशाजनक बातें क्यों नहीं करनी चाहिए?
उत्तर:
लोकतंत्र के बारे में निराशाजनक बातें इसलिए नहीं करनी चाहिए क्योंकि हमारी अपेक्षाएँ इतनी बढ़ गई हैं कि उसे पूरा करने के लिए कई तंत्र असफल हो जाएँगे। भारत जैसे विशाल देश में इसे चलाने वाला तंत्र भी विशाल और समर्थ होना ज़रूरी है।

5. लोकतंत्र की सफलता किन तत्वों पर निर्भर करती है?
उत्तर:
लोकतंत्र लोगों का तंत्र है। इसकी सफलता के लिए हर नागरिक का शिक्षित होना, अपने देश, परिवार, समाज के प्रति दायित्वों का निर्वाह करना तथा सकारात्मक सोच रखना अति आवश्यक है।

13. मेरा मन कभी-कभी बैठ जाता है। समाचार पत्रों में ठगी, डकैती, चोरी और भ्रष्टाचार के समाचार भरे रहते हैं। ऐसा लगता है देश में कोई ईमानदार आदमी रह ही नहीं गया है। हर व्यक्ति संदेह की दृष्टि से देखा जा रहा है। इस समय सुखी वही है, जो कुछ है। जो कुछ नहीं करता, जो भी कुछ करेगा, उसमें लोग दोष खोजने लगेंगे। उसके सारे गुण भुला दिये जायेंगे और दोषों को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाया जाने लगेगा। दोष किसमें नहीं होते? यही कारण है कि हर आदमी दोषी अधिक दिख रहा है, गुणी कम या बिलकुल ही नहीं। यह चिंता का विषय है।

तिलक और गांधी के सपनों का भारतवर्ष क्या यही है ? विवेकानंद और रामतीर्थ का आध्यात्मिक ऊँचाई वाला भारतवर्ष कहाँ है ? रवींद्रनाथ ठाकुर और मदनमोहन मालवीय का महान, सुसंस्कृत और सभ्य भारतवर्ष पतन के किस गहन गर्त में जा गिरा है? आर्य और द्रविड़, हिंदू और मुसलमान, यूरोपीय और भारतीय आदर्शों की मिलनभूमि ‘महामानव समुद्र’ क्या सूख ही गया है?

यह सही है कि इन दिनों कुछ ऐसा माहौल बना है कि ईमानदारी से मेहनत करके जीविका चलाने वाले निरीह श्रमजीवी पिस रहे हैं और झूठ और फरेब का रोज़गार करने वाले फल-फूल रहे हैं। ईमानदारी को मूर्खता का पर्याय समझा जाने लगा है, सचाई केवल भीरु और बेबस लोगों के हिस्से पड़ी है। ऐसी स्थिति में जीवन के मूल्यों के बारे में लोगों की आस्था ही हिलने लगी है, किंतु ऐसी दशा से हमारा उद्धार जीवन-मूल्यों में आस्था रखने से ही होगा। ऐसी स्थिति में हताश हो जाना ठीक नहीं है।

1. ‘मेरा मन कभी-कभी बैठ जाता है’ का आशय क्या है?
उत्तर:
मेरा मन कभी-कभी बैठ जाता है-लेखक का हृदय देश की दुर्दशा देखकर चिंतित हो जाता है।

2. लेखक ने चिंता का विषय किसे कहा है ?
उत्तर:
लेखक ने लोगों की उस प्रवृत्ति को चिंता का विषय कहा है जिसके कारण लोग हर आदमी को दोषी समझने लगे हैं।

3. समाज की किन घटनाओं को देखकर निराशाजनक वातावरण होने का पता चल रहा है?
उत्तर:
समाचार पत्रों का चोरी, डकैती, भ्रष्टाचार की खबरों से भरा होना, हर व्यक्ति को संदेह की दृष्टि से देखा जाना, दूसरों में दोष ढूंढ़ने की बढ़ती प्रवृत्ति, गुणों को भुला दिया जाना और अवगुणों को बढ़ा-चढ़ाकर बताना आदि से निराशाजनक वातावरण का पता चल रहा है।

4. तिलक और गांधी ने किस तरह के भारत का स्वप्न देखा था? वह भारत इस भारत से किस तरह भिन्न होगा?
उत्तर:
तिलक और गांधी ने उस भारत की कल्पना की थी जिसमें उच्च जीवन मूल्यों का बोलबाला हो। समाज अन्याय, भ्रष्टाचार, चोरी डकैती आदि से मुक्त हो तथा हर कोई सुसंस्कृत और सभ्य हो। ऐसा भारत इस भारत से पूर्णतया अलग होगा।

5. आज समाज में जीवन-मूल्यों की स्थिति क्या है? ऐसे में हमारा भला कैसे हो सकता है?
उत्तर:
आज समाज में जीवन मूल्य कमज़ोर पड़ गए हैं। सत्य, त्याग, परोपकार, श्रम से रोटी कमाना आदि कहीं खो गए हैं। ईमानदारी दूसरे लोक की वस्तु बन गई है। ऐसे में जीवन मूल्यों को बनाए रखने से ही हमारा भला हो सकता है।

14. भारतवर्ष ने कभी भी भौतिक वस्तुओं के संग्रह को बहुत अधिक महत्त्व नहीं दिया। उसकी दृष्टि में मनुष्य के भीतर जो आंतरिक तत्व स्थिर भाव से बैठा हुआ है, वही चरम और परम है। लोभ-मोह, काम-क्रोध आदि विकार मनुष्य में स्वाभाविक रूप से विद्यमान रहते हैं, पर उन्हें प्रधान शक्ति मान लेना और अपने मन और बुद्धि को उन्हीं के इशारे पर छोड़ देना, बहुत निकृष्ट आचरण है। भारतवर्ष ने उन्हें सदा संयम के बंधन से बाँधकर रखने का प्रयत्न किया है।

इस देश के कोटि-कोटि दरिद्र जनों की हीन अवस्था को सुधारने के लिए अनेक कायदे-कानून बनाए गए। जिन लोगों को इन्हें कार्यांवित करने का काम सौंपा गया वे अपने कर्तव्यों को भूलकर अपनी सुख-सुविधा की ओर ज़्यादा ध्यान देने लगे। वे लक्ष्य की बात भूल गए और लोभ, मोह जैसे विकारों में फँसकर रह गए। आदर्श उनके लिए मज़ाक का विषय बन गया और संयम को दकियानूसी मान लिया गया। परिणाम जो होना था, वह हो रहा है-लोग लोभ और मोह में पड़कर अनर्थ कर रहे हैं, इससे भारतवर्ष के पुराने आदर्श और भी अधिक स्पष्ट रूप से महान और उपयोगी दिखाई देने लगे हैं। अब भी आशा की ज्योति बुझी नहीं है। महान भारतवर्ष को पाने की संभावना बनी हुई है, बनी रहेगी। (All India 2013 Comptt.)

1. मन में समाए विकारों को किसके सहारे वश में किया जाता है?
उत्तर:
मन में समाए विकारों को संयम के बंधन के सहारे वश में किया जाता है।

2. विलोम लिखिए – निकृष्ट, आंतरिक।
उत्तर:
निकृष्ट x उत्कृष्ट
आंतरिक x वाय।

3. हमारे देश में चरम और परम किसे माना जाता है ? यह मान्यता पाश्चात्य देशों से किस तरह अलग है?
उत्तर:
हमारे देश में जीवन मूल्यों और आदर्शों को चरम और परम माना जाता है। पश्चिमी देशों में शारीरिक सुख और भौतिक वस्तुओं के संग्रह को जीवन लक्ष्य माना जाता है, पर हमारे देश में मानसिक सुख एवं मूल्यों को।

4. देश में करोड़ों लोग गरीबी में क्यों जी रहे हैं?
उत्तर:
देश में करोड़ों लोग गरीबी में इसलिए जी रहे हैं क्योंकि गरीबी को दूर करने के लिए जो कानून बने और उन्हें लागू करने की जिम्मेदारी जिन पर सौंपी गई, वे अपना कर्तव्य और लक्ष्य भूलकर अपनी सुख-सुविधा में लग गए।

5. आदर्श एवं संयम को दकियानूसी कौन मान बैठे? इसका क्या परिणाम हुआ?
उत्तर:
आदर्श एवं संयम को दकियानूसी वे लोग मानने लगे जो सुख-सुविधा की ओर ज़्यादा ध्यान दे रहे थे। इससे लोग लोभ और मोह में पड़कर अनर्थ कर रहे हैं; भ्रष्ट साधनों से धन अर्जित कर रहे हैं और देश में अराजकता फैल रही है।

15. धन का व्यय विलास में करने से केवल क्षणिक आनंद की प्राप्ति होती है, जबकि यह धन का दुरुपयोग है, किंतु धन का सदुपयोग सुख और शांति देता है। धन के द्वारा जो सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण कार्य हो सकता है वह है परोपकार। भूखों को अन्न, नंगों को वस्त्र, रोगियों को दवा, अनाथों को घर-द्वार, लूले-लँगड़ों और अपाहिज़ों के लिए आराम के साधन, विद्यार्थियों के लिए पाठशालाएँ इत्यादि वस्तुएँ धन के द्वारा जुटाई जा सकती हैं।

धन होने के कारण एक अमीर आदमी को लोगों की भलाई करने के अनेक अवसर प्राप्त होते हैं, जो कि एक गरीब आदमी को उपलब्ध नहीं हैं, चाहे वह इसके लिए कितना ही इच्छुक क्यों न हो। पर संसार में ऐसे आदमी बहुत कम हैं जो अपना भोग-विलास त्यागकर अपने को परोपकार में लगाते हैं। (Delhi 2013 Comptt.)

1. दूसरों की भलाई करने के लिए सबसे आवश्यक क्या है?
उत्तर:
दूसरों की भलाई करने के लिए धन होना सबसे आवश्यक है।

2. उपर्युक्त गद्यांश का उचित शीर्षक लिखिए।
उत्तर:
उपर्युक्त गद्यांश का शीर्षक है-धन का सच्चा उपयोग।

3. गद्यांश के अनुसार धन का सदुपयोग क्या है ? लेखक धन का दुरुपयोग किसे मानता है?
उत्तर:
गद्यांश के अनुसार धन का सदुपयोग है-परोपकार करना जिससे दूसरों को सुख-शांति मिल सके। लेखक ने धन का व्यय भोगविलास और ऐशो-आराम के लिए करते हुए आनंदित होने को धन का दुरुपयोग माना है।

4. परोपकार और धन का क्या संबंध है ? गद्यांश के आधार पर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
परोपकार और धन का अत्यंत घनिष्ठ संबंध है। परोपकार करने के लिए धन होना अत्यावश्यक है। भूखों को अन्न, नंगों को वस्त्र, रोगियों को दवा, अनाथों को घर-द्वार देने आदि का कार्य धन के बिना नहीं किए जा सकते हैं।

5. एक निर्धन परोपकारी क्यों नहीं बन सकता है? आज देश में किस तरह के लोगों की कमी है ?
उत्तर:
एक निर्धन व्यक्ति परोपकारी इसलिए नहीं बन सकता क्योंकि वह धनहीन होता है। धन के अभाव में निर्धन परोपकार नहीं कर सकता है। आज देश में उन लोगों की कमी हो रही है जो दूसरों की भलाई के लिए अपना भोग-विलास त्याग सकें।

16. यदयपि तुलसी ने अनेक ग्रंथों की रचना करके अपनी काव्य-प्रतिभा का परिचय दिया तथापि रामचरितमानस उनकी सर्वोपरि रचना है। इस अनुपम ग्रंथ की गणना विश्व साहित्य के सर्वश्रेष्ठ रत्नों में की जाती है। इसका रूपांतर विश्व की प्रायः सभी भाषाओं में हो चुका है। रामचरितमानस महाकाव्य है। इस ग्रंथ में राम की कथा सात खंडों में विभक्त है।

मानस की कथा का मूलाधार वाल्मीकि रामायण, वेद-पुराण आदि ग्रंथ हैं। इन धार्मिक ग्रंथों से नीति, शिक्षा और उपदेश की सामग्री लेकर तुलसी ने मानस की रचना की है। यही कारण है कि मानस पाठकों के जीवन के लिए आदर्श है। यह महाकाव्य लोकहित की भावना से ओत-प्रोत है। मानस, मानव-मन का दर्पण है। इसमें मानव-स्वभाव का स्वाभाविक चित्रण है। (Delhi 2013 Comptt.)

1. रामचरित मानस के रचनाकार कौन हैं?
उत्तर:
रामचरितमानस के रचनाकार गोस्वामी तुलसीदास हैं।

2. संधि-विच्छेद कीजिए-यद्यपि, मूलाधार
उत्तर:
यद्यपि = यदि + अपि
मूलाधार = मूल + आधार

3. रामचरितमानस की गणना सर्वोत्कृष्ट रचनाओं में क्यों की जाती है?
उत्तर:
रामचरित मानस की गणना सर्वोत्कृष्ट रचनाओं में इसलिए की जाती है क्योंकि यह महाकाव्य लोकहित की भावना से ओत-प्रोत है। इसमें हर आयु वर्ग के लिए कर्तव्यों का आदर्श रूप, संबंधों को बनाए रखने की कला तथा मानव स्वभाव का स्वाभाविक चित्रण है।

4. मानस की कथा का मूलाधार क्या है, जो इसे अन्य महाकाव्यों से अलग करते हैं ?
उत्तर:
मानस की कथा का मूलाधार वाल्मीकि रामायण, वेद-पुराण आदि ग्रंथ हैं। इसमें राम के उदात्त एवं अनुकरणीय जीवन की कथा को सात वर्गों में बाँट कर प्रस्तुत किया गया है। इस ग्रंथ में नीति, शिक्षा और उपदेश की सामग्री भरपूर है। ”

5. रामचरितमानस की लोकप्रियता का प्रमाण क्या है ? गद्यांश के आधार पर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
रामचरितमानस की लोकप्रियता का प्रमाण यह है कि इस महाकाव्य की लोकप्रियता भारत के ही घर-घर में नहीं, बल्कि विश्व भर में है। तभी तो विश्व की प्रायः सभी भाषाओं में इसका रूपांतरण किया जा चुका है।

17. जहाँ भी दो नदियाँ मिल जाती हैं, उस स्थान को अपने देश में तीर्थ कहने का रिवाज़ है। कई पहाड़ों, जंगलों और खेतों पर गिरी बारिश के पानी के संगम से नदियाँ बनती हैं। एक दूसरे से मिलकर ये नदियाँ बड़ी हो जाती हैं। सबसे बड़ी नदी वह होती है जिसका दूसरी नदियों से सबसे ज़्यादा संयोग होता है। अगर सागर से उलटी गंगा बहाएँ तो गंगा का स्रोत गंगोत्री या उद्गम गोमुख भर नहीं होगा। यमुनोत्री और तिब्बत में ब्रह्मपुत्र का स्रोत भी होगा, दिल्ली, बनारस और पटना जैसे शहरों के सीवर से निकलने वाला पानी भी होगा। बनारस या पटना में गंगा विशाल नदी है, लेकिन वहाँ उसका पानी मात्र शिव जी की जटा से निकलकर नहीं आता।

भारतीय परिवेश में असली संगम वे स्थान हैं, वे सभाएँ तथा वे मंच हैं, जिन पर एक से अधिक भाषाएँ एकत्र होती हैं। नदियाँ अपनी धाराओं में अनेक जनपदों का सौरभ, आँसू और उल्लास लिए चलती हैं और उनका पारस्परिक मिलन वास्तव में नाना जनपदों के मिलन का प्रतीक है। यही हाल भाषाओं का भी है। अगर हिंदी और उर्दू, संस्कृत और फारसी को बड़ी भाषाएँ माना जाए, तो यह तय है कि इनका संगम कई दूसरी भाषाओं से हुआ होगा। अगर किसी भाषा का दूसरी भाषाओं से मेल-मिलाप बंद हो जाता है तो उसका बहना रुक जाता है, ठीक उस नदी के जैसे, जिसमें दूसरी नदियों का पानी मिलना बंद हो जाता है। (CBSE Sample paper 2015)

1. हमारे देश में किसे तीर्थ कहने की परंपरा है?
उत्तर:
हमारे देश में उस स्थान को तीर्थ कहने की परंपरा है जहाँ दो नदियाँ मिलती हैं।

2. सबसे बड़ी नदी किसे माना जाता है?
उत्तर:
सबसे बड़ी नदी उसे माना जाता है जिसका दूसरी नदियों से सबसे ज़्यादा मेल-मिलाप होता है।

3. ‘बनारस या पटना में गंगा विशाल नदी है लेकिन उसका पानी मात्र शिव की जटा से नहीं आता।’-के माध्यम से लेखक क्या कहना चाहता है ? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
‘बनारस या पटना … नहीं आता’ के माध्यम से लेखक यह कहना चाहता है कि इन स्थानों पर विशाल गंगा केवल गंगा नहीं बल्कि अनेक नदियों और अन्य जलस्रोतों के जल का मिला-जुला रूप है जो अपने भीतर बहुत कुछ समेटे हुए है।

4. गद्यांश में असली संगम किसे माना गया है और क्यों?
उत्तर:
गद्यांश में असली संगम उन स्थानों, सभाओं एवं मंचों को कहा गया है जहाँ अनेक भाषाएँ एकत्र होती हैं और चर्चा का विषय बनती हैं। इसका कारण यह है कि इन संगमों पर भाषाएँ एक-दूसरे के संपर्क में आती हैं और अपनी-अपनी परिधि में विस्तार करती हैं।

5. नदियों एवं भाषाओं में क्या समानता है? गद्यांश के आधार पर लिखिए।
उत्तर:
नदियों और भाषाओं में समानता यह है कि जिस तरह बड़ी नदी अनेक नदियों के मेल का परिणाम होती हैं और अन्य नदियों का पानी न मिलने से उसका बहाव बंद हो जाता है उसी प्रकार हिंदी, उर्दू, संस्कृत जैसी भाषाएँ कई भाषाओं के मेल से बनी हैं। यदि अन्य भाषाओं से इनका मेल बंद हो जाए तो इनका विकास अवरुद्ध हो जाता है।

18. आवश्यकता के अनुरूप प्रत्येक जीव को कार्य करना पड़ता है। कर्म से कोई मुक्त नहीं है। अत्यंत उच्चस्तरीय आध्यात्मिक जीव जो साधना में लीन है अथवा उसके विपरीत वैचारिक क्षमता से हीन व्यक्ति ही कर्महीन रह सकता है। शरीर ऊर्जा का केंद्र है। प्रकृति से ऊर्जा प्राप्त करने की इच्छा और अपनी ऊर्जा से परिवेश को समृद्ध करने का भाव मानव के सभी कार्यव्यवहारों को नियंत्रित करता है। अतः आध्यात्मिक साधना में लीन और वैचारिक क्षमता से हीन व्यक्ति भी किसी न किसी स्तर पर कर्मलीन रहते ही हैं।

गीता में कृष्ण कहते हैं, ‘यदि तुम स्वेच्छा से कर्म नहीं करोगे तो प्रकृति तुमसे बलात् कर्म कराएगी।’ जीव मात्र के कल्याण की भावना से पोषित कर्म पूज्य हो जाता है। इस दृष्टि से जो राजनीति के माध्यम से मानवता की सेवा करना चाहते हैं उन्हें उपेक्षित नहीं किया जा सकता। यदि वे उचित भावना से कार्य करें तो वे अपने कार्यों को आध्यात्मिक स्तर तक उठा सकते हैं।

यह समय की पुकार है। जो राजनीति में प्रवेश पाना चाहते हैं, वे यह कार्य आध्यात्मिक दृष्टिकोण लेकर करें और दिनप्रतिदिन आत्मविश्लेषण, अंतर्दृष्टि, सतर्कता और सावधानी के साथ अपने आप का परीक्षण करें, जिसमें वे सन्मार्ग से भटक न ‘जाएँ। राजेंद्र प्रसाद के अनुसार “सेवक के लिए हमेशा जगह खाली पड़ी रहती है। उम्मीदवारों की भीड़ सेवा के लिए नहीं हआ करती। भीड तो सेवा के फल के बँटवारे के लिए लगा करती है जिसका ध्येय केवल सेवा है, सेवा का फल नहीं, उसको इस धक्का-मुक्की में जाने की और इस होड़ में पड़ने की कोई जरूरत नहीं है।

1. कर्म से मुक्ति संभव क्यों नहीं है?
उत्तर:
कर्म से मुक्ति इसलिए संभव नहीं है, क्योंकि कर्म ही ऊर्जा का साधन है और प्रकृति के लिए ऊर्जा आवश्यक है।

2. सच्चे सेवक की पहचान क्या है ?
उत्तर:
सच्चे सेवक की पहचान यह है कि वह हमेशा खाली पड़ी जगह को भर देता है।

3. साधना में लीन एवं वैचारिक क्षमता से हीन व्यक्ति को कर्मरत क्यों बताया गया है?
उत्तर:
मानव शरीर ऊर्जा का केंद्र है, प्रकृति से ऊर्जा पाने की इच्छा अपनी ऊर्जा से परिवेश को समृद्ध करने का भाव मनुष्य के कार्य व्यवहारों को नियंत्रित करता है तथा कर्म के लिए प्रेरित करता रहता है। अतः ऐसे व्यक्ति भी किसी न किसी रूप में कर्मरत रहते हैं।

4. कर्म करते हुए व्यक्ति खुद को आध्यात्मिक स्तर तक कैसे उठा सकता है?
उत्तर:
कल्याण की भावना से किया गया कर्म पूज्य हो जाता है। कल्याण की भावना से मानवता की सेवा यदि व्यक्ति करता है तो वह खुद को आध्यात्मिक स्तर तक उठा सकता है।

5. डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद सेवक और उम्मीदवार के कर्म को किस तरह अलग-अलग रूपों में देखते हैं ?
उत्तर:
डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद के अनुसार सेवक के मन में सेवा भावना प्रबल होती है। वह निस्स्वार्थ भाव से सेवा के लिए तैयार रहता है, इसके विपरीत उम्मीदवार सेवा के लिए न होकर सेवा के फल के बँटवारे के लिए होते हैं। इस तरह वे सेवक और उम्मीदवार के कर्म में अंतर देखते हैं।

19. भाग्यवादी लोग प्रायः कहा करते हैं कि जब भाग्य में नहीं तो सभी परिश्रम व्यर्थ हो जाते हैं। थोड़ी देर के लिए यदि उनकी विचारधारा को ही मान लिया जाए तो भी भाग्य के भरोसे बैठने वाले व्यक्ति की अपेक्षा कर्मशील व्यक्ति ही कहीं अधिक श्रेष्ठ है। कर्म करने के उपरांत यदि असफलता भी मिलती है तो भी व्यक्ति को यह सोचकर विशेष पछतावा नहीं होगा कि उसने प्रयत्न और चेष्टा तो की सफलता का निर्णय परमात्मा के अधीन है।

दूसरी ओर ऐसे लोग जो भाग्य के सहारे बैठे रहते हैं और प्रतीक्षा करते रहते हैं कि अली बाबा की सिम-सिम वाली गुफा का द्वार कब खुलता है, उन्हें जब असफलता का अँधेरा अपने चारों ओर घिरता दिखाई देता है, तब वे प्रायः पछताया करते हैं कि उन्होंने व्यर्थ ही समय क्यों गँवाया। हो सकता था कि उनका परिश्रम और यत्न सफल रहता, किंतु अब बीते समय को लौटाया नहीं जा सकता। इस रत्नगर्भा धरती में हीरे-मणि-माणिक्य का अभाव नहीं है। धरती का विस्तीर्ण अतल गर्भ अनंत धनराशि से भरा पड़ा है। आवश्यकता है, इसके वक्ष को चीरकर उन्हें उगलवा लेने वाले दृढ़ संकल्प और साहस की। धरती की कामधेनु तो उन्हें ही अमृतरस बाँटती है जो लौहकरों से उसका दोहन करते हैं।

1. भाग्यवादी अपनी सफलता का श्रेय किसे देते हैं?
उत्तर:
भाग्यवादी अपनी सफलता का श्रेय भाग्य को देते हैं।

2. धरती को रत्नगर्भा क्यों कहा गया है ?
उत्तर:
धरती को रत्नगर्भा इसलिए कहा गया है क्योंकि धरती में नाना प्रकार के रत्न भरे हुए हैं।

3. कर्मशील व्यक्ति को पछतावा क्यों नहीं होता है?
उत्तर:
कर्मशील व्यक्ति को इसलिए पछतावा नहीं होता है क्योंकि वह यह सोचता है कि उसने प्रयत्न और चेष्टा तो की भले ही उसे सफलता हासिल नहीं हो सकी। वह जानता है कि प्रयत्न करना उसके हाथ है, फल ईश्वर के अधीन होता है।

4. भाग्यवादी कर्मशीलों से किस तरह अलग होते हैं ?
उत्तर:
भाग्यवादी भाग्य के भरोसे बैठकर सफलता का इंतज़ार करते हैं। जब उनको सफलता की जगह असफलता मिलती है तो वे पछताते हैं कि उन्होंने व्यर्थ ही समय गँवाया है।

5. धरती में छिपे रत्नों को कौन निकालकर लाते हैं और कैसे?
उत्तर:
उत्तर:
धरती में छिपे रत्नों को कर्मनिष्ठ लोग निकालकर लाते हैं। वे अपने लोहे सदृश मज़बूत हाथों से धरती रूपी कामधेनु का दोहन करते हैं और रत्नरूपी पीयूष का दोहन कर लेते हैं।

20. आत्मनिर्भरता का अर्थ है-अपने ऊपर निर्भर रहना। जो व्यक्ति दूसरे के मुँह को नहीं ताकते वे ही आत्मनिर्भर होते हैं। . वस्तुतः आत्मविश्वास के बल पर कार्य करते रहना आत्मनिर्भरता है। आत्मनिर्भरता का अर्थ है-समाज, निज तथा राष्ट्र की आवश्यकताओं की पूर्ति करना। व्यक्ति, समाज तथा राष्ट्र में आत्मविश्वास की भावना, आत्मनिर्भरता का प्रतीक है। स्वावलंबन जीवन की सफलता की पहली सीढ़ी है। सफलता प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को स्वावलंबी अवश्य होना चाहिए। स्वावलंबन व्यक्ति, समाज, राष्ट्र के जीवन में सर्वांगीण सफलता प्राप्ति का महामंत्र है। स्वावलंबन जीवन का अमूल्य आभूषण है, वीरों तथा कर्मयोगियों का इष्टदेव है। सर्वांगीण उन्नति का आधार है।

जब व्यक्ति स्वावलंबी होगा, उसमें आत्मनिर्भरता होगी, तो ऐसा कोई कार्य नहीं जिसे वह न कर सके। स्वावलंबी मनुष्य के सामने कोई भी कार्य आ जाए, तो वह अपने दृढ़ विश्वास से, अपने आत्मबल से उसे अवश्य ही पूर्ण कर लेगा। स्वावलंबी मनुष्य जीवन में कभी भी असफलता का मुँह नहीं देखता। वह जीवन के हर क्षेत्र में निरंतर कामयाब होता जाता है। सफलता तो स्वावलंबी मनुष्य की दासी बनकर रहती है। जिस व्यक्ति का स्वयं अपने आप पर ही विश्वास नहीं, वह भला क्या कर पाएगा? परंतु इसके विपरीत जिस व्यक्ति में आत्मनिर्भरता होगी, वह कभी किसी के सामने नहीं झुकेगा। वह जो करेगा सोचसमझकर धैर्य से करेगा। मनुष्य में सबसे बड़ी कमी स्वावलंबन का न होना है। सबसे बड़ा गुण भी मनुष्य की आत्मनिर्भरता ही है।

1. किन व्यक्तियों को आत्मनिर्भर कहा जा सकता है?
उत्तर:
जो व्यक्ति अपना काम स्वयं करते हैं और अपने कार्य के लिए दूसरों पर आश्रित नहीं रहते हैं उन्हें आत्मनिर्भर कहा जाता है।

2. गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक लिखिए।
उत्तर:
गद्यांश का शीर्षक है- आत्मनिर्भरता।

3. व्यक्ति के जीवन में स्वावलंबन का क्या महत्त्व है?
उत्तर:
स्वावलंबन को मानव जीवन की सफलता के लिए पहली सीढ़ी माना जाता है। स्वावलंबन के बिना सफलता नहीं मिलती है। यह जीवन का अमूल्य आभूषण और सर्वांगीण उन्नति का आधार है। व्यक्ति के जीवन में इसका विशेष महत्त्व है।

4. स्वावलंबी व्यक्ति अपने काम में किस तरह सफलता प्राप्त करते हैं?
उत्तर:
स्वावलंबी व्यक्ति के लिए कोई काम असंभव नहीं होता है। वह हर काम को अपने आत्मबल और दृढविश्वास से पूरा कर लेता है। ऐसा व्यक्ति हर क्षेत्र में कामयाब होता है और कभी भी असफलता का मुँह नहीं देखता है।

5. सफलता को स्वावलंबी की दासी क्यों कहा गया है?
उत्तर:
सफलता को स्वावलंबी की दासी इसलिए कहा जाता है क्योंकि स्वावलंबी व्यक्ति को अपनी क्षमता पर पूरा भरोसा होता है। वह आत्मनिर्भर होता है, इस कारण किसी के आगे नहीं झुकता है। अपने इन गुणों के कारण सफलता उसका वरण कर उसकी दासी बन जाती है।

21. जिस विद्यार्थी ने समय की कीमत जान ली वह सफलता को अवश्य प्राप्त करता है। प्रत्येक विद्यार्थी को अपनी दिनचर्या की समय-सारणी अथवा तालिका बनाकर उसका पूरा दृढ़ता से पालन करना चाहिए। जिस विद्यार्थी ने समय का सही उपयोग करना सीख लिया उसके लिए कोई भी काम करना असंभव नहीं है। कुछ लोग ऐसे भी हैं जो कोई काम पूरा न होने पर समय की दुहाई देते हैं। वास्तव में सच्चाई इसके विपरीत होती है।

अपनी अकर्मण्यता और आलस को वे समय की कमी के बहाने छिपाते हैं। कुछ लोगों को अकर्मण्य रहकर निठल्ले समय बिताना अच्छा लगता है। ऐसे लोग केवल बातूनी होते हैं। दुनिया के सफलतम व्यक्तियों ने सदैव कार्य व्यस्तता में जीवन बिताया है। उनकी सफलता का रहस्य समय का सदुपयोग रहा है। दुनिया में अथवा प्रकृति में हर वस्तु का समय निश्चित है। समय बीत जाने के बाद कार्य फलप्रद नहीं होता।

1. सफलता पाने के लिए विद्यार्थी को क्या जानना आवश्यक होता है?
उत्तर:
सफलता पाने के लिए विद्यार्थी समय का मूल्य जानना आवश्यक होता है।

2. गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक लिखिए।
उत्तर:
गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक है – समय का महत्त्व।

3. विद्यार्थी के लिए सफलता कब असंदिग्ध हो जाती है?
उत्तर:
जब विद्यार्थी समय का मूल्य समझ लेता है और समय का सदुपयोग करना सीख जाता है तब उसके लिए सफलता असंदिग्ध हो जाती है।

4. गद्यांश में किस बात को सच्चाई के विपरीत बताया गया है?
उत्तर:
कुछ लोग काम न पूरा होने कारण समय की कमी बताते हैं, उनकी यह बात सच्चाई के विपरीत होती है। वे अपनी अकर्मण्यता और आलस्य को समय की कमी बताकर छिपाना चाहते हैं।

5. दुनिया के सफलतम व्यक्तियों ने सफलता के किस रहस्य को समझ लिया था?
उत्तर:
दुनिया के सफलतम व्यक्तियों ने यह समझ लिया था कि समय के पल-पल का सदुपयोग करना चाहिए। वे जानते थे कि प्रकृति में हर वस्तु के लिए समय निश्चित है, समय पर काम करने से ही सफलता मिलती है, उन्होंने इस रहस्य को समझ लिया था।

22. ‘विष्णु-पुराण’ के प्रथम अंश के नवें अध्याय में इस अमृत-मंथन के कारणों का स्पष्ट उल्लेख है कि फूलों की माला का अपमान करने के प्रायश्चित स्वरूप देवताओं को अमृत-मंथन करना पड़ा। वह कथा इस प्रकार है कि दुर्वासा ऋषि ने पृथ्वी पर विचरण करते हुए एक कृशांगी के जिसकी बड़ी-बड़ी आँखें थी, हाथ में एक दिव्य माला देखी। उन्होंने उस विद्याधरी से उस माला को माँग लिया और उसे किसी अति विशिष्ट व्यक्ति की गर्दन में डालने की बात सोचने लगे।

तभी ऐरावत पर चढ़े देवताओं के साथ आते हुए इंद्र पर उनकी नज़र पड़ी उन्हें देखकर दुर्वासा ने उस माला को इंद्र के गले में डाल दिया लेकिन इंद्र ने अनिच्छापूर्वक ग्रहण करके उस माला को ऐरावत के मस्तक पर डाल दिया। ऐरावत उसकी गंध से इतना विचलित हो उठा कि फौरन सैंड से लेकर उसने माला को पृथ्वी पर फेंक दिया। संयोगवश वह माला दुर्वासा के ही पास जा गिरी। इंद्र को पहनाई गई माला की इतनी दुर्दशा देखकर दुर्वासा को क्रोध आना स्वाभाविक था। वह वापस इंद्र के पास लौटकर आए और कहने लगे ‘अरे ऐश्वर्य के घमंड में चूर अहंकारी! तू बड़ा ढीठ है, तूने मेरी दी हुई माला का कुछ भी आदर नहीं किया।

न तो तुमने माला पहनाते वक्त मेरे द्वारा दिए गए सम्मान के प्रति आभार व्यक्त किया और न ही तुमने उस माला का ही सम्मान किया। इसलिए अब तेरा ये त्रिलोकी वैभव नष्ट हो जाएगा। तेरा अहंकार तेरे विनाश का कारण है जिसके प्रभाव में तूने मेरी माला का अपमान किया। तू अब अनुनय-विनय करने का ढोंग भी मत करना। मैं उसके लिए क्षमा नहीं कर सकता।’

1. देवताओं द्वारा ‘अमृत-मंथन’ करने का कारण क्या था?
उत्तर:
देवताओं द्वारा ‘अमृत मंथन’ करने का कारण फूलों की माला का अपमान करने के प्रायश्चित स्वरूप करना पड़ा।

2. गद्यांश के माध्यम से क्या सीख दी गई है?
उत्तर:
गदयांश के माध्यम से यह सीख दी गई है कि व्यक्ति को कभी घमंड नहीं करना चाहिए। यह व्यक्ति के विनाश का कारण बन जाता है।

3. दुर्वासा को दिव्य माला कहाँ से मिली? उन्होंने इंद्र को माला क्यों पहनाई ?
उत्तर:
दुर्वासा को दिव्य माला एक दुबली-पतली लड़की से मिली। उन्होंने यह माला इंद्र को इसलिए पहनाई क्योंकि वे इसे किसी अतिविशिष्ट व्यक्ति को पहनाना चाहते थे। इंद्र ऐसे ही अति विशिष्ट व्यक्ति थे।

4. दुर्वासा की माला दुर्वासा के पास किस तरह वापस आ गई ?
उत्तर:
दुर्वासा द्वारा पहनाई माला को इंद्र ने उतारकर अपने हाथी ऐरावत के गले में डाली दी। इसकी गंध से परेशान होकर ऐरावत ने वह माला अपनी सूंड़ में लेकर फेंक दी जो सीधे दुर्वासा के पास आ गिरी।

5. इंद्र को दुर्वासा के क्रोध का भाजन क्यों होना पड़ा? ऐसा इंद्र के किस अवगुण के कारण हुआ?
उत्तर:
दुर्वासा द्वारा पहनाई माला, उसमें लगे फूलों का सम्मान करना, माला पहनाने पर इंद्र द्वारा दुर्वासा के प्रति आभार न प्रकट करने के कारण उन्हें दुर्वासा के क्रोध का भाजन बनना पड़ा। इंद्र के द्वारा घमंड भरा व्यवहार करने के कारण ऐसा हुआ।

23. गंगा भारत की एक अत्यंत पवित्र नदी है जिसका जल काफ़ी दिनों तक रखने के बावजूद भी खराब नहीं होता है जबकि साधारण जल कुछ ही दिनों में सड़ जाता है। गंगा का उद्गम स्थल गंगोत्री या गोमुख है। गोमुख से भागीरथी नदी निकलती है और देव प्रयाग नामक स्थान पर अलकनंदा नदी से मिलकर आगे गंगा के रूप में प्रवाहित होती है। भागीरथी के देवप्रयाग तक आते-आते इसमें कुछ चट्टानें घुल जाती हैं जिससे इसके जल में ऐसी क्षमता पैदा हो जाती है जो उसके पानी को सड़ने नहीं देती।

हर नदी के जल में कुछ खास तरह के पदार्थ घुले होते हैं जो उसकी विशिष्ट जैविक संरचना के लिए उत्तरदायी होते हैं। ये घुले हुए पदार्थ पानी में कुछ खास तरह के पदार्थ पनपने देते हैं तो कुछ को नहीं। कुछ खास तरह के बैक्टीरिया ही पानी की सड़न के लिए उत्तरदायी होते हैं तो कुछ पानी में सड़न पैदा करने वाले कीटाणुओं को रोकने में सहायता करते हैं। वैज्ञानिक शोधों से पता चलता है कि गंगा के पानी में भी ऐसे बैक्टीरिया हैं जो गंगा के पानी में सड़न पैदा करने वाले कीटाणुओं को पनपने ही नहीं देते। इसलिए गंगा का पानी काफ़ी लंबे समय तक खराब नहीं होता और पवित्र माना जाता है।

1. गंगा जल साधारण जल से किस तरह भिन्न होता है?
उत्तर:
साधारण जल कुछ ही दिनों में खराब हो जाता है जबकि गंगाजल काफी समय रखने पर भी खराब नहीं होता है।

2. ‘प्रवाहित’, जैविक शब्दों में प्रयुक्त/उपसर्ग पृथक कर मूल शब्द भी बताइए।
उत्तर:
CBSE Class 10 Hindi A Unseen Passages अपठित गद्यांश - 4

3. गंगा अपने उद्गम स्थल से निकलकर किन-किन नामों से अपनी यात्रा करती है? इसका जल विशिष्ट कैसे बन जाता है?
उत्तर:
गंगा अपने उद्गम स्थल गोमुख से भागीरथी के रूप में निकलती हैं। यह अलकनंदा नामक नदी से मिलकर गंगा के रूप में
आगे की यात्रा करती है। इसके जल में कुछ चट्टानें घुल जाने से यह पानी न सड़ने की क्षमता पाकर विशिष्ट बन जाता है।

4. नदी जल में घुले खास पदार्थ क्या योगदान देते हैं ?
उत्तर:
नदी के जल की विशिष्ट जैविक संरचना के लिए उसमें घुले विशेष पदार्थ होते हैं। ये घुले पदार्थ ही कुछ खास तरह के पदार्थ को पनपने देते हैं और कुछ को नहीं पनपने देते हैं।

5. कुछ बैक्टीरिया गंगा जल की शुद्धाता एवं महत्ता किस तरह बढ़ा देते हैं ?
उत्तर:
कुछ विशेष प्रकार के बैक्टीरिया पानी में सड़न पैदा करने वाले कीटाणुओं को रोकते हैं। गंगा जल में भी ऐसे ही बैक्टीरिया पाए जाते हैं जो सड़न पैदा करने वाले जीवाणुओं को पनपने ही नहीं देते हैं। इस तरह वे गंगाजल की शुद्धता एवं महत्ता बढ़ा देते

24. ऊँची पर्वत श्रृंखलाओं की बरफ़ीली चोटियों के स्पर्श से शीतल हुई हवा सबसे बेखबर अपनी ही मस्ती में सुबह-सुबह बहती जा रही थी। जब वह जंगलों के बीच से गुजर रही थी, तो फूलों से लदी खूबसूरत वन लता ने अपने रंग भरे शृंगार को झलकाते हुए कहा, ओ शीतल हवा! तनिक मेरे पास आओ और रुको। ताकि मेरी खुशबू से ओतप्रोत होकर इस संसार को अपठित गद्यांश शीतल ही नहीं, सुगंधित भी कर सको लेकिन गर्व से भरी वायु ने सुगंध बाँटने को आतुर लता की प्रार्थना नहीं सुनी और कहा, मैं यूँ ही सबको शीतल कर दूँगी, मुझे किसी से कुछ और लेने की ज़रूरत नहीं है। फिर वह इठलाती हुई आगे बढ़ गई।

पर कुछ ही देर बाद हवा वापस वहीं लौटकर आ गई, जहाँ वन लता से उसका वार्तालाप हुआ था। उसकी चंचलता खत्म हो चुकी थी और वह उदास थी। वह चुपचाप उस लता के समीप बैठ गई।

हवा को इस हाल में देखकर वन लता ने पूछा, अभी कुछ देर पहले ही तो तुम यहाँ से गुज़री थी और खुश लग रही थी। अब इतनी उदास दिखाई पड़ रही हो, क्या बात है? क्या मैं तुम्हारी कुछ मदद कर सकती हूँ? यह सुनकर हवा की आँखों से आँसू झरने लगे। उसने कहा, मैंने अहंकारवश तेरी बात नहीं सुनी और न तेरी खुशबू को ही साथ लिया, लेकिन जैसे ही आगे बढ़ी, गंदगी और बदबू में घिर गई। किसी तरह वहाँ से बचकर आगे बढ़ी और घरों तक पहुँची, लेकिन वहाँ किसी ने मेरा स्वागत नहीं किया। लोगों ने अपने घरों की खिड़कियाँ और दरवाजे बंद कर लिए। इसमें उनका भी कोई दोष नहीं था।उस गंदे क्षेत्र से गुजरने के कारण मुझमें दुर्गंध व्याप्त हो गई थी। भला दुर्गंधयुक्त वायु का कोई कैसे स्वागत करता?

1. हवा को अपनी शीतलता पर घमंड क्यों था?
उत्तर:
हवा को अपनी शीतलता पर इसलिए घमंड था क्योंकि वह पर्वत की ऊँची-ऊँची बरफीली चोटियों को छूती हुई आई थी।

2. हवा क्या करने के लिए आतुर थी?
उत्तर:
हवा लोगों में अपनी शीतलता बाँटने के लिए आतुर थी।

3. हवा को किसने रोका और क्यों? हवा की क्या प्रतिक्रिया थी?
उत्तर:
हवा को वनलता ने रोका ताकि शीतल हवा उससे खुशबू ले ले और लोगों को शीतलता ही न बाँटे बल्कि लोगों को सुगंधित भी कर दे। हवा अपनी शीतलता के गर्व में भरी थी इसलिए उसने वनलता की बात अनसुनी कर दी।

4. गंदगी और बदबू का हवा पर क्या असर पड़ा? लोगों ने हवा का स्वागत क्यों नहीं किया?
उत्तर:
गंदगी और बदबू के कारण हवा बदबूदार हो गई, जिससे लोग हवा से दूरी बनाने लगे। बदबूदार हवा किसी को अच्छी नहीं लगती है, इसलिए लोगों ने हवा का स्वागत नहीं किया।

5. हवा वनलता के पास क्यों लौट आई ? उसने वनलता से क्या सीख लिया होगा?
उत्तर:
लोगों की उपेक्षा से दुखी होकर हवा वनलता के पास लौट आई। उसने वनलता से यह सीख ली होगी कि अहंकार नहीं करना चाहिए और दूसरे की बातों की उपेक्षा नहीं करनी चाहिए।

25. हँसी शरीर के स्वास्थ्य का शुभ संकेत देने वाली होती है। वह एक साथ ही शरीर और मन को प्रसन्न करती है। वाचन-शक्ति
बढ़ाती है, रक्त को चलाती और पसीना लाती है। हँसी एक शक्तिशाली दवा है। एक डॉक्टर कहता है कि वह जीवन की मीठी मदिरा है। डॉक्टर ह्यूड कहता है कि आनंद से बढ़कर बहुमूल्य वस्तु मनुष्य के पास नहीं है। कारलाइल एक राजकुमार था। वह संसार त्यागी हो गया था। वह कहता है कि जो जी से हँसता है, वह कभी बुरा नहीं होता। जी से हँसो, तुम्हें अच्छा लगेगा।

अपने मित्र को हँसाओ, वह अधिक प्रसन्न होगा। शत्रु को हँसाओ, तुम से कम घृणा करेगा। एक अनजान को हँसाओ, तुम पर भरोसा करेगा। उदास को हँसाओ, उसका दुख घटेगा। एक निराश को हँसाओ, उसकी आशा बढ़ेगी। एक बूढे को हँसाओ, वह अपने को जवान समझने लगेगा। एक बालक को हँसाओ, उसके स्वास्थ्य में वृद्धि होगी। वह प्रसन्न और प्यारा बालक बनेगा। पर हमारे जीवन का उद्देश्य केवल हँसी ही नहीं है, हमको बहुत काम करने हैं तथापि उन कामों में, कष्टों में और चिंताओं में एक सुंदर आंतरिक हँसी, बड़ी प्यारी वस्तु भगवान ने दी है।

1. यूड ने मनुष्य के लिए सबसे बहुमूल्य वस्तु किसे बताया है ?
उत्तर:
ह्यूड ने मनुष्य के लिए हँसी को सबसे बहुमूल्य वस्तु बताया है।

2. गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक लिखिए।
उत्तर:
गद्यांश का शीर्षक है – जीवन में हँसी का महत्त्व।

3. हँसी स्वास्थ्य का शुभ संकेत किस तरह देती है ?
उत्तर:
हँसी से तन-मन प्रसन्न होता है, पाचन शक्ति बढ़ती है। शरीर में रक्त संचार बढ़ता है और पसीना लाने वाली ग्रंथियाँ सक्रिय होती हैं। ये सब स्वस्थ शरीर के लक्षण हैं। इस तरह हँसी स्वास्थ्य का शुभ संकेत देती है।

4. एक निराश बूढ़े और बालक पर हँसी क्या प्रभाव डालती है?
उत्तर:
हँसी एक निराश व्यक्ति की हताशा दूर कर आशा का संचार करती है। हँसने से बूढ़ा व्यक्ति जवान-सा महसूस करता है। हँसी बालक को प्रसन्न चित्त और स्वस्थ बनाती है।

5. गद्यांश में ईश्वर द्वारा प्रदत्त बड़ी प्यारी वस्तु किसे कहा गया है और क्यों?
उत्तर:
गद्यांश में हँसी को ईश्वर प्रदत्त सबसे प्यारी वस्तु कहा गया है, क्योंकि हँसी कष्टों और चिंताओं से मनुष्य को राहत दिलाती __ है, व्यक्ति को स्वस्थ बनाती है और उसे दीर्घायु करती है।

अब स्वयं करें

1) जातियों की क्षमता और सजीवता यदि कहीं प्रत्यक्ष देखने को मिल सकती है तो उसके साहित्य रूपी आईने में ही मिल सकती है। इस आईने के सामने जाते ही हमें यह तत्काल मालूम हो जाता है कि अमुक जाति की जीवनी शक्ति इस समय कितनी या कैसी है और भूतकाल में कितनी और कैसी थी। आप भोजन करना बंद कर दीजिए या कम कर दीजिए, आप का शरीर क्षीण हो जाएगा और भविष्य-अचिरात् नाशोन्मुख होने लगेगा। इसी तरह आप साहित्य के रसास्वादन से अपने मस्तिष्क को वंचित कर दीजिए, वह निष्क्रिय होकर धीरे-धीरे किसी काम का न रह जाएगा। शरीर का खाद्य भोजन है और मस्तिष्क का खाद्य साहित्य। यदि हम अपने मस्तिष्क को निष्क्रिय और कालांतर में निर्जीव-सा नहीं कर डालना चाहते, तो हमें साहित्य का सतत सेवन करना चाहिए और उसमें नवीनता और पौष्टिकता लाने के लिए उसका उत्पादन भी करते रहना चाहिए।

प्रश्न

  1. साहित्य रूपी आइने में हमें किसकी झलक मिलती है?
  2. ‘नाशोन्मुख’ और ‘कालांतर’ में संधि-विच्छेद कीजिए।
  3. हमें साहित्य का पठन-पाठन क्यों करते रहना चाहिए?
  4. मस्तिष्क का भोजन किसे कहा गया है और क्यों?
  5. साहित्य का निरंतर उत्पादन करते रहना क्यों आवश्यक है ?

2) ज्ञान-राशि के संचित कोष का नाम ही साहित्य है। सब तरह के भावों को प्रकट करने की योग्यता रखने वाली और निर्दोष होने पर भी, यदि कोई भाषा अपना निज का साहित्य नहीं रखती तो वह, रूपवती भिखारिन की तरह, कदापि आदरणीय नहीं हो सकती। उसकी शोभा, उसकी श्रीसंपन्नता, उसकी मान-मर्यादा उसके साहित्य पर ही अवलंबित रहती है। जाति विशेष के उत्कर्षापकर्ष का, उसके उच्चनीच भावों का, उसके धार्मिक विचारों और सामाजिक संघटन का उसके ऐतिहासिक घटनाचक्रों और राजनैतिक स्थितियों का प्रतिबिंब देखने को यदि कहीं मिल सकता है तो उसके ग्रंथ-साहित्य ही में मिल सकता है। सामाजिक शक्ति या सजीवता, सामाजिक अशक्ति या निर्जीवता और सामाजिक सभ्यता तथा असभ्यता का निर्णायक एकमात्र साहित्य है।

प्रश्न

  1. साहित्य किसे कहा जाता है?
  2. असभ्यता, अवलंबित शब्दों में प्रयुक्त उपसर्ग-प्रत्यय और मूलशब्द अलग-अलग करके लिखिए।
  3. रूपवती भिखारिन से किसकी तुलना की गई है? वह आदर का पात्र क्यों नहीं समझी जाती है।
  4. साहित्य किसी जाति विशेष का आइना होता है, कैसे?
  5. समाज के लिए साहित्य की क्या उपयोगिता है ? गद्यांश के आधार पर लिखिए।

3) मांगलिक अवसरों पर पुष्प मालाओं का महत्त्व कोई नया नहीं है। पुष्प मालाएँ उन्हें ही पहनाई जाती थीं जिन्हें सामाजिक दृष्टि से विशिष्ट या अति विशिष्ट माना जाता था। देवताओं पर पुष्प मालाएँ अर्पित करने के पीछे मनुष्य की ऐसी ही भावनाएँ थी। इनमें सबसे महत्त्वपूर्ण है फूलों की मालाओं को धारण करना। जितना सम्मान, फूलों की माला पहनाकर, किसी अति विशिष्ट व्यक्ति को दिया जाता है उसकी सार्थकता तभी है जब वह व्यक्ति अपने गले में धारण कर उसे स्वीकार करे। यदि वह विशिष्ट व्यक्ति उसे धारण नहीं करता है तो वह अप्रत्यक्ष रूप से स्वयं उस सम्मान का तिरस्कार करता है।

इसमें न अपठित गद्यांशसिर्फ पुष्प माला पहनाने वालों का बल्कि उन फूलों का भी अपमान होता है जो उसमें गूंथे जाते हैं। वर्तमान लोक रीति में पुष्प मालाओं का ऐसा अपमान शिक्षित एवं सुसंस्कृत कहे जाने वाले वर्गों में देखा जा सकता है। किसी भी शुभ अवसर पर मुख्य अतिथि या विशिष्ट व्यक्ति को पुष्प मालाएँ पहनाई तो जाती हैं लेकिन न जाने किस कुंठा या कुसंस्कार के कारण उसे गले से निकालकर सामने टेबल पर रख देते हैं या स्वनामधन्य मंत्री अपने पी०ए० या सुरक्षाकर्मियों को सौंप देते हैं जो जाते समय या तो छोड़ जाते हैं या रास्ते में फेंक जाते हैं। पुष्पों का, पहनाने वालों का और स्वयं का वह इस प्रकार अपमान कर जाते हैं जिसमें पता चलता है कि विशिष्ट कहे जाने वाले व्यक्ति में इतनी पात्रता नहीं कि वे उस पुष्प माला को अपने गले में धारण कर सकें।

प्रश्न

  1. देवताओं पर फूल-मालाएँ क्यों अर्पित की जाती हैं?
  2. ‘मांगलिक’, ‘कुसंस्कार’ शब्दों में प्रयुक्त प्रत्यय/उपसर्ग पृथक कर मूल शब्द लिखिए।
  3. विशिष्ट व्यक्ति दिए गए सम्मान और फूलों को किस तरह सार्थक कर सकते हैं ?
  4. विशिष्ट जन अप्रत्यक्ष में किनका अपमान कर बैठते हैं और कैसे?
  5. वर्तमान समय में शिक्षित एवं सुसंस्कृत वर्ग फूलों का अपमान किस तरह करते दिखाई देते हैं ?

4) अपनी मृत्यु से कुछ माह पहले महात्मा गांधी ने भाषा के प्रश्न पर अपने विचार दोहराते हुए कहा था, “यह हिंदुस्तानी न तो संस्कृतनिष्ठ हिंदी होनी चाहिए और न ही फारसी निष्ठ उर्दू। यह दोनों का सुंदर मिश्रण होना चाहिए। उसे विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं से शब्द खुलकर उधार लेने चाहिए। विदेशी भाषाओं के ऐसे शब्द लेने में कोई हर्ज नहीं है जो हमारी राष्ट्रीय भाषा में अच्छी तरह और आसानी से घुल-मिल सकते हैं। इस प्रकार हमारी राष्ट्रीय भाषा एक समृद्ध और शक्तिशाली भाषा होनी चाहिए जो मानवीय विचारों और भावनाओं के पूरे समुच्चय को अभिव्यक्ति दे सके। खुद को हिंदी या उर्दू से बाँध लेना देशभक्ति की भावना और समझदारी के विरुद्ध एक अपराध होगा। (हरिजन सेवक समाज, 12 अक्टूबर, 1947)

प्रश्न

  1. गद्यांश में मनुष्य के किस कृत्य को अपराध कहा गया है?
  2. अर्थ लिखिए – हर्ज़, मिश्रण।
  3. गांधी जी किस भाषा को राष्ट्रभाषा बनाना चाहते थे? इस भाषा की क्या विशेषता होनी चाहिए?
  4. गांधी जी क्षेत्रीय और विदेशी भाषाओं से शब्द लेने के पक्षधर क्यों थे?
  5. राष्ट्रभाषा किसे कहते हैं ? उसकी विशेषताएँ गद्यांश के आधार पर लिखिए।

5. संसार के सभी देशों में शिक्षित व्यक्ति की सबसे पहली पहचान यह होती है कि वह अपनी मातृभाषा में दक्षता से काम कर सकता है। केवल भारत ही एक ऐसा देश है जिसमें शिक्षित व्यक्ति वह समझा जाता है जो अपनी मातृभाषा में दक्ष हो या नहीं किंतु अंग्रेजी में जिसकी दक्षता असंदिग्ध हो। संसार के अन्य देशों में सुसंस्कृत व्यक्ति वह समझा जाता है जिसके घर में अपनी भाषा की पुस्तकों का संग्रह हो और जिसे बराबर यह पता रहे कि उसकी भाषा के अच्छे लेखक और कवि कौन हैं? तथा समय-समय पर उनकी कौन-सी कृतियाँ प्रकाशित हो रही हैं? भारत में स्थिति दूसरी है। यहाँ घर में प्रायः साज-सज्जा के आधुनिक उपकरण तो होते हैं किंतु अपनी भाषा की कोई पुस्तक नहीं होती है।

यह दुरवस्था भले हो किसी ऐतिहासिक प्रक्रिया का परिणाम है किंतु यह सुदशा नहीं है दुरवस्था ही है। इस दृष्टि से भारतीय भाषाओं के लेखक केवल यूरोपीय और अमेरिकी लेखकों से ही हीन नहीं हैं बल्कि उनकी किस्मत चीन, जापान के लेखकों की किस्मत से भी खराब है क्योंकि इन सभी लेखकों की कृतियाँ वहाँ के अत्यंत सुशिक्षित लोग भी पढ़ते हैं। केवल हम ही नहीं हैं जिनकी पुस्तकों पर यहाँ के तथाकथित शिक्षित समुदाय की दृष्टि प्रायः नहीं पड़ती। हमारा तथाकथित उच्च शिक्षित समुदाय जो कुछ पढ़ना चाहता है, उसे अंग्रेजी में ही पढ़ लेता है। यहाँ तक उसकी कविता और उपन्यास पढ़ने की तृष्णा भी अंग्रेजी की कविता और उपन्यास पढ़कर ही समाप्त हो जाती है और उसे यह जानने की इच्छा ही नहीं होती कि शरीर से वह जिस समाज कासदस्य है उसके मनोभाव उपन्यास और काव्य में किस अदा से व्यक्त हो रहे हैं।

प्रश्न
1. हमारे देश में शिक्षित व्यक्ति की पहचान क्या है?
2. शब्दार्थ लिखिए – कृतियाँ, दक्षता।
3. भारत तथा अन्य देशों के सुसंस्कृत व्यक्तियों के मापदंड किस तरह अलग-अलग हैं ?
4. भारतीय भाषाओं के लेखकों की स्थिति चीन जापान के लेखकों से हीन क्यों है? ऐसी स्थिति का होना किसका परिणाम है?
5. भारत के तथाकथित शिक्षित समुदाय की स्थिति पर संक्षेप में प्रकाश डालिए।

 

The post CBSE Class 10 Hindi A Unseen Passages अपठित गद्यांश appeared first on Learn CBSE.

CBSE Class 10 Hindi A Unseen Passages अपठित काव्यांश

0
0

CBSE Class 10 Hindi A Unseen Passages अपठित काव्यांश

अपठित काव्यांश

अपठित काव्यांश अपठित काव्यांश किसी कविता का वह अंश होता है जो पाठ्यक्रम में शामिल पुस्तकों से नहीं लिया जाता है। इस अंश को छात्रों द्वारा पहले नहीं पढ़ा गया होता है।

अपठित काव्यांश का उद्देश्य काव्य पंक्तियों का भाव और अर्थ समझना, कठिन शब्दों के अर्थ समझना, प्रतीकार्थ समझना, काव्य सौंदर्य समझना, भाषा-शैली समझना तथा काव्यांश में निहित संदेश। शिक्षा की समझ आदि से संबंधित विद्यार्थियों की योग्यता की जाँच-परख करना है।

अपठित काव्यांश पर आधारित प्रश्नों को हल करने से पहले काव्यांश को दो-तीन बार पढ़ना चाहिए तथा उसका भावार्थ और मूलभाव समझ में आ जाए। इसके लिए काव्यांश के शब्दार्थ एवं भावार्थ पर चिंतन-मनन करना चाहिए। छात्रों को व्याकरण एवं भाषा पर अच्छी पकड़ होने से यह काम आसान हो जाता है। यद्यपि गद्यांश की तुलना में काव्यांश की भाषा छात्रों को कठिन लगती है। इसमें प्रतीकों का प्रयोग इसका अर्थ कठिन बना देता है, फिर भी निरंतर अभ्यास से इन कठिनाइयों पर विजय पाई जा सकती है।

अपठित काव्यांश संबंधी प्रश्नों को हल करते समय निम्नलिखित प्रमुख बातों पर अवश्य ध्यान देना चाहिए –

  • काव्यांश को दो-तीन बार ध्यानपूर्वक पढ़ना और उसके अर्थ एवं मूलभाव को समझना।
  • कठिन शब्दों या अंशों को रेखांकित करना।
  • प्रश्न पढ़ना और संभावित उत्तर पर चिह्नित करना।
  • प्रश्नों के उत्तर देते समय प्रतीकार्थों पर विशेष ध्यान देना।
  • प्रश्नों के उत्तर काव्यांश से ही देना; काव्यांश से बाहर जाकर उत्तर देने का प्रयास न करना।
  • उत्तर अपनी भाषा में लिखना, काव्यांश की पंक्तियों को उत्तर के रूप में न उतारना।
  • यदि प्रश्न में किसी भाव विशेष का उल्लेख करने वाली पंक्तियाँ पूछी गई हैं तो इसका उत्तर काव्यांश से समुचित भाव व्यक्त करने वाली पंक्तियाँ ही लिखना चाहिए।
  • शीर्षक काव्यांश की किसी पंक्ति विशेष पर आधारित न होकर पूरे काव्यांश के भाव पर आधारित होना चाहिए।
  • शीर्षक संक्षिप्त आकर्षक एवं अर्थवान होना चाहिए।
  • अति लघुत्तरीय और लघुउत्तरीय प्रश्नों के उत्तर में शब्द सीमा का ध्यान अवश्य रखना चाहिए।
  • प्रश्नों का उत्तर लिखने के बाद एक बार दोहरा लेना चाहिए ताकि असावधानी से हुई गलतियों को सुधारा जा सके।

काव्यांश को हल करने में आनेवाली कठिनाई से बचने के लिए छात्र यह उदाहरण देखें और समझें –

निम्नलिखित काव्यांश को पढ़िए और पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए –
CBSE Class 10 Hindi A Unseen Passages अपठित काव्यांश - 11. कवि देशवासियों से क्या आह्वान कर रहा है?
उत्तर:
कवि देशवासियों से यह आह्वान कर रहा है कि वे भारत में एकता स्थापित करके सुख-शांति से जीवन बिताएँ।

2. आपस में एकता बनाए रखने के लिए किसका उदाहरण दिया गया है?
उत्तर:
आपस में एकता बनाए रखने के लिए कवि तरह-तरह के फूलों से बनी सुंदर माला का उदाहरण दे रहा है।

3. देश में एकता की भावना कब मज़बूत हो सकती है?
उत्तर:
देश में एकता की सच्ची भावना तब मज़बूत हो सकती है जब हर देशवासी जाति-धर्म, भाषा प्रांत आदि के बारे में अविवेक से सोचना बंद करे और सच्चे मन से दूसरों से मेल करे।

4. ‘भिन्नता में खिन्नता’ के माध्यम से कवि क्या कहना चाहता है और क्यों?
उत्तर:
भिन्नता के माध्यम से कवि यह कहना चाहता है कि अलग-अलग रहने का परिणाम दुख एवं अशांति ही होता है। अतः हमें मेल जोल और ऐक्यभाव से रहना चाहिए क्योंकि एकता के अभाव में देश कमज़ोर हो जाएगा जिसका परिणाम दुखद ही होगा।

5. काव्यांश में सच्ची एकता किसे कहा गया है? इसे बनाए रखने के लिए क्या करना चाहिए?
उत्तर:
सच्चे मन से ही एक-दूसरे से मिलने को सच्ची एकता कहा है। इसके लिए भारतीयों को आपसी बैर और विरोध को सप्रयास बलपूर्वक दबा देना चाहिए और एकता मज़बूत करनी चाहिए।

निम्नलिखित काव्यांश को पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के उत्तर लिखिए –

1. कोलाहल हो,
या सन्नाटा, कविता सदा सृजन करती है,
जब भी आँसू
कविता सदा जंग लड़ती है।
यात्राएँ जब मौन हो गईं
कविता ने जीना सिखलाया
जब भी तम का
जुल्म चढ़ा है, कविता नया सूर्य गढ़ती है,

जब गीतों की फ़सलें लुटती
शीलहरण होता कलियों का,
शब्दहीन जब हुई चेतना हुआ पराजित,
तब-तब चैन लुटा गलियों का जब भी कर्ता हुआ अकर्ता,
जब कुरसी का
कंस गरजता, कविता स्वयं कृष्ण बनती है।
अपने भी हो गए पराए कविता ने चलना सिखलाया।
यूँ झूठे अनुबंध हो गए
घर में ही वनवास हो रहा
यूँ गूंगे संबंध हो गए। (Delhi 2015)

1. कविता की प्रवृत्ति किस तरह की बताई गई है?
उत्तर:
कविता की प्रवृत्ति हर काल में नव सृजन करने वाली बताई गई है।

2. कविता मनुष्य को कब जीना सिखाती है?
उत्तर:
जब परिश्रमी कर्मठ और श्रम करने वाले लोग अकर्मण्यता का शिकार हो जाते हैं तब कविता कर्म की राह दिखाकर उन्हें जीना सिखाती है।

3. कविता लगातार संघर्ष करने की प्रेरणा देती है-ऐसा किस पंक्ति में कहा गया है?
उत्तर:
उक्त भाव व्यक्त करने वाली पंक्ति है… जब भी आँसू हुआ पराजित, कविता सदा जंग लड़ती है।

4. कविता ने लोगों को कब प्रेरित किया और कैसे?
उत्तर:
जब जब लोगों में निराशा और अंधकार के कारण हताशा की स्थिति आई, तब-तब कविता ने लोगों को प्रेरित किया। निराशा की इस बेला में कविता नया सूर्य बनकर अंधेरे में रास्ता दिखाती है।

5. संबंधों में दूरियाँ आ जाने का परिणाम आज किस रूप में भुगतना पड़ रहा है?
उत्तर:
संबंधों में दूरियाँ बढ़ जाने के कारण अपने लोग भी दूसरों जैसा ही व्यवहार करने लगे। जो संबंध अत्यंत घनिष्ठ थे वे समझौता बनकर रह गए। लोग एक घर में रहते हुए भी दूरी बनाकर रहने लगे हैं।

2. जनता? हाँ, मिट्टी की अबोध मूरतें वही,
जाड़े-पाले की कसक सदा सहनेवाली,
जब अंग-अंग में लगे साँप हों चूस रहे,
तब भी न कभी मुँह खोल दर्द कहनेवाली।

मानो, जनता हो फूल जिसे एहसास नहीं,
जब चाहो तभी उतार सजा लो दोनों में;
अथवा कोई दुधमुँही जिसे बहलाने के
जंतर-मंतर सीमित हों चार खिलौनों में।

लेकिन, होता भूडोल, बवंडर उठते हैं,
जनता जब कोपाकुल हो भृकुटि चढ़ाती है,
दो राह, समय के रथ का घर्घर-नाद सुनो,
सिंहासन खाली करो कि जनता आती है।

हुंकारों से महलों की नींव उखड़ जाती,
सांसों के बल से ताज हवा में उड़ता है;
जनता की रोके राह, समय में ताब कहाँ ?
वह जिधर चाहती, काल उधर ही मुड़ता है।

सबसे विराट जनतंत्र जगत का आ पहुँचा,
तैंतीस कोटि-हित सिंहासन तैयार करो;
अभिषेक आज राजा का नहीं, प्रजा का है,
तैंतीस कोटि जनता के सिर पर मुकुट धरो।

आरती लिये तू किसे ढूँढ़ता है मूरख,
मंदिरों, राजप्रासादों में, तहखानों में?
देवता कहीं सड़कों पर मिट्टी तोड़ रहे,
देवता मिलेंगे खेतों में, खलिहानों में। (Delhi 2015)

1. एहसासहीन जनता की तुलना किससे की गई है?
उत्तर:
एहसासहीन जनता की तुलना उस फूल से की गई है जिसे जब चाहें, तोड़कर दूसरे के सामने प्रस्तुत कर दिया जाता है।

2. कवि किसके सिर पर मुकुट रखने के लिए कह रहा है?
उत्तर:
कवि तैंतीस करोड़ भारतीय जनता के सिर पर मुकुट रखने के लिए कह रहा है।

3. ‘जंतर-मंतर सीमित हों चार खिलौनों में’ का भाव क्या है?
उत्तर:
भाव यह है कि अपनी माँगों के लिए आवाज़ उठाती जनता को बातों का खिलौना देकर बहला दिया जाता है।

4. क्रोधित जनता में क्रांति भड़कने का क्या परिणाम होता है ?
उत्तर:
क्रोधित जनता में क्रांति भड़कने पर व्यवस्था में भूकंप आ जाता है, तूफ़ान आ जाता है। उसकी हुंकार से शासन की नींव हिल जाती है। उसकी शक्ति से सत्ता नष्ट हो जाती है। तब समय में भी इतनी ताकत नहीं रहती कि उसे रोका जा सके।

5. कवि ने देवता किसे कहा है ? वह कहाँ रहता है?
उत्तर:
कवि ने हमारे देश के साधारण लोगों, मज़दूरों, किसानों आदि को देवता कहा है। ऐसे देवता देवालयों और राजप्रासादों में न रहकर सड़कों के किनारे मिट्टी खोदते और खेतों-खलिहानों में काम करते हुए मिल जाते हैं।

3. सबको स्वतंत्र कर दे यह संगठन हमारा।
छूटे स्वदेश ही की सेवा में तन हमारा॥

जब तक रहे फड़कती नस एक भी बदन में।
हो रक्त बूंद भर भी जब तक हमारे तन में।
छीने न कोई हमसे प्यारा वतन हमारा।
छूटे स्वदेश ही की सेवा में तन हमारा॥

कोई दलित न जग में हमको पड़े दिखाई।
स्वाधीन हों सुखी हों सारे अछूत भाई ॥
सबको गले लगा ले यह शुद्ध मन हमारा।
छूटे स्वदेश ही की सेवा में तन हमारा ।।

धुन एक ध्यान में है, विश्वास है विजय में।
हम तो अचल रहेंगे तूफ़ान में प्रलय में॥
कैसे उजाड़ देगा कोई चमन हमारा?
छूटे स्वदेश ही की सेवा में तन हमारा॥

हम प्राण होम देंगे, हँसते हुए जलेंगे।
हर एक साँस पर हम आगे बढ़े चलेंगे॥
जब तक पहुँच न लेंगे तब तक न साँस लेंगे।
वह लक्ष्य सामने है पीछे नहीं टलेंगे।
गायें सुयश खुशी से जग में सुजन हमारा।
छूटे स्वदेश ही की सेवा में तन हमारा॥ (Foreign 2015)

1. कवि की हार्दिक इच्छा क्या है?
उत्तर:
कवि की हार्दिक इच्छा यह है कि वह मरते समय तक देश की सेवा करता रहे।

2. ‘हम प्राण होम देंगे हँसते हुए जलेंगे’ में निहित अलंकार का नाम बताइए।
उत्तर:
‘हम प्राण होम देंगे हँसते हुए जलेंगे’ में अनुप्रास अलंकार है।

3. ‘हम तो अचल रहेंगे तूफ़ान में प्रलय में’ यहाँ ‘तफ़ान’ और ‘प्रलय’ किसके प्रतीक हैं?
उत्तर:
‘हम तो अचल रहेंगे तूफान में प्रलय में’-यहाँ ‘तूफ़ान’ और ‘प्रलय’ राह की मुश्किलों के प्रतीक हैं।

4. कवि जिस समाज की कल्पना करता है उसका स्वरूप कैसा होगा?
उत्तर:
कवि जिस समाज की कल्पना करता है उसमें कोई भी दीन-दुखी और दलित नहीं होगा। समाज के अछूत समझे जाने वाले दलित जन भी आपस में भाई-भाई होंगे और वे एक-दूसरे को प्रेम से गले लगाएँगे।

5. कवि अपना लक्ष्य पाने के लिए क्या-क्या करना चाहता है और क्यों?
उत्तर:
कवि अपना लक्ष्य पाने के लिए शरीर में एक भी साँस रहने तक आगे बढ़ना चाहता है। वह लक्ष्य तक पहुँचे बिना साँस तक नहीं लेना चाहता है। कवि उस लक्ष्य के सहारे चाहता है कि विश्व के लोग भारत का गुणगान करें।

4. तेरे-मेरे बीच कहीं है एक घृणामय भाईचारा।
संबंधों के महासमर में तू भी हारा मैं भी हारा ।।

बँटवारे ने भीतर-भीतर
ऐसी-ऐसी डाह जगाई।
जैसे सरसों के खेतों में
सत्यानाशी उग-उग आई॥

तेरे-मेरे बीच कहीं है टूटा-अनटूटा पतियारा।
संबंधों के महासमर में तू भी हारा मैं भी हारा॥

अपशब्दों की बंदनवारें
अपने घर हम कैसे जाएँ।

जैसे साँपों के जंगल में
पंछी कैसे नीड़ बनाएँ।।

तेरे-मेरे बीच कहीं है भूला-अनभूला गलियारा।
संबंधों के महासमर में तू भी हारा मैं भी हारा ।।

बचपन की स्नेहिल तसवीरें
देखें तो आँखें दुखती हैं।
जैसे अधमुरझी कोंपल से
ढलती रात ओस झरती है॥

तेरे-मेरे बीच कहीं है बूझा-अनबूझा उजियारा।
संबंधों के महासमर में तू भी हारा मैं भी हारा॥ (Foreign 2015)

1. कविता में किस बँटवारे की बात कही गई है? उत्तर:
कविता में दो भाइयों के बीच हुए बँटवारे और उससे उत्पन्न स्थिति की बात कही गई है।

2. ‘तेरे-मेरे बीच कहीं है एक घृणामय भाईचारा’ का भाव क्या है?
उत्तर:
‘तेरे-मेरे बीच कहीं है एक घृणामय भाईचारा’ का भाव यह है कि संबंधों में इतनी घृणा हो गई है कि भाईचारा के लिए इसमें कोई जगह नहीं है।

3. सरसों के खेत और सत्यानाशी किनके प्रतीक हैं?
उत्तर:
‘सरसों के खेत’ मिल जुलकर रहने वालों और ‘सत्यानाशी’ एकता देखकर ईर्ष्या से जल-भुन जाने वालों के प्रतीक हैं।

4. अपशब्दों की बंदनवारें हमारे संबंध और रहन-सहन को किस तरह प्रभावित कर रही हैं ?
उत्तर:
अपशब्दों की बंदनवारों के कारण लोगों का आपस में मिलना-जुलना कम हो गया है। आज स्थिति यह है कि साँपों के जंगल में पक्षी कैसे अपना घर बना सकते हैं। अब तो लोग एक-दूसरे से मिलने में कतराने लगे हैं।

5. बचपन की तस्वीरें देखकर कवि को कैसा लगता है ? ऐसे में कवि को किस बात की आशा जग रही है?
उत्तर:
बचपन की तसवीरें देखकर लगता है कि पहले लोगों में बहत भाईचारा था। वे मिल-जुलकर रहते थे। वैसी स्थिति अब स्वप्न बन गई है। ऐसे में कवि को आशा है कि दिलों में आई ये दूरियों की मलिनता समाप्त हो जाएगी और नए संबंधों की शुरुआत होगी।

5. ओ महमूदा मेरी दिल जिगरी
तेरे साथ मैं भी छत पर खड़ी हूँ
तुम्हारी रसोई तुम्हारी बैठक और गाय-घर में
पानी घुस आया
उसमें तैर रहा है घर का सामान
तेरे बाहर के बाग का सेब का दरख्त
टूट कर पानी के साथ बह रहा है
अगले साल इसमें पहली बार सेब लगने थे
तेरी बल खाकर जाती कश्मीरी कढ़ाई वाली चप्पल
हुसैन की पेशावरी जूती
बह रहे हैं गंदले पानी के साथ
तेरी ढलवाँ छत पर बैठा है
घर के पिंजरे का तोता
वह फिर पिंजरे में आना चाहता है

महमूदा मेरी बहन
इसी पानी में बह रही है तेरी लाडली गऊ
इसका बछड़ा पता नहीं कहाँ है
तेरी गऊ के दूध भरे थन
अकड़ कर लोहा हो गए हैं

जम गया है दूध
सब तरफ पानी ही पानी
पूरा शहर डल झील हो गया है

महमूदा, मेरी महमूदा
मैं तेरे साथ खड़ी हूँ
मुझे यकीन है छत पर ज़रूर
कोई पानी की बोतल गिरेगी
कोई खाने का सामान या दूध की थैली
मैं कुरबान उन बच्चों की माँओं पर
जो बाढ़ में से निकलकर
बच्चों की तरह पीड़ितों को
सुरक्षित स्थान पर पहुँचा रही हैं
महमूदा हम दोनों फिर खड़े होंगे
मैं तुम्हारी कमलिनी अपनी धरती पर…
उसे चूम लेंगे अपने सूखे होठों से
पानी की इस तबाही से फिर निकल आएगा।
मेरा चाँद जैसा जम्मू
मेरा फूल जैसा कश्मीर। (All India 2015)

1. रसोई, बैठक और गाय घर में पानी घुस आने का क्या कारण है ?
उत्तर:
रसोई, बैठक और गाय-घर में पानी घुस आने का कारण भीषण बाढ़ है।

2. ‘पूरा शहर डल-झील हो गया है’ का आशय क्या है ?
उत्तर:
आशय यह है कि बाढ़ का पानी चारों ओर ऐसा भर गया है जैसे सारा शहर डलझील बन गया है।

3. कवयित्री को किस बात का विश्वास है?
उत्तर:
कवयित्री को विश्वास है कि उसकी छत पर पानी की बोतल, खाने का सामान या दूध की थैली अवश्य गिरेगी।

4. जलमग्न हुए स्थान पर तोते और गाय-बछड़े की मार्मिक दशा कैसी हो गई है?
उत्तर:
जम्मू-कश्मीर में बाढ़ आ जाने से पेड़ धराशायी हो गए हैं। बाहर सब जलमग्न हो गया है। इस स्थिति में तोता घर की छत पर बैठा है। इसी पानी में महमूदा की गाय बह रही है, बछड़े का पता नहीं है। बछड़े से न मिल पाने के कारण गाय के दूध भरे थन अकड़ गए हैं।

5. कवयित्री की आशावादिता किस प्रकार प्रकट हुई है? काव्यांश के आधार पर लिखिए।
उत्तर:
कवयित्री को आशा है कि पानी जल्द ही उतर जाएगा, धरती की रौनक-लौट आएगी और ज मू-कश्मीर का स्वर्ग जैसा सौंदर्य पुनः जल्दी वापस आ जाएगा।

6. हम जंग न होने देंगे!
विश्व शांति के हम साधक हैं,
जंग न होने देंगे!
कभी न खेतों में फिर खूनी खाद फलेगी,

खलिहानों में नहीं मौत की फ़सल खिलेगी,
आसमान फिर कभी न अंगारे उगलेगा,
एटम से फिर नागासाकी नहीं जलेगी
युद्धविहीन विश्व का सपना भंग न होने देंगे!

हथियारों के ढेरों पर जिनका है डेरा,

मुँह में शांति, बगल में बम, धोखे का फेरा,
कफ़न बेचने वालों से कह दो चिल्लाकर,
दुनिया जान गई है उनका असली चेहरा,
कामयाब हों उनकी चालें, ढंग न होने देंगे!

हमें चाहिए शांति, ज़िंदगी हमको प्यारी,
हमें चाहिए शांति, सृजन की है तैयारी,
हमने छेड़ी जंग भूख से, बीमारी से,
आगे आकर हाथ बटाए दुनिया सारी,
हरी-भरी धरती को खूनी रंग न लेने देंगे! (Delhi 2014)

1. कवि किस तरह की दुनिया चाहता है ?
उत्तर:
कवि ऐसी दुनिया चाहता है, जहाँ युद्ध का नामोनिशान न हो और सर्वत्र शांति हो।

2. ‘खलिहानों में नहीं मौत की फ़सल खिलेगी’ का आशय क्या है?
उत्तर:
‘खलिहानों में नहीं मौत की फ़सल खिलेगी’ का आशय है कि युद्ध अब अपार जनसंहार का कारण नहीं बनेगा।

3. ‘कफ़न बेचने वाले’ कहकर कवि ने किनकी ओर संकेत किया है?
उत्तर:
कफ़न बेचने वालों कहकर कवि ने उन देशों की ओर संकेत किया है जो घातक अस्त्र-शस्त्र की खरीद-फरोख्त करते हैं।

4. ‘एटम’ के माध्यम से कवि ने क्या याद दिलाया है ? उसका सपना क्या है ?
उत्तर:
एटम के माध्यम से कवि ने अमेरिका द्वारा नागासाकी और हिरोशिमा पर गिराए गए बम की ओर संकेत किया है। उसका सपना यह है उसने युद्धरहित दुनिया का स्वप्न देखा है, वह किसी भी दशा में नहीं टूटना चाहिए।

5. कवि ने किसके विरुद्ध युद्ध छेड़ रखा है? उसका यह कार्य कितना उचित है?
उत्तर:
कवि ने भूख और बीमारी से जंग छेड़ रखी है। इसका कारण यह है कि कवि को शांतिपूर्ण जीवन पसंद है। वह नवसृजन की तैयारी में व्यस्त है। इस जंग में वह विश्व को भागीदार बनाकर दुनिया में खुशहाली देखना चाहता है।

7. जिसके निमित्त तप-त्याग किए, हँसते-हँसते बलिदान दिए,
कारागारों में कष्ट सहे, दुर्दमन नीति ने देह दहे,
घर-बार और परिवार मिटे, नर-नारि पिटे, बाज़ार लुटे
आई, पाई वह ‘स्वतंत्रता’, पर सुख से नेह न नाता है –
क्या यही ‘स्वराज्य’ कहाता है।

सुख, सुविधा, समता पाएँगे, सब सत्य-स्नेह सरसाएँगे,
तब भ्रष्टाचार नहीं होगा, अनुचित व्यवहार नहीं होगा,
जन-नायक यही बताते थे, दे-दे दलील समझाते थे,

वे हुई व्यर्थ बीती बातें, जिनका अब पता न पाता है।
क्या यही ‘स्वराज्य’ कहाता है।

शुचि, स्नेह, अहिंसा, सत्य, कर्म, बतलाए ‘बापू’ ने सुधर्म,
जो बिना धर्म की राजनीति, उसको कहते थे वह अनीति,
अब गांधीवाद बिसार दिया, सद्भाव, त्याग, तप मार दिया,
व्यवसाय बन गया देश-प्रेम, खुल गया स्वार्थ का खाता है –
क्या यही ‘स्वराज्य’ कहाता है। (Delhi 2014)

1. वीरों ने किसके लिए तप त्याग करते हुए अपना बलिदान दे दिया?
उत्तर:
वीरों ने देश को आज़ादी दिलाने के लिए तप-त्याग करते हुए अपना बलिदान दे दिया।

2. ‘सुख-सुविधा समता पाएँगे’ में निहित अलंकार का नाम बताइए।
उत्तर:
‘सुख-सुविधा समता पाएँगे’ में अनुप्रास अलंकार है।

3. ‘क्या यही स्वराज्य कहाता है’ कहकर कवि ने व्यंग्य क्यों किया है ?
उत्तर:
‘क्या यही स्वराज्य कहाता है’ कहकर कवि ने इसलिए व्यंग्य किया है क्योंकि हमारे जननायकों ने ऐसी स्वतंत्रता का सपना नहीं देखा था।

4. हमारे जननायकों ने किस तरह की स्वतंत्रता का स्वप्न देखा था? वह स्वप्न कहाँ तक पूरा हो सका।
उत्तर:
हमारे जननायकों द्वारा स्वतंत्रता का सपना देखा गया था उसमें सभी को सुख-सुविधा और समानता पाने तथा मिल-जलकर प्रेम से रहने, भ्रष्टाचार मुक्त भारत में सबके साथ एक समान व्यवहार करने के सुंदर दृश्य की कल्पना की गई थी।

5. बापू अनीति किसे मानते थे? उनकी राजनीति की आज क्या स्थिति है?
उत्तर:
बापू उस राजनीति को अनीति कहते थे जिसमें पवित्रता, प्रेम, अहिंसा शांति जैसे सुधर्म का मेल न हो। उनकी राजनीति में अब गांधीवाद, सद्भाव, त्याग, तप आदि मर चुका है। देश-प्रेम के नाम पर व्यवसाय किया जा रहा है और सर्वत्र स्वार्थ का बोलबाला है।

8. जैसे धधके आग ग्रीष्म के लाल पलाशों के फूलों में,
वैसी आग जगाओ मन में, वैसी आग जगाओ रे।

जीवन की धरती तो रूखी मटमैली ही होती है,
तन-तरु-मूल सिंचाई, अतल की गहराई में होती है।
किंतु कोपलों जैसे ज्वाला में भी शीश उठाओ रे,
ऐसी आग जगाओ मन में, ऐसी आग जगाओ रे।

एक आग होती है मन को जो कि राह दिखलाती है,

सघन अँधेरे में मशाल बन दिशि का बोध कराती है,
किंतु द्वेष की चिनगारी से मत घर-द्वार जलाओ रे,
ऐसी आग जगाओ मन में, ऐसी आग जगाओ रे।

आज ग्रीष्म की ऊष्मा कल को रिमझिम राग सुनाएगी,
तापमयी दोपहरी, संध्या को बयार ले आएगी;
रसघन आँगन में हिलकोरे, ऐसा ताप रचाओ रे;
ऐसी आग जगाओ मन में, ऐसी आग जगाओ रे। (Foreign 2014)

1. कवि किनसे कैसी ज्वाला जलाने के लिए कह रहा है?
उत्तर:
कवि देश के नवयुवकों से ग्रीष्म ऋतु में धधकते पलाश के लाल फूलों-सी क्रांति जगाने के लिए कह रहा है।

2. वृक्षों की कोपलें हमें क्या प्रेरणा देती हैं?
उत्तर:
वृक्षों की कोपलें हमें ज्वालाओं में भी सिर ऊँचा उठाए रखने की प्रेरणा देती हैं।

3. ‘जीवन की धरती तो रूखी मटमैली’ में निहित अलंकार का नाम बताइए।
उत्तर:
‘जीवन की धरती तो रूखी मटमैली’ में रूपक अलंकार है।

4. कवि ने दो प्रकार की आग का उल्लेख किया है। कविता के संदर्भ में स्पष्ट कीजिए?
उत्तर:
काव्यांश में कवि ने दो प्रकार की आग का उल्लेख किया है। पहली आग वह ज्ञान है जिससे मन को दिशा दिख जाती है और अँधेरे में मार्ग प्रकाशित होता है किंतु वह दूसरी आग अर्थात् द्वेष की ज्वाला से दूर रहना चाहता है ताकि इससे किसी का घर न जले।

5. आज जलाने से कवि को किस सुखद परिणाम की आशा है ? काव्यांश के आधार पर लिखिए।
उत्तर:
आग जलाने से कवि जिस सुखद परिणाम की आशा करता है, वे हैं –
क. दुख सहने और संघर्ष करने से ही सुखद समय आएगा।
ख. जिस प्रकार गरम दोपहरी के बाद सुहानी शाम आती है उसी प्रकार क्रांति का परिणाम भी सुखद ही होगा।
ग. हर घर-आँगन में खुशी का वातावरण होगा।

9. कैसे बेमौके पर तुमने ये
मज़हब के शोले सुलगाए।
मानव-मंगल-अभियानों में
जब नया कल्प आरंभ हुआ
जब चंद्रलोक की यात्रा के
सपने सच होने को आए।

तुम राग अलापो मज़हब का
पैगंबर को बदनाम करो,
नापाक हरकतों में अपनी
रूहों को कत्लेआम करो!
हम प्रजातंत्र में मनुष्यता के
मंगल-कलश सँवार रहे

हर जाति-धर्म के लिए
खुला आकाश-प्रकाश पसार रहे।
उत्सर्ग हमारा आज
हिमालय की चोटी छू आया है।
सदियों की कालिख को
हमने बलिदानों से धोना है
मानवता की खुशहाली की
हरियाली फ़सलें बोना है।
बढ़-बढ़कर बातें करने की
बलिदानी रटते बान नहीं
इतना तो तुम भी समझ गए
यह कल का हिंदुस्तान नहीं। (Foreign 2014)

1. कवि ने ‘मज़हब के शोले’ किन्हें कहा है ?
उत्तर:
कवि ने जाति-धर्म-संप्रदाय आदि पर आधारित नफ़रत फैलाने वाली बातों को ‘मज़हब के शोले’ कहा है।

2. मज़हब के शोले सुलगाने का यह मौका क्यों नहीं है?
उत्तर:
मज़हब के शोले सुलगाने का यह वक्त इसलिए नहीं है क्योंकि इस समय मानव द्वारा मंगल पर यान भेजा जा रहा है जिससे चंद्रलोक की यात्रा की कल्पना को साकार रूप मिलेगा।

3. ‘बढ़-बढ़कर बातें करने की’ में कौन-सा अलंकार है?
उत्तर:
‘बढ़-बढ़कर बातें करने की’ में अनुप्रास अलंकार है।

4. मज़हब का राग अलापने वाले तथा अन्य लोगों में क्या अंतर है?
उत्तर:
मज़हब का राग अलापने वाले अपने स्वार्थपूर्ण कार्यों से पैगंबर को बदनाम करते हैं और निर्दोष लोगों का खून खराबा करते हैं जबकि अन्य लोग लोकतंत्र को मजबूत बनाते हुए हर जाति-धर्म के लोगों के लिए अवसरों की समानता उपलब्ध करा रहे हैं।

5. कवि अपने देश के लिए क्या कहना चाहता है?
उत्तर:
कवि अपने बलिदान से सदियों की कालिख को धो देना चाहता है तथा मानवता की भलाई एवं खुशहाली के लिए हरियाली की फ़सल बोकर देश को खुशहाल देखना चाहता है।

10. शीश पर मंगल-कलश रख
भूलकर जन के सभी दुख
चाहते हो तो मना लो जन्म-दिन भूखे वतन का।

जो उदासी है हृदय पर,
वह उभर आती समय पर,
पेट की रोटी जुड़ाओ,
रेशमी झंडा उड़ाओ,

ध्यान तो रक्खो मगर उस अधफटे नंगे बदन का।

तन कहीं पर, मन कहीं पर,
धन कहीं, निर्धन कहीं पर,

फूल की ऐसी विदाई,
शूल को आती रुलाई

आँधियों के साथ जैसे हो रहा सौदा चमन का।

आग ठंडी हो, गरम हो,
तोड़ देती है, मरम को,
क्रांति है आनी किसी दिन,

आदमी घड़ियाँ रहा गिन, राख कर देता सभी कुछ अधजला दीपक भवन का
जन्म-दिन भूखे वतन का। (All India 2014)

1. देश की स्वतंत्रता का उत्सव मनाना कब अर्थहीन हो जाता है?
उत्तर:
देश की स्वतंत्रता का उत्सव मनाना तब अर्थहीन हो जाता है, जब देश की जनता भूखी और उदास हो।

2. कवि किस उदासी की बात कर रहा है?
उत्तर:
कवि जनता की अभावग्रस्तता, मूलभूत सुविधाओं की कमी आदि से उत्पन्न उदासी की बात कर रहा है।

3. ‘अधजला दीपक भवन का’ किसका प्रतीक है?
उत्तर:
अधजला दीपक भवन का भूखे-प्यासे दुखी और अभावग्रस्त लोगों का प्रतीक है।

4. कवि देश के शासकों से क्या कहना चाहता है और क्यों?
उत्तर:
कवि देश के शासकों से यह कहना चाहते हैं कि वे आज़ादी का उत्सव मनाएँ, रेशमी झंडा लहराएँ पर उन गरीबों के लिए रोटी और अधनंगे बदन वालों के लिए वस्त्र का इंतज़ाम करें का भी ध्यान रखें। वह ऐसा इसलिए कह रहा है क्योंकि शासकों को संवेदनहीनता के कारण भूखी जनता का ध्यान नहीं रह गया है।

5. कवि को ऐसा क्यों लगता है कि किसी दिन क्रांति होकर रहेगी? इसका क्या परिणाम होगा?
उत्तर:
देश की बदहाल स्थिति देखकर कवि को लगता है कि देश की जनता शोषण, अभावग्रस्तता, दुख और आपदाओं से जैसे समझौता कर रही है। जिस दिन उसका धैर्य जवाब देगा उसी दिन क्रांति हो जाएगी तब यह आक्रोशित जनता यह व्यवस्था नष्ट करके रख देगी।

11. बहती रहने दो मेरी धमनियों में
जन्मदात्री मिट्टी की गंध,
मानवीय संवेदनाओं की पावनी गंगा,
सदा-सदा को वांछित रह सकने वाले
पसीने की खारी यमुना।
शपथ खाने दो मुझे
केवल उस मिट्टी की
जो मेरे प्राणों का आदि है,
मध्य है,
अंत है।
सिर झुकाओ मेरा
केवल उस स्वतंत्र वायु के सम्मुख
जो विश्व का गरल पीकर भी
बहता है
पवित्र करने को कण-कण।
क्योंकि
मैं जी सकता हूँ
केवल उस मिट्टी के लिए,
केवल इस वायु के लिए।
क्योंकि
मैं मात्र साँस लेती
खाल होना नहीं चाहता। (All India 2014)

1. ‘जन्मदात्री मिट्टी की गंध’ पंक्ति में कवि की इच्छा का स्वरूप क्या है?
उत्तर:
‘जन्मदात्री मिट्टी की गंध’ पंक्ति में कवि की इच्छा का स्वरूप मातृभूमि के प्रति गहन अनुराग की उत्कट भावना है।

2. ‘मात्र साँस लेती खाल’ का आशय क्या है?
उत्तर:
मात्र साँस लेती खाल का आशय है – अपने स्वार्थ में डूबकर निष्प्राणों जैसा जीवन बिताना।

3. ‘पवित्र करने को कण-कण’ में कौन-कौन सा अलंकार है?
उत्तर:
‘पवित्र करने को कण-कण में’ अनुप्रास अलंकार है।

4. मानवीय संवेदनाओं की पावनी गंगा के माध्यम से कवि क्या कहना चाहता है? उसने मातृभूमि की मिट्टी से अपना लगाव कैसे प्रकट किया है?
उत्तर:
‘मानवीय संवेदनाओं की पावनी गंगा’ के माध्यम से कवि पीड़ित मानवता के उद्धार की बात कहना चाहता है। उसने मिट्टी को अपने प्राणों का आदि मध्य और अंत बताकर अपना लगाव प्रकट किया है।

5. कवि अपना सिर किसके सामने झुकाना चाहता है और किसके लिए जीना चाहता है?
उत्तर:
कवि अपना सिर उस वायु के सामने झुकाना चाहता है जो विश्व का जहर पीकर भी बहती रहती है। इसी वायु का सेवन करके वह इसी वायु और मातृभूमि की मिट्टी के लिए जीना चाहता है।

12. जब कभी मछेरे को फेंका हुआ
फैला जाल
समेटते हुए देखता हूँ
तो अपना सिमटता हुआ
‘स्व’ याद हो आता है
जो कभी समाज, गाँव और
परिवार के वृहत्तर परिधि में
समाहित था
‘सर्व’ की परिभाषा बनकर,
और अब केंद्रित हो
बैठी, पराग को समेटती
मधुमक्खियों को देखता हूँ
तो मुझे अपने पूर्वजों की
याद हो आती है,
जो कभी फूलों को रंग, जाति, वर्ग
अथवा कबीलों में नहीं बाँटते थे
और समझते रहे थे कि
देश एक बाग है
और मधु-मनुष्यता
जिससे जीने की अपेक्षा होती है।
किंतु अब गया हूँ मात्र बिंदु में।
बाग और मनुष्यता जब कभी अनेक फूलों पर,
शिलालेखों में जकड़ गई है
मात्र संग्रहालय की जड़ वस्तुएँ। (Delhi 2013 Comptt.)

1. काव्यांश में ‘स्व’ शब्द से कवि का क्या आशय है?
उत्तर:
काव्यांश में ‘स्व’ शब्द से कवि का आशय अपनेपन की भावना से है।

2. काव्यांश का मूल भाव स्पष्ट कीजिए?
उत्तर:
काव्यांश का मूलभाव यह है कि बदलते समय के साथ मनुष्य के अपनेपन की भावना संकीर्ण होती गई है।

3. आज बाग और मनुष्यता की स्थिति में क्या बदलाव आ गया है?
उत्तर:
आज बाग और मनुष्यता की बातें शिलालेखों में जकड़कर संग्रहालय की जड़ वस्तुएँ बन गई हैं।

4. कवि के बचपन और वर्तमान की स्व-भावना में क्या अंतर आ गया है?
उत्तर:
कवि के बचपन में स्व का दायरा पूरे गाँव और समाज तक सीमित था परंतु अब स्व की भावना अपने आप तक सिमट कर रह गई है। उसकी यह भावना दिनों-दिन संकीर्ण होती गई।

5. मधुमक्खियों को देखकर कवि को किसकी याद आ जाती है और क्यों?
उत्तर:
मधुमक्खियों को देखकर कवि को अपने पूर्वजों की याद हो आती है क्योंकि मधुमक्खियाँ जिस प्रकार तरह-तरह के फूलों से पराग निकालती हैं उसी प्रकार पूर्वज लोगों को रंग, जाति, वर्ग अथवा कबीलों में नहीं बाँटते थे। उनमें एकता बनाए रखते थे।

13. बिन बैसाखी अपनी शर्तों पर, मैं मदमस्त चला।
सब्जबाग को दिखा-दिखा
दुनिया रह-रह मुसकाई।
कंचन और कामिनी ने भी
अपनी छटा दिखाई।
सतरंगे जग के साँचे में, मैं न कभी ढला॥
चिनगारी पर चलते-चलते
रुका-झुका ना पल-छिन।
गिरे हुओं को रहा उठाता
हालाहल पीते-पीते ही मैं जीवन-भर चला॥
कितने बढ़े-चढ़े द्रुत चलकर
शैलशिखर शृंगों पर।
कितने अपनी लाश लिए
फिरते अपने कंधों पर।
सबकी अपनी अलग नियति है, है जीने की कला॥
आँधी से जूझा करना ही
बस आता है मुझको।
पीड़ाओं के संग-संग जीना
भाता है बस मुझको। गले लगाता अनुदिन।
मैं तटस्थ, जो भी जग समझे कह ले बुरा-भला॥ (All India 2013 Comptt.)

1. सतरंगी संसार कवि को क्यों नहीं लुभा सका?
उत्तर:
कवि को सतरंगी संसार इसलिए नहीं लुभा सका क्योंकि उसे अपने सिद्धांतों से विशेष प्यार है।

2. कवि को लुभाने के लिए दुनिया ने क्या-क्या किया?
उत्तर:
कवि को लुभाने के लिए दुनिया ने तरह-तरह के सपने दिखाए और कंचन-कामिनी को भी उसके सामने प्रस्तुत कर दिया।

3. ‘कितने बढ़े-चढ़े द्रुत चलकर शैल-शिखर के शृंगों पर’ में निहित अलंकार का नाम बताइए।
उत्तर:
कितने बढ़े-चढ़े द्रुत चलकर शैल-शिखर के शृंगों पर’ में अनुप्रास अलंकार है।

4. कवि ने अपना जीवन समाज के अन्य लोगों से अलग बिताया, कैसे?
उत्तर:
कवि विपरीत परिस्थितियों का सामना करता रहा पर पल भर के लिए भी न रुका। वह दीन-दुखियों की मदद करते, उन्हें गले लगाते हुए नाना प्रकार के कष्ट सहकर जीवन बिताया।।

5. कवि को संघर्ष करना अच्छा लगता है। – काव्यांश के आधार पर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
कवि को संकट और मुसीबतों से संघर्ष करना अच्छा लगता है। वह दीन-दुखियों का साथ देना जानता है। कवि को जग ने भले ही भला-बुरा कहा पर वह इससे तटस्थ रहा। इस तरह वह संघर्षशील बना रहा।

14. जिस पर गिरकर उदर-दरी से तुमने जन्म लिया है
जिसका खाकर अन्न, सुधा-सम नीर-समीर पिया है।
वह स्नेह की मूर्ति दयामयि माता-तुल्य मही है
उसके प्रति कर्तव्य तुम्हारा क्या कुछ शेष नहीं है?

पैदाकर जिस देश-जाति ने तुमको पाला-पोसा।
किए हुए है वह निज हित का तुमसे बड़ा भरोसा
उससे होना उऋण प्रथम है सत्कर्तव्य तुम्हारा
फिर दे सकते हो वसुधा को शेष स्वजीवन सारा। (Delhi 2013 Comptt.)

1. ‘खाकर जिसका अन्न’ में किसका अन्न खाने की बात कवि ने कही है?
उत्तर:
‘खाकर जिसका अन्न’ में मातृभूमि का अन्न खाने की बात कवि ने कही है।

2. ‘सुधा-सम नीर-समीर पिया है’ में निहित अलंकार का नाम बताइए।
उत्तर:
‘सुधा-सम नीर-समीर पिया है’ में उपमा अलंकार है।

3. कवि ने किसके ऋण से उऋण होने की बात कही है?
उत्तर:
कवि ने व्यक्ति का भरण-पोषण करने वाली मातृभूमि के ऋण से उऋण होने की बात कही है।

4. कवि किसे किसके प्रति कर्तव्यों की याद दिला रहा है और क्यों?
उत्तर:
कवि भारतवासियों को मातृभूमि के प्रति उनके कर्तव्यों की याद दिला रहा है क्योंकि भारतवासियों ने मातृभूमि का अनाज खाया है और अमृत तुल्य पानी और हवा का सेवन करके जीवन पाया है।

5. देश जाति के प्रति व्यक्ति का पहला कर्तव्य क्या है और क्यों?
उत्तर:
देश और जाति के प्रतिव्यक्ति का पहला कर्तव्य उसके कर्ज से मुक्ति पाना है क्योंकि जिस देश और जाति ने व्यक्ति को जन्म दिया है, उसने व्यक्ति से अपना हित पूरा होने की आशा लगा रखी है।

15. प्राइवेट बस का ड्राइवर है तो क्या हुआ?
सात साल की बच्ची का पिता तो है।
सामने गीयर से ऊपर
हुक से लटका रखी हैं
काँच की चार गुलाबी चूड़ियाँ।
बस की रफ़्तार के मुताबिक
हिलती रहती हैं,
झुक कर मैंने पूछ लिया,
खा गया मानो झटका।
अधेड़ उम्र का मुच्छड़ रौबीला चेहरा
आहिस्ते से बोला : हाँ सा’ब
लाख कहता हूँ नहीं मानती मुनियाँ । (All India 2013 Comptt.)

1. ‘बच्ची का पिता तो है’ पंक्ति में किस भाव की अभिव्यक्ति हुई है ?
उत्तर:
‘बच्ची का पिता तो है’ पंक्ति में बच्ची के प्रति आत्मीयता, स्नेह और लगाव की अभिव्यक्ति हुई है।

2. ड्राइवर झटका क्यों खा गया?
उत्तर:
चूड़ियों के बारे में पूछने पर ड्राइवर इसलिए झटका खा गया क्योंकि उसे अचानक अपनी बिटिया की याद आ गई।

3. ‘खा गया मानो झटका’ में निहित अलंकार का नाम बताइए।
उत्तर:
‘खा गया मानो झटका’ में उत्प्रेक्षा अलंकार है।

4. चूड़ियाँ किसने और कहाँ लटका रखी थी और क्यों?
उत्तर:
बस में चूड़ियों को ड्राइवर की बेटी ने गीयर से ऊपर हुक से लटका रखी थी ताकि पिता को उसकी बराबर याद आती रहे और वह जल्दी से घट लौट आएँ।

5. बस ड्राइवर के चेहरे और उसकी आवाज़ में निहित विरोधाभास स्पष्ट कीजिए?
उत्तर:
बस ड्राइवर अधेड़ उम्र वाला व्यक्ति है। उसका चेहरा रोबीला है जिस पर घनी मूंछे हैं। इससे चेहरा कठोर प्रतीत होता है परंतु इस रोबीले चेहरे की आवाज़ धीमी है। इस तरह दोनों में विरोधाभास है।

16. तापित को स्निग्ध करे
प्यासे को चैन दे।
सूखे हुए अधरों को
फिर से जो बैन दे।
ऐसा सभी पानी है।
लहरों के आने पर
काई-सा फटे नहीं
रोटी के लालच में
तोते-सा रटे नहीं
प्राणी वही प्राणी है।
लँगड़े को पाँव और
लूले को हाथ दे,
रात की सँभार में
मरने तक साथ दे,
बोले तो हमेशा सच
सच से हटे नहीं,
हरगिज़ डरे नहीं
सचमुच वही प्राणी है।

1. काव्यांश में पानी की क्या विशेषता बताई गई है?
उत्तर:
काव्यांश में पानी की विशेषता यह बताई गई है कि पानी प्यासों की प्यास, गरमी से परेशान लोगों का ताप और अधरों की शुष्कता हर लेता है।

2. ‘काई-सा फटे नहीं’ में कौन-सा अलंकार है?
उत्तर:
‘काई-सा फटे नहीं’ में उपमा अलंकार है।

3. ‘फिर से जो न दे’ का आशय क्या है?
उत्तर:
फिर से जो बैन दे का आशय है कि पानी लोगों की जुबान को तर करके उन्हें बोलने लायक बनाता है।

4. कवि सच्चा प्राणी किसे मानता है?
उत्तर:
कवि सच्चा प्राणी उसे मानता है जो लँगड़े-लूलों और लाचारों को सहारा देता है, कठिन समय में उनका साथ निभाता है, सच बोलने से कभी नहीं डरता है और हमेशा सच बोलता है।

5. अपने किन कर्मों से प्राणी छोटा बन जाता है?
उत्तर:
जब व्यक्ति छोटी-सी मुसीबत देखते ही घबरा जाते हैं, अपने स्वार्थ के लिए अपना स्वाभिमान भूलकर तोतों की भाँति रटू बनकर दूसरों को उनकी चापलूसी और झूठा गुणगान करने लगते हैं तब वे छोटे बन जाते हैं।

17. अरे! चाटते जूठे पत्ते जिस दिन देखा मैंने नर को
उस दिन सोचा, क्यों न लगा दूँ आज आग इस दुनियाभर को?
यह भी सोचा, क्यों न टेटुआ घोटा जाए स्वयं जगपति का?
जिसने अपने ही स्वरूप को रूप दिया इस घृणित विकृति का।
जगपति कहाँ ? अरे, सदियों से वह तो हुआ राख की ढेरी;
वरना समता संस्थापन में लग जाती क्या इतनी देरी?
छोड़ आसरा अलखशक्ति का रे नर स्वयं जगपति तू है,
यदि तू जूठे पत्ते चाटे, तो तुझ पर लानत है थू है।
ओ भिखमंगे अरे पराजित, ओ मजलूम, अरे चिर दोहित,
तू अखंड भंडार शक्ति का, जाग और निद्रा संमोहित,
प्राणों को तड़पाने वाली हुँकारों से जल-थल भर दे,
अनाचार के अंबारों में अपना ज्वलित पलीता भर दे।
भूखा देख तुझे गर उमड़े आँसू नयनों में जग-जन के
तू तो कह दे, नहीं चाहिए हमको रोने वाले जनखे,
तेरी भूख असंस्कृति तेरी, यदि न उभाड़ सके क्रोधानल,
तो फिर समयूँगा कि हो गई सारी दुनिया कायर निर्बल। (Delhi 2014)

1. कवि क्या देखकर दुनियाभर में आग लगा देना चाहता है ?
उत्तर:
भूखे-प्यासे मनुष्य को जूठे पत्तलों में खाने के लिए कुछ खोजता देखकर कवि दुनिया भर में आग लगा देना चाहता है।

2. ‘वह तो हुआ राख की ढेरी’ कवि ऐसा क्यों कह रहा है?
उत्तर:
वह अर्थात् जगपति राख की ढेरी हो गया है क्योंकि यदि जगपति अपना काम कर रहा होता तो दुनिया में समानता आने में इतनी देर न लगती।

3. ‘अनाचार के अंबारों में अपना ज्वलित पलीता भर दे’ पंक्ति में कौन-सा अलंकार है?
उत्तर:
‘अनाचार के …… भर दे’ में अनुप्रास अलंकार है।

4. कवि भूखों नंगों को उनकी शक्ति का भान किस तरह कराना चाहता है और क्यों?
उत्तर:
कवि भूखे-नंगों उनकी शक्ति के बारे में ज्ञान कराते हुए उन्हें खुद ही जगपति होने, अदृश्यशक्ति का सहारा त्यागने, निद्रा और सम्मोहन त्यागने की बात कह रहा है ताकि वे अपनी शक्ति पहचान कर दूसरों का मुँह ताकते हुए जीना छोड़ें।

5. दुनिया कायर और निर्बल हो गई है, कवि ऐसा कब और क्यों सोचेगा?
उत्तर:
कुछ लोगों को भूखा-नंगा देखकर यदि लोग आँसू बहाने के सिवा अभावग्रस्तों के लिए कुछ नहीं करते हैं तो कवि समझेगा कि दुनिया पागल हो गई है। लोगों को भूखा नंगा देखकर उन्हें व्यवस्था परिवर्तन के लिए आगे आ जाना चाहिए। अपठित काव्यांश

18. पृथ्वी की छाती फाड़, कौन यह अन्न उगा लाता बाहर?
दिन का रवि-निशि की शीत कौन लेता अपनी सिर-आँखों पर?
कंकड़ पत्थर से लड़-लड़कर, खुरपी से और कुदाली से,
ऊसर बंजर को उर्वर कर, चलता है चाल निराली ले।

मज़दूर भुजाएँ वे तेरी, मज़दूर, शक्ति तेरी महान;
घूमा करता तू महादेव! सिर पर लेकर के आसमान !
पाताल फोड़कर, महाभीष्म! भूतल पर लाता जलधारा;
प्यासी भूखी दुनिया को तू देता जीवन संबल सारा !

खेती से लाता है कपास, धुन-धुन, बुनकर अंबार परम;
इस नग्न विश्व को पहनाता तू नित्य नवीन वस्त्र अनुपम। ।

नंगी घूमा करती दुनिया, मिलता न अन्न, भूखों मरती,
मज़दूर! भुजाएँ जो तेरी मिट्टी से नहीं युद्ध करतीं!

तू छिपा राज्य-उत्थानों में, तू छिपा कीर्ति के गानों में;
मज़दूर! भुजाएँ तेरी ही दुर्गों के शृंग-उठानों में।
तू छिपा नवल निर्माणों में, गीतों में और पुराणों में;
युग का यह चक्र चला करता तेरी पद-गति की तानों में।

तू ब्रह्मा-विष्णु रहा सदैव,
तू है महेश प्रलयंकर फिर।
हो तेरा तांडव, शंभु! आज
हो ध्वंस, सृजन मंगलकर फिर!

1. अन्न उगाने वाले को क्या-क्या सहना पड़ता है ?
उत्तर:
अन्न उगाने वाले किसान को दिन की धूप और रात की सरदी सहनी पड़ती है।

2. किसान के हथियार क्या-क्या हैं? इनकी मदद से किनसे लड़ता है?
उत्तर:
किसान के हथियार खुरपी और कुदाल हैं। इनकी मदद से वह कंकड़ और पत्थर से लड़ता है।

3. मज़दूर को महाभीष्म क्यों कहा गया है?
उत्तर:
मज़दूर पाताल फोड़कर धरती पर जलधारा लाता है, इसलिए उसे भीष्म कहा गया है।

4. यदि मज़दूर परिश्रम न करता तो दुनिया की क्या स्थिति होती और क्यों?
उत्तर:
मज़दूर यदि परिश्रम न करता तो कपड़ों के अभाव में दुनिया नंगी घूमती और अन्न के अभाव में भूखों मरती, क्योंकि मजदूर अपने परिश्रम से फ़सल उगाता है और कपड़े बुनता है।

5. मजदूर को किस-किस संज्ञा से विभूषित किया गया है? वह कहाँ छिपा है?
उत्तर:
मज़दूर को ब्रहमा, विष्णु और महेश की संज्ञा से विभूषित किया गया है। वह राज्य की प्रगति, उसकी यशगाथा, दुर्ग की ऊँची चोटियों में नए निमार्णों और गीत-पुराणों में छिपा है।

19. भाग्यवाद आवरण पाप का
और शस्त्र शोषण का
जिससे दबा एक जन
भाग दूसरे जन का।
पूछो किसी भाग्यवादी से
यदि विधि अंक प्रबल हैं,
पद पर क्यों न देती स्वयं
वसुधा निज रतन उगल है?
उपजाता क्यों विभव प्रकृति को
सींच-सींच व जल से
क्यों न उठा लेता निज संचित करता है।
अर्थ पाप के बल से,
और भोगता उसे दूसरा
भाग्यवाद के छल से।
नर-समाज का भाग्य एक है
वह श्रम, वह भुज-बल है।
जिसके सम्मुख झुकी हुई है;
पृथ्वी, विनीत नभ-तल है।

1. भाग्यवादी सफलता के बारे में क्या मानते हैं ?
उत्तर:
भाग्यवादी सफलता के बारे में यह मानते हैं कि भाग्य में लिखी होने पर ही सफलता मिलती है।
2.

2. धरती और आकाश किसके कारण झुकने को विवश हुए हैं ?
उत्तर:
धरती और आकाश मनुष्य के परिश्रम के कारण झुकने को विवश हुए हैं।

3. काव्यांश में निहित संदेश स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
काव्यांश में निहित संदेश यह है कि मनुष्य को भाग्य का सहारा छोड़कर परिश्रम से सफलता प्राप्त करनी चाहिए।

4. कवि भाग्यवादियों से क्या पूछने के लिए कहता है और क्यों?
उत्तर:
कवि भाग्यवादियों से यह पूछने के लिए कहता है कि यदि भाग्य का बल इतना प्रबल है तो सुधा अपने भीतर छिपे रत्नों को मनुष्य के चरणों पर क्यों नहीं रख देती है। इसके लिए मनुष्य को परिश्रम क्यों करना पड़ता है। ऐसा पूछने का कारण हैं भाग्यवाद की बातें मिथ्या होना।

5. भाग्यवाद को किसका हथियार कहा गया है और क्यों?
उत्तर:
भाग्यवाद को दूसरों का शोषण करने का अस्त्र कहा गया है क्योंकि भाग्यवाद का छलावा देकर लोग दूसरों का शोषण करते हैं और दूसरों को मिलने वाला भाग दबाकर बैठ जाते हैं।

20. जिस-जिससे पथ पर स्नेह मिला
उस-उस राही को धन्यवाद।
जीवन अस्थिर, अनजाने ही
हो जाता पथ पर मेल कही
सीमित पग-डग, लंबी मंजिल,
तय कर लेना कुछ खेल नहीं।
दाएँ-बाएँ सुख-दुख चलते
सम्मुख चलता पथ का प्रमाद,
जिस-जिससे पथ पर स्नेह मिला
उस-उस राही को धन्यवाद।
साँसों पर अवलंबित काया,
जब चलते-चलते चूर हुई।
दो स्नेह शब्द मिल गए,
मिली नव स्फूर्ति,
थकावट दूर हुई।
पथ के पहचाने छूट गए,
पर साथ-साथ चल रही यादें।
जिस-जिससे पथ पर स्नेह मिला
उस-उस राही को धन्यवाद।

1. कवि किस-किस राही को धन्यवाद देना चाहता है?
उत्तर:
कवि को जीवन-मार्ग पर जिन-जिन लोगों से स्नेह मिला, वह उन्हें धन्यवाद देना चाहता है।

2. जाने-पहचाने लोगों का साथ छूट जाने पर भी कवि के साथ अब कौन चल रहा है?
उत्तर:
जाने-पहचाने लोगों का साथ छूट जाने पर भी कवि के साथ अब तरह-तरह की यादें चल रही हैं।

3. जीवन पथ पर कवि का साथ कौन-कौन दे रहे हैं?
उत्तर:
जीवन-पथ पर कवि का साथ सुख-दुख और आलस्य दे रहे हैं।

4. कवि राही को धन्यवाद क्यों देना चाहता है?
उत्तर:
कवि राही को इसलिए धन्यवाद देना चाहता है क्योंकि जीवन अस्थिर एवं सीमित है। इस दशा में मंजिल पर पहुँचना आसान नहीं है। ऐसे में राही से मिले स्नेह के कारण वह जीवन यात्रा पूरी कर सका।

5. कवि की जीवन-यात्रा की सुखद-समाप्ति का वर्णन अपने शब्दों में कीजिए।
उत्तर:
कवि जीवन यात्रा पर जब थकने लगा तभी उसे स्नेह भरे शब्दों से नई स्फूर्ति एवं ऊर्जा मिली, जिससे उसकी थकावट दूर हो गई और वह जीवन पर बढ़ता गया।

(21) उठे राष्ट्र तेरे कंधों पर, बढ़े प्रगति के प्रांगण में।
पृथ्वी को राख दिया उठाकर, तूने नभ के आँगन में॥
तेरे प्राणों के ज्वारों पर, लहराते हैं देश सभी।
चाहे जिसे इधर कर दे तू, चाहे जिसे उधर क्षण में॥
मत झुक जाओ देख प्रभंजन, गिरि को देख न रुक जाओ।
और न जम्बुक-से मृगेंद्र को, देख सहम कर लुक जाओ॥

झुकना, रुकना, लुकना, ये सब कायर की सी बातें हैं।
बस तुम वीरों से निज को बढ़ने को उत्सुक पाओ॥
अपनी अविचल गति से चलकर नियतिचक्र की गति बदलो।
बढ़े चलो बस बढ़े चलो, हे युवक! निरंतर बढ़े चलो।
देश-धर्म-मर्यादा की रक्षा का तुम व्रत ले लो।
बढ़े चलो, तुम बढ़े चलो, हे युवक! तुम अब बढ़े चलो॥ अपठित काव्यांश

1. राष्ट्र को प्रगति के पथ पर ले जाने का दायित्व किसके कंधों पर है?
उत्तर:
राष्ट्र को प्रगति के पथ पर ले जाने का दायित्व नवयुवकों एवं जवानों के कंधे पर है।

2. किन बातों को कायरों की सी बातें कहा गया है?
उत्तर:
संकटों-बाधाओं को देखकर झुक जाना, रुक जाना और छिप जाना कायरों की-सी बाते हैं।

3. ‘नियतिचक्र की गति बदलो’ में निहित अलंकार बताइए।
उत्तर:
‘निर्यात चक्र की गति बदलो’ में रूपक अलंकार है।

4. ‘चाहे जिसे इधर कर दे तू चाहे जिसे उधर क्षण में’-कवि ने ऐसा किनके बारे में कहा है और क्यों?
उत्तर:
कवि ने ऐसा नवयुवकों एवं जवानों के बारे में कहा है क्योंकि वे असीम शक्ति एवं ऊर्जा के भंडार होते हैं। उनकी शक्ति पर देश की प्रगति निर्भर करती है। वे असंभव से दिखने वाले काम को भी संभव बना सकते हैं।

5. कवि नवयुवकों से क्या आह्वान कर रहा है और किस तरह प्रेरित कर रहा है?
उत्तर:
कवि नवयुवकों को निरंतर आगे बढ़ने का आह्वान कर रहा है। कवि नवयुवकों को उनमें छिपी बिना रुके चलते जाने की शक्ति, नियतिचक्र बदलने की क्षमता, देश के धर्म और मर्यादा की रक्षा करने में समर्थता का बोध कराकर उन्हें प्रेरित कर रहा है।

22. निर्मम कुम्हार की थापी से
कितने रूपों में कुटी-पिटी
हर बार बिखेरी गई किंतु
मिट्टी फिर भी तो नहीं मिटी।
आशा में निश्छल पल जाए, छलना में पड़कर छल जाए ।
सूरज दमके तो तप जाए रजनी ठुमके तो ढल जाए,
यो तो बच्चों की गुड़िया-सी, भोली मिट्टी की हस्ती क्या
आँधी आए तो उड़ जाए, पानी बरसे तो गल जाए,
फ़सलें उगती, फ़सलें कटती लेकिन धरती चिर उर्वर है।
सौ बार बने सौ बार मिटे लेकिन मिट्टी अविनश्वर है।

1. सूरज के दमकने पर मिट्टी पर क्या असर पड़ता है?
उत्तर:
सूरज के दमकने पर मिट्टी तप जाती हैं और उसका स्वरूप और भी मजबूत हो जाता है।

2. ‘यो तो बच्चों की गुड़िया सी’ में कौन-सा अलंकार है ?
उत्तर:
‘यो तो बच्चों की गुड़िया-सी’ में उपमा अलंकार है।

3. मिट्टी कब ढल जाती है?
उत्तर:
जब रात होती है तब मिट्टी ढल जाती है।

4. उन परिस्थितियों का वर्णन कीजिए जो मिट्टी के स्वरूप को मिटाने में असफल रही।
उत्तर:
मिट्टी के स्वरूप को नष्ट करने का असफल प्रयास करने वाली परिस्थितियाँ हैं –

क. कुम्हार के द्वारा मिट्टी को कूटा-पीटा जाना।
ख. धूप में खूब तपाया जाना।
ग. बार-बार बिखराया जाना।
घ. छन्ने के द्वारा छाना जाना।

5. ‘भोली मिट्टी की हस्ती क्या’ कवि ने ऐसा क्यों कहा है पर उसने अपने कथन का खंडन भी किस तरह किया है ?
उत्तर:
कवि ने ऐसा इसलिए कहा है क्योंकि आँधी आने पर मिट्टी उड़ जाती है, पानी में गलकर बह जाती है, पर बार-बार फ़सलें कटने और उगने से धरती की चिर उर्वरता और मिटाने का प्रयास करने पर भी न मिटने की बात कहकर उसने अपने कथन का खंडन किया है।

23. बहुत बड़ी बरबादी की
इस धरती पर आबादी की
यूँ फ़सल उगाते जाओगे
अब वह दिन ज़्यादा दूर नहीं
जब सिर धुन-धुन पछताओगे।
तुम कितने जंगल तोड़ोगे,
कितने वृक्षों को काटोगे,
इस शस्य श्यामला धरती को
कितने टुकड़ों में बाँटोगे?
है किंचित तुमको सबर नहीं
क्या ये भी तुमको खबर नहीं?
ये धरती तो बस धरती है,

ये धरती कोई रबर नहीं,
बोते हो पेड़ बबूलों के
फिर आम कहाँ से खाओगे?
यह बढ़ती जाती बदहाली,
खो गई सुबह की तरुणाई,
खो गई शाम की वह लाली,
बिन वर्षा के इस धरती पर,
तुम कैसे अन्न उगाओगे?
यह गंगा भी अब मैली है,
जल की हर बूंद विषैली है,
दस दूषित जल के पीने से,
नित नई बीमारी फैली है।

1. किस फ़सल को उगाने से कवि मनुष्य को सावधान कर रहा है ?
उत्तर:
जनसंख्या की फ़सल उगाने के प्रति कवि मनुष्य को सावधान कर रहा है।

2. धरती पर अन्न उगाना कब संभव नहीं होगा?
उत्तर:
पेड़ों के निरंतर काटे जाने से वर्षा होनी बंद हो जाएगी तब धरती पर अन्न उगाना संभव नहीं होगा।

3. काव्यांश में निहित संदेश स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
काव्यांश में निहित संदेश यह है कि बढ़ती जनसंख्या पर अविलंब अंकुश लगाने की आवश्यकता है अन्यथा इसका दुष्परिणाम भयानक होगा।

4. धरती के विषय में कवि मनुष्य को किस तरह सावधान कर रहा है और क्यों?
उत्तर:
धरती के बारे में कवि मनुष्य को सावधान करते हुए कह रहा है कि इस हरी-भरी धरती के अब और टुकड़े करना बंद करो। तुम अपनी अधीरता छोड़ दो। यह धरती असीमित नहीं बल्कि सीमित है। इसके साथ छेड़छाड़ का परिणाम बुरा होगा।

5. कवि ने गंगा की स्थिति पर चिंता क्यों प्रकट की है?
उत्तर:
कवि ने गंगा की स्थिति पर चिंता इसलिए प्रकट की है क्योंकि जनसंख्या में निरंतर वृदधि के कारण गंगा इतनी मैली हो गई है कि उसकी एक-एक बूंद जहरीली हो गई है। इसका सेवन करने से नई-नई बीमारियाँ हो जाती हैं।

24. हिमालय के आँगन में उसे प्रथम किरणों का दे उपहार। ।
उषा ने हँस अभिनंदन किया और पहनाया हीरक हार।
जगे हम, लगे जगाने विश्व लोक में फैला फिर आलोक,
व्योम-तम-पुंज हुआ तब नष्ट, अखिल संसृति हो उठी अशोक।

विमल वाणी ने वीणा ली कमल कोमल कर में सप्रीत।
सप्त स्वर सप्त सिंधु में उठे, छिड़ा तब मधुर साम-संगीत।
बचाकर बीज रूप से सृष्टि, नाव पर झेल प्रलय का शीत।
अरुण-केतन लेकर निज हाथ वरुण पथ में हम बढ़े अभीत।

1. प्रथम किरणों का उपहार किसे मिलता है?
उत्तर:
सूरज की पहली किरणों का उपहार भारत भूमि को मिलता है।

2. ‘विमल वाणी ने वीणा ली कमल कोमल कर में सप्रीत’ में कौन-सा अलंकार है?
उत्तर:
‘विमल वाणी ने वीणा ली कमल कोमल कर में सप्रीत’ में अनुप्रास अलंकार है। अपठित काव्यांश

3. दुनिया में आलोक कब फैला?
उत्तर:
दुनिया में आलोक तब फैला जब भारतीय मनीषियों ने विश्व को ज्ञान दिया।

4. उषा किसका स्वागत करती है और किस तरह?
उत्तर:
उषा भारत भूमि का हँसकर स्वागत करती है। वह सूरज की पहली किरणों का उपहार देकर हीरों का हार पहनाती है।

5. ‘बचाकर बीज रूप से सृष्टि’ पंक्ति में किस प्रसंग का उल्लेख है ? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
‘बचाकर बीज रूप से सृष्टि’ पंक्ति में उस प्रसंग का उल्लेख है जब सारी सृष्टि जलमय हो गई थी। धरती पर अत्यधिक सरदी पड़ने लगी थी तब आदि पुरुष मनु ने सृष्टि का बीज बचाने के लिए नाव पर इस शीत को झेला था जिससे सृष्टि को ऐसा स्वरूप मिला।

25. तुम भारत, हम भारतीय हैं, तू माता हम बेटे,
किसकी हिम्मत है कि तुम्हें दुष्टता-दृष्टि से देखे।
ओ माता, तुम एक अरब से अधिक भुजाओं वाली
सबकी रक्षा में तुम सक्षम, हो अदम्य बलशाली।
भाषा, देश, प्रदेश भिन्न है, फिर भी भाई-भाई,
भारत की साझी संस्कृति में पलते भारतवासी।

सुदिनों में हम एक साथ हँसते, गाते, सोते हैं,
दुर्दिन में भी साथ-साथ जागते, पौरुष धोते हैं।
तुम हो शस्य-श्यामला, खेतों में तुम लहराती हो,
प्रकृति प्राणमयी, साम-गानमयी, तुम न किसे भाती हो।
तुम न अगर होती तो धरती वसुधा क्यों कहलाती?
गंगा कहाँ बहा करती, गीता क्यों गाई जाती?

1. काव्यांश में भारत और भारतीयों में रिश्ता बताया गया है?
उत्तर:
काव्यांश में भारत और भारतीयों में माँ-बेटे का रिश्ता बताया गया है।

2. ‘तुम्हें दुष्टता-दृष्टि से देखे’ में निहित अलंकार का नाम बताइए।
उत्तर:
‘तुम्हें दुष्टता-दृष्टि से देखे’ में अनुप्रास अलंकार है।

3. माता का शस्य-श्यामला रूप कहाँ देखा जा सकता है और किस रूप में?
उत्तर:
माता का शस्य-श्यामला रूप खेतों में देखा जा सकता है जहाँ वह हरी-भरी फसलों के रूप में लहराती है।

4. काव्यांश के आधार पर भारतीय संस्कृति की विशेषताएँ लिखिए।
उत्तर:
भारतीय संस्कृति की विशेषता है- अनेकता में एकता। यहाँ विभिन्न जाति धर्म के लोग जिनकी भाषा, पहनावा, खान-पान, रहन-सहन अलग-अलग होने पर भी सब मिल-जुलकर रहते हैं। वे आपस में भाई-भाई हैं और सुख-दुख में एक दूसरे का साथ देते हैं।

5. काव्यांश में वर्णित माता की विशेषताएँ एवं महत्ता स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
काव्यांश में वर्णित भारत माता अदम्य बलशाली है जो सबकी रक्षा में सक्षम है। एक अरब से अधिक उसके पुत्र हैं। अगर भारतमाता न होती तो यह धरती वसुधा न कहलाती। तब गंगा कहाँ बहती और गीता का गायन क्यों किया जाता। इस तरह भारत माता की विशेष महत्ता है।

अब स्वयं करें

1. तुम कुछ न करोगे, तो भी विश्व चलेगा ही,
फिर क्यों गर्वीले बन लड़ते अधिकारों को?
सो गर्व और अधिकार हेतु लड़ना छोड़ो,
अधिकार नहीं, कर्तव्य-भाव का ध्यान करो!
है तेज़ वही, अपने सान्निध्य मात्र से जो
सहचर-परिचर के आँसू तुरत सुखाता है,
उस मन को हम किस भाँति वस्तुतः सु-मन कहें,
औरों को खिलता देख, न जो खिल जाता है?
काँटे दिखते हैं जब कि फूल से हटता मन,
अवगुण दिखते हैं जब कि गुणों से आँख हटे;
उस मन के भीतर दुख कहो क्यों आएगा;
जिस मन में हों आनंद और उल्लास डटे!
यह विश्व व्यवस्था अपनी गति से चलती है,
तुम चाहो तो इस गति का लाभ उठा देखो,
व्यक्तित्व तुम्हारा यदि शुभ गति का प्रेमी हो
तो उसमें विभु का प्रेरक हाथ लगा देखो!

प्रश्न

  1. काव्यांश में लोगों की किस प्रवृत्ति की ओर संकेत किया गया है?
  2. काव्यांश में निहित संदेश का उल्लेख कीजिए।
  3. कवि मनुष्य से किसका लाभ उठाने के लिए कह रहा है?
  4. ‘सच्चा तेज़’ और ‘सु-मन’ किन्हें कहा गया है, स्पष्ट कीजिए।
  5. व्यक्ति को काँटे और अवगुण क्यों दिखाई देते हैं और व्यक्ति के मन में दुख का प्रवेश कब नहीं हो सकता?

2. मैं चला, तुम्हें भी चलना है असिधारों पर,
सर काट हथेली पर लेकर बढ़ आओ तो।
इस युग को नूतन स्वर तुमको ही देना है,
तुम बना सकोगे भूतल का इतिहास नया,
मैं गिरे हुओं को, बढ़कर गले लगाऊँगा।
क्यों नीच-ऊँच, कुल, जाति, रंग का भेद-भाव?
मैं रूढ़िवाद का कल्मष महल ढहाऊँगा।

तुम बढ़ा सकोगे कदम ज्वलित अंगारों पर?
मैं काँटों पर बिंधते-बिंधते बढ़ जाऊँगा।
सागर की विस्तृत छाती पर हो ज्वार नया अपनी कूवत को आज जरा आजमाओ तो।
मैं कूद स्वयं पतवार हाथ में था[गा।
है अगर तुम्हें यह भूख ‘मुझे भी जीना है’
तो आओ मेरे साथ नींव में गड़ जाओ।
ऊपर से निर्मित होना है आनंद महल
मरते-मरते भी दुनिया में कुछ कर जाओ।

प्रश्न

  1. काव्यांश में असिधारों पर चलने के लिए किसे कहा जा रहा है?
  2. कवि अपनी शक्ति का परीक्षण करने के लिए क्यों कह रहा है?
  3. ‘जीने के लिए बलिदान देना होता है’ – यह भाव किस पंक्ति में निहित है?
  4. भूतल का नया इतिहास बनाने का क्या तात्पर्य है ? ऐसा होने पर कवि क्या करना चाहता है?
  5. जीने की भूख रखने वालों को कवि क्या सलाह देता है ? व्यक्ति अपना नाम किस तरह अमर कर सकता है?

3) बस फूलों का बाग नहीं, जीवन में लक्ष्य हमारा,
उससे आगे बहुत दूर है, बहुत दूर तक जाना।
थोड़ी मात्र सफलता से ही, जो संतोष किए हैं,
घर की चारदिवारी में मस्ती के साथ जिए हैं।
क्या मालूम उन्हें कितना परियों का लोक सुहाना,
उससे आगे बहुत दूर है, बहुत दूर तक जाना।
चलते-चलते नहीं पड़े, जिनके पैरों में छाले,
खुशियाँ क्या होती हैं, वे क्या जानेंगे मतवाले।
सुख काँटों के पथ से है, बचने का नहीं बहाना,
उससे आगे बहुत दूर है, बहुत दूर तक जाना।
एक बाग क्या, जब धरती पर बंजर मौज मनाएँ,
एक फूल क्या, जब पग-पग काँटे जाल बिछाएँ।
गली-गली में, डगर-डगर में है नंदन लहराना,
उससे आगे बहुत दूर है, बहुत दूर तक जाना।

प्रश्न

  1. ‘बहुत दूर तक जाना’ पंक्ति का आशय क्या है?
  2. असली खुशियों के बारे में कौन नहीं जानते हैं ?
  3. काव्यांश में निहित संदेश स्पष्ट कीजिए।
  4. परियों के सुहाने लोक के बारे में किन्हें पता नहीं लग पाता है और क्यों?
  5. कवि एक बाग और एक फूल से संतुष्ट क्यों नहीं है? वह क्या करना चाहता है ?

4. इस देश-धरा की व्यथा-कथा, निज टीस समझकर पहचानो।
संकट की दुर्दिन-वेला में, मानव की गरिमा को जानो॥
इस धरती पर तो अकर्मण्य को, जीने का अधिकार नहीं।
मानव कैसा, यदि मानवता से, हो स्वाभाविक प्यार नहीं॥

यह दुनिया का है अटल-चक्र, तुम मानो चाहे न मानो। ।
इस देश धरा की व्यथा-कथा, निज टीस समझकर पहचानो।
है हर्ष-विषाद निरंतर क्रम, या है सह जीवन का स्पंदन।
हैं कहीं गूंजते अट्टहास, तो कहीं मचलते हैं क्रंदन ॥
क्यों पीछे दौड़े हो सुख के, दुख को भी तो अपना मानो।
इस देश-धरा की व्यथा-कथा, निज टीस समझकर पहचानो।
अति दुर्गम ये राहें जग की, इनका है कोई पार नहीं।
संघर्ष सार है जीवन का कुछ विषय-भोग का द्वार नहीं।
धारो जीवन में हंस-वृत्ति, फिर नीर-क्षीर अंतर जानो।
इस देश-धरा की व्यथा-कथा निज टीस समझकर पहचानो॥

प्रश्न

  1. इस धरती पर जीने का अधिकार किन्हें नहीं है?
  2. सच्ची मानवता किसे कहा गया है?
  3. कवि लोगों से क्या आह्वान कर रहा है?
  4. कवि ने लोगों को जीवन की किस सच्चाई से अवगत कराया है? वह मनुष्य को क्या सीख दे रहा है?
  5. जीवन का सार किसे कहा गया है? जीवन में नीर-क्षीर का अंतर कैसे जाना जा सकता है?

 NCERT Solutions for Class 10 Hindi

The post CBSE Class 10 Hindi A Unseen Passages अपठित काव्यांश appeared first on Learn CBSE.

CBSE Class 12 Question Papers Last 10 Years

0
0

CBSE Class 12 Question Papers Last 10 Years

Download PDF of CBSE Board Question Paper for Class 12 Maths, Physics, Chemistry, Biology, English, Hindi, Geography, History, Political Science, Economics, Physical Education, Psychology and Sociology.

CBSE Class 12 Maths Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 12 Physics Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 12 Chemistry Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 12 English Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 12 History Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 12 Geography Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 12 Political Science Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 12 Economics Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 12 Physical Education Question Papers Last 10 Years

The post CBSE Class 12 Question Papers Last 10 Years appeared first on Learn CBSE.

CBSE Class 10 Question Papers Last 10 Years

0
0

CBSE Class 10 Question Papers Last 10 Years PDF Download

Download PDF of CBSE Class 10 Question Papers Last 10 Years for Maths, Science, Social Science, Hindi, English, Sanskrit and Foundation of Information Technology

CBSE Class 10 Maths Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 10 Science Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 10 Social Science Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 10 English Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 10 Hindi A Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 10 Hindi B Question Papers Last 10 Years

CBSE Class 10 Sanskrit Question Papers Last 10 Years

The post CBSE Class 10 Question Papers Last 10 Years appeared first on Learn CBSE.

Mobile Games That Have Made Over 1 Billion Dollar

0
0

Mobile games are light and convenient as a time filler in the busy life of the modern world. However, some mobile games have surpassed the entertainment tag and earned billions of dollar for developers. Which games have achieved such a feat? Let’s see.

Mobile Games That Have Made Over 1 Billion Dollar

The mobile game industry is one of the fastest-growing markets nowadays. We may as well be surprised by how much money mobile games have made. Some popular games even reached an astonishing 10-digit number – $1 billion in revenue. Let’s see which mobile games have made it to the list of the billion-dollar club.

  1. PUBG Mobile
  2. Fortnite
  3. Lineage M
  4. Lineage 2 Revolution
  5. Pokeman GO
  6. Clash Royale
  7. Fantasy Westward Journey
  8. Honor of Kings
  9. Fate/Grand Order
  10. Mobile Strike
  11. Dragon Ball Z: Dokkan Battle
  12. Summoners War
  13. Boom Beach
  14. Monster Strike
  15. Game of War: Fire Age
  16. Disney Tsum Tsum
  17. Candy Crush Saga
  18. Clash of Clans
  19. Hay Day
  20. Puzzle & Dragons
  21. EA Sports

PUBG Mobile

Developer: Tencent
Based: China
Released: March 2018
Genre: FPS/Battle Royale
Where it found success: China

Tencent’s PUBG Mobile game has earned more than $1 billion revenue over the past one year with a growth rate of 540%, according to the latest report by Sensor Tower Store Intelligence. “PUBG Mobile has grown its gross revenue from approximately $25 million in August 2018 to slightly more than $160 million last month, an increase of about 540%,” it said.

The game has also increased its revenue 165% year-over-year on iOS outside China. Interestingly, the PUBG Mobile competitor Fortnite’s revenue has fallen by 36% during the same time. “Last month, they both grossed close to $25 million on Apple’s platform. If China is factored in (Fortnite has yet to launch there), PUBG Mobile earned 3.7 times more than Epic Games’ title last month on iOS,” the report added.

In March, PUBG Mobile turned one year-old. The Tencent game, ever since it was introduced on the mobile platform in March 2018, has risen to become one of the most popular games in recent times, especially in the Asian subcontinent.
The PUBG Mobile game have touched 400 million installs globally. The game has added more than 45 million first-time players in August, this is the largest ever new player based up from the 21 million first-time players that were added in July.

Articles on PUBG Mobile

Fortnite

  • Fortnite is the most popular battle royale game world wide, and generates huge revenues even though it’s offered for free by developer, Epic Games.
  • Fortnite leverages the concept of “exclusivity” and merges it with an enjoyable (fun) user experience with a social component to reap immense rewards.
  • Fortnite’s future plans include venturing into the realm of esports, contemplating the incorporation of a social hub into the game itself, and emphasizing smartphones to unlock the immense, untapped potential of the Chinese market.

Developer: Epic Games
Based: Cary, USA
Released: March 15th 2018
Genre: Battle Royale
Where it found success: Worldwide

Fortnite, created by Tim Sweeney and released through EPIC Games Inc., is a free-to-play video game set in a post-apocalyptic, zombie-infested world. By any measure, it has been a huge success. The game’s format isn’t exactly out of left field, given that the industry is already ripe with these type of “shooter” games, but it did launch as an underdog with muted prospects. There are variations to the free-to-play business model, but everyone can play a fully functional game at no cost.

Fortnite, unlike its peers, was offered for free, which has proven to be the catalyst that has propelled its stunning, instantaneous, success. In the first 10 months, since its release in July 2017, Fortnite amassed an audience of 125 million players and netted $1.2 billion in revenue.

Lineage M

Developer: NCSoft
Based: Seongnam, South Korea
Released: June 21st 2017
Genre: MMORPG
Where it found success: South Korea

Lineage 2 Revolution

Developer: Netmarble
Based: Seoul, South Korea
Released: December 2016
Genre: MMORPG
Where it found success: South Korea

Pokemon GO

Developer: Niantic
Based: San Francisco, USA
Released: July 6th, 2016
Genre: Location-based / Augmented reality
Where it found success: Worldwide

Clash Royale

Developer: Supercell
Based: Helsinki, Finland
Released: March 2nd, 2016
Genre: MOBA / CCG
Where it found success: Worldwide

Fantasy Westward Journey

Developer: Netease
Based: Guangzhou, China
Released: 2015
Genre: MMORPG
Where it found success: China

Honor of Kings

Developer: Tencent
Based: Shenzhen, China
Released: November 26th, 2015
Genre: MOBA
Where it found success: China

Fate/Grand Order

Developer: Delightworks (published by Aniplex, a subsidiary of Sony Music Entertainment Japan)
Based: Tokyo, Japan (Delightworks)
Released: July 30th 2015 (Japan)
Genre: RPG
Where it found success: Japan

Mobile Strike

Developer: MZ
Based: Palo Alto, USA
Released: July 11th, 2015
Genre: 4X Strategy
Where it found success: Worldwide

Dragon Ball Z: Dokkan Battle

Developer: Akatsuki (published by Bandai Namco)
Based: Tokyo, Japan (Akatsuki)
Released: January 30th 2015
Genre: Puzzle RPG
Where it found success: Worldwide

Summoners War

Developer: Com2Us
Based: Seoul, South Korea
Released: June 12th 2014
Genre: Strategy / RPG
Where it found success: Worldwide

Boom Beach

Developer: Supercell
Based: Helsinki, Finland
Released: March 26th 2014
Genre: Strategy
Where it found success: Worldwide

Monster Strike

Developer: Mixi
Based: Tokyo, Japan
Released: August 8th, 2013
Genre: Physics strategy / Puzzle / RPG
Where it found success: Japan

Game of War: Fire Age

Developer: MZ
Based: Palo Alto, USA
Released: July 25th, 2013
Genre: 4X Strategy
Where it found success: Worldwide

Disney Tsum Tsum

Developer: Line Corporation
Based: Tokyo, Japan
Released: 2013
Genre: Puzzle
Where it found success: Japan

Candy Crush Saga

Developer: King
Based: London, UK
Released: November 14th, 2012 (April 12th, 2012 on browser)
Genre: Match-three
Where it found success: Worldwide

Clash of Clans

Developer: Supercell
Based: Helsinki, Finland
Game released: August 2nd, 2012
Genre: Strategy
Where it found success: Worldwide

Hay Day

Developer: Supercell
Based: Helsinki, Finland
Released: June 21st 2012
Genre: Simulation
Where it found success: Worldwide

Puzzle & Dragons

Developer: GungHo
Based: Tokyo, Japan
Released: February 20th, 2012
Genre: Match-three / RPG
Where it found success: Japan

EA Sports

Developer: EA
Based: USA / Canada
Genre: Sports
Where it found success: USA / worldwide

The post Mobile Games That Have Made Over 1 Billion Dollar appeared first on Learn CBSE.

NCERT Solutions for Class 6 Science Chapter 2 Components of Food

0
0

NCERT Solutions for Class 6 Science Chapter 2 Components of Food

The topics and Sub Topics in Class 6 Science Chapter 2 Components of Food:

Section NameTopic Name
2Components of Food
2.1What do Different Food Items Contain?
2.2What do Various Nutrients do For Our Body?
2.3Balanced Diet
2.4Deficiency Diseases

Class 6 Science Chapter 2 Textbook Questions Solved

1. Name the major nutrients in our food.
Ans: The major nutrients in our food are carbohydrates, proteins, fats, vitamins and minerals.
The table below shows the nutrients present in some food items:
ncert-solutions-for-class-6th-science-chapter-2-components-of-food-1

2. Name the following: 
(a) The nutrients which mainly give energy to our body.
(b) The nutrients that are needed for the growth and maintenance of our body.
(c) A vitamin required for maintaining good eyesight.
(d) A mineral that is required for keeping our bones healthy.
Ans:
(a) Carbohydrates
(b) Proteins
(c) Vitamin A
(d) Calcium

3. Name two foods each rich in:
(a) Fats
(b) Starch
(c) Dietary fibre
(d) Protein

Ans:
(a) Ghee, butter,
(b) Raw potato, rice,
(c) Spinach, cabbage, carrot, ladies finger, (any two)
(d) Milk, egg, fish, meat, pulses (any two).

4. Tick (/) the statements that are correct, cross (X) those which dire incorrect.
(a) By eating rice alone, we can fulfill nutritional requirement of our body,
(b) Deficiency diseases can be prevented by eating a balanced diet.
(c) Balanced diet for the body should contain a variety of food items.
(d) Meat alone is sufficient to provide all nutrients to the body.
ncert-solutions-for-class-6th-science-chapter-2-components-of-food--4

5. Fill in the blanks:
(a) ________ is caused by deficiency of Vitamin D. ,
(b) Deficiency of_________ causes a disease known as beri-beri.
(c) Deficiency of Vitamin C causes a disease known as________________ .
(d) Night blindness is caused due to deficiency of_______________ in our food.
Ans:
(a) Rickets
(b) Vitamin B1
(c) Scurvy
(d) Vitamin A

EXTRA QUESTIONS for Class 6 Science Chapter 2

Class 6 Science Chapter 2 VERY SHORT  ANSWER TYPE QUESTIONS

1. Do all meals consist of the same food items?  
Ans: No, all meals do not have the same food items.

2. Why should a meal have different food items?
Ans: A meal should have different food items because our body needs different kinds of nutrients for proper functioning.

3. Do all foods contain all the required nutrients?
Ans: No, all foods do not contain sill the nutrients required by our body.

4. Name two main types of carbohydrates found in our food.
Ans:
(i) Starch                                                  (ii) Sugar

5. What are carbohydrates?
Ans: The compounds of carbon, hydrogen and oxygen which provide energy for our body are called carbohydrates.

6. What happens when two or more drops of iodine solution fall on starch substance?
Ans: The colour of the substance becomes blue-black.

7. If any food item gives blue-black colour with iodine then which nutrient is present in the food?
Ans: Starch.

8. Name two substances which provide carbohydrates.
Ans:
(i) Potato
(ii) Rice/wheat/maize/sugar

9. Name the food nutrient indicated by an oily patch on paper.
Ans:An oily patch on paper shows the presence of fat.

10. Name two energy-providing nutrients.
Ans:
(i) Carbohydrates
(ii) Fats

11. Name a nutrient which helps in repairing the damaged body cells.
Ans:
Proteins.

12. Name two nutrients which protect the body from diseases.
Ans:
(i) Vitamins
(ii) Minerals

13. Name two plant food items which provide proteins.
Ans:
(i) Dal (pulses)
(ii) Soyabean

14. Name two sources of proteins provided by animals.
Ans:
(i) Milk
(ii) Eggs

15. Which type of food is called body-building food?
Ans: The food containing proteins is called body-building food.

16. Name two food items which provide fats.
Ans:
(i) Oils
(ii) Ghee

 17. Name various types of vitamins.
Ans: Various types of vitamins are:

  1. Vitamin A,
  2. Vitamin B-complex,
  3. Vitamin C,
  4. Vitamin D,
  5. Vitamin E,
  6. Vitamin K.

 18. Name a vitamin which represents a group of vitamins.
Ans: Vitamin B-complex.

 19. Name two sources of Vitamin A.
Ans:
(i) Fish-oil
(ii) Milk

 20. Write two sources of Vitamin B.
Ans:
(i) Liver
(ii) Beans

 21. Write two sources of Vitamin C.
Ans:
(i) Orange/lime
(ii) Amla

 22. Write two sources of Vitamin D.
Ans:
(i) Fish
(ii) Butter

 23. What is roughage?  
Ans. The food containing plant fibres which sure also known as dietary fibres is called roughage.

24. What is the main Function of roughage?
Ans: The main function of roughage is to help our body get rid of undigested food.

25. Name some food items which provide roughage.
Ans: Whole grains, fresh fruits and vegetables are the main sources of roughage.

Class 6 Science Chapter 2 SHORT ANSWER TYPE QUESTIONS

1. What are nutrients? Name major nutrients.
Ans: The components of food which are needed by our body for growth and development are called nutrients. The major nutrients are:
(i) Carbohydrates
(ii) Fats
(iii) Proteins
(iv) Vitamins
(v) Minerals

2. What are the functions of carbohydrates?
Ans: They complete the energy requirements of the body so they are called energy providing food.

3. Write test for detecting the presence of starch.
Ans: Take a piece of the food item. Put 2-3 drops of dilute iodine solution on it. If the colour of the food item becomes blue-black, then it indicates the presence of starch in the food item.
(i) Food + Iodine — Blue-black colour (starch present)
(ii)  Food + Iodine — No blue-black colour (no starch present)

4. What are the functions of proteins?
Ans: Proteins are the most important nutrient. They are called body-building food. They help in the growth and repair of damaged cells and tissues of the body. They also help our body to fight against infections. Proteins make our nails, hair and muscles.

5. How can you test presence of proteins in a given food item?
Ans:Take a small quantity of the food item. If the sample is solid, grind it. Put some part of this in a clean test tube, add 10 drops of water to it and shake the test tube. Now, with the help of a dropper, add two drops of solution of copper sulphate and 10 drops of solution of caustic soda to the test tube. Shake well and place the test tube in test tube stand for a few minutes.
Observe colour of the contents of test tube. If colour of the contents turns violet, the food item contains protein.
Note: Copper sulphate and caustic soda solutions are harmful. Handle them with care.
Food + water + copper sulphate + caustic soda → violet colour → protein is present.

6. What are fats? Name some fat-containing substances.
Ans: The energy rich sources of food are called fats. They provide energy to the body. All types of nuts, mustard seeds, milk and butter are the major sources of fat. Like carbohydrates, fats also contain carbon, hydrogen and oxygen but fats contain less oxygen than carbohydrates.

7. Write test for detecting, presence of fat.
Ans: Take small quantity of the food item. Rub it on a piece of white paper. Observe carefully, you will find that the piece of white paper shows an oily patch on it which indicates that the food item contains fat.

8. What are vitamins? Write various kinds of vitamins.
Ans: They are protective compounds with no energy value. They help in proper body­ functioning and are required by the body in very small quantities. Various kinds of vitamins are—Vitamin A, Vitamin B-complex, Vitamin C, Vitamin D, Vitamin E and Vitamin K.

9. People who eat sea-food do not suffer from Goitre. Explain.
Ans: It is so because sea-food is a rich source of Iodine and Goitre is a deficiency disease caused due to lack of Iodine.

10. Excess intake of fats is harmful for the body because it causes obesity. Would it be harmful for the body to take too much of proteins or vitamins in the diet?
Ans. Yes, excess intake of proteins and vitamins in the diet is harmful and may lead to other diseases.

11. Name the vitamin that our body prepares in the presence of sunlight.
Ans: Vitamin D.

12. Name a vitamin that is not present in milk.
Ans: Vitamin C.

13. A patient had stunted growth, swelling on face, discolouration of hair and skin disease. Doctor advised him to eat a lot of pulses, grams, egg white, milk etc. What is wrong with the patient? Explain.
Ans:  The intake of protein is not enough in his diet and all these symptoms are caused due to deficiency of proteins.

14. A small child became very thin and lean and later he became so weak that he could not move. Which nutrients should he eat so as to improve his health?
Ans: Both carbohydrates and proteins.

15. What are the functions of minerals?
Ans: Minerals are protective part of foods occurring naturally and are needed by our body in small amount. Minerals are essential for proper growth of the body and to maintain good health. They do not provide energy. Milk, salt, eggs and green leafy vegetables are the main sources of minerals.

16. Write the functions of water in our body.
Ans: Water helps our body to absorb nutrients from the food. It also helps in removing the waste from the body in the form of urine and sweat. We get water from various types of liquids, fruits and vegetables.

17. What is obesity?
Ans: When a person eats too much fat-containing foods, then the fat gets deposited in his body and he may end up suffering from a condition called obesity.

18. What are deficiency diseases?
Ans: When a person eats such a food continuously for a long time which may not contain a particular nutrient, then this condition is called deficiency of that nutrient. Deficiency of one or more nutrients can cause diseases or disorders in our body. Such type of diseases are known as deficiency diseases.

Class 6 Science Chapter 2 LONG ANSWER TYPE QUESTIONS

1. List various types of nutrients and write the functions of each.
Ans. The various types of nutrients are:
(i) Carbohydrates: They are mainly energy-providing nutrients.
(ii) Fats: They provide energy for the body. They give much more energy than carbohydrates if consumed in same amount.
(iii) Proteins: They are called body-building foods. Proteins help in the formation and repairing of body parts. Skin, hair, muscles, enzymes are made up of proteins.
(iv) Vitamins: Vitamins help in protecting our body against disease. They also protect eyes, bones, teeth and gums.
(v) Minerals: Minerals are essential for proper growth of body and to maintain good health.

2. What is a balanced diet? Write the components of balanced diet.
Ans: A diet which provides the right proportion of all the nutrients that our body needs along with roughage and water is called balanced diet. The various components of balanced diet are carbohydrates, fats, proteins, vitamins, minerals, roughage and water.

 3. Prepare a chart to show various vitamins and minerals and the disorders caused by their deficiency.

NCERT Solutions

The post NCERT Solutions for Class 6 Science Chapter 2 Components of Food appeared first on Learn CBSE.

NCERT Solutions for Class 6 Science Chapter 4 Sorting Materials Into Groups

0
0

NCERT Solutions for Class 6 Science Chapter 4 Sorting Materials Into Groups

Topics and Sub Topics in Class 6 Science Chapter 4 Sorting Materials Into Groups:

Section NameTopic Name
4Sorting materials into groups
4.1Objects around us
4.2Properties of materials

Q. 1. Name five objects which can be made from wood.
Ans.
(i) Table
(ii) Chair
(iii) Doors
(iv) Boat
(v) Bed

Q.2. Select those objects from the following which shine:
Glass bowl, plastic toy, steel spoon, cotton shirt
Ans. Glass bowl and steel spoon are shining objects.

Q.3. Match the objects given below with the materials from which they could be made. Remember, an object could be made from more than one material and a given material could be used for making many objects.
ncert-solutions-for-class-6th-science-chapter-4-sorting-materials-into-groups-3

Q. 4. State whether the statements given below are ‘true’ or ‘false’.
(i) Stone is transparent, while glass is opaque.
(ii) A notebook has lustre while eraser does not
(iii) Chalk dissolves in water.
(iv) A piece of wood floats on water.
(v) Sugar does not dissolve in water.
(vi) Oil mixes with water. 
(vii) Sand settles down in water.
(viii) Vinegar dissolves in water.
Ans.
(i) False
(ii) False
(iii) False
(iv) True
(v) False
(vi) False
(vii) True
(viii) True

Q. 5. Given below are the names of some objects and materials:
 Water, basket ball, orange, sugar, globe, apple and earthen pitcher Group them as:
(a) Round shaped and other shapes
(b) Eatables and non-eatables
Ans.
(a) (i) Round shaped: Basket ball, apple, orange, globe, earthen pitcher.
(ii) Other shapes: Water, sugar.
(b) (i) Eatables: Water, orange, sugar and apple.
(ii) Non-eatables: Basket ball, globe and earthen pitcher.

Q. 6. List all the items known to you that float on water. Check and see if they will float on an oil or kerosene.
Ans. (A) List of some items that float on water:

  1. Paper
  2. Wood
  3. Thin plastic sheets
  4. Wax
  5. Ice
  6. Thermocol
  7. Oil

(B) List of items that float on an oil:

  1. Paper
  2. Plastic sheet
  3. Wax
  4. Thermocol
  5. Wood

(C) List of items that float on kerosene:

  1. Paper
  2. Thermocol
  3. Thin plastic sheet

Q. 7. Find the odd one out from the following:
(a) Chair, Bed, Table, Baby, Cupboard
(b) Rose, Jasmine, Boat, Marigold, Lotus
(c) Aluminium, Iron, Copper, Silver, Sand
(d) Sugar, Salt, Sand, Copper sulphate
Ans.
(a) Baby (all others are non-living)
(b) Boat (all others are flowers)
(c) Sand (all others are metals)
(d) Sand (all others are soluble in water)

EXTRA QUESTIONS for Class 6 Science Chapter 4 

Class 6 Science Chapter 4 VERY SHORT ANSWER TYPE QUESTIONS

1. Why do we need to group materials? Give one reason.
Ans: We often group materials for our convenience. It helps to describe their properties.

2. Suggest two bases on which we can group objects.
Ans:
(i) Material used in making the object, e.g. wood or metal/plastic.
(ii) Material of the object is soft or hard, or substance is soluble or insoluble in water.

3. Is a substance which can be compressed soft or hard?
Ans: Soft.

4. Select a lustrous material out of the following substances:
Ans: Aluminium.

5. Which material is generally used for making pens?Wood, aluminium, plastic, cotton 
Ans:Plastic or metal.

6. Is oil soluble in water?
Ans: Oil does not dissolve in water so it is insoluble in water but floats on the surface of water.

7. Name two objects which are made from opaque materials.
Ans: Wooden doors, blackboard/steel plate.

8. What is common between salt and sand?
Ans: Both have mass and are in solid state.

9. List three liquids which are transparent.
Ans. Water, alcohol and Acetone/Benzene.

10. Write two substances which are made from leather.
Ans: Belt and shoes.

11. Name some substances which are made from plastics.
Ans: Toys, plates, cups, buckets, baskets.

12. Which is more hard, sponge or iron?
Ans: Iron is harder than sponge.

13. Write two gases which are soluble in water.
Ans: Oxygen, Carbon dioxide.

14. Name two gases which are insoluble in water.
Ans: Hydrogen and Nitrogen.

Class 6 Science Chapter 4 SHORT ANSWER TYPE QUESTIONS

1. Write any four properties of materials.
Ans:
(a) Appearance
(b) Hardness
(c) Solubility
(d) Float or sink in water
(e) Transparency

2. Why is a tumbler not made with a piece of cloth?
Ans: We use tumblers made of glass, plastic and metal to keep a liquid. These substances can hold a liquid.
A tumbler made of cloth cannot hold a liquid because:
(i) Cloth piece is not hard enough to hold liquids and
(ii) Cloth piece has very minute pores through which the’liquid oozes out.

3. What are the similarities between iron, copper and aluminium?
Ans:
(a) They all have lustre,
(b) They are all metals,
(c) They are hard.

4. Mention some materials which are made up of paper.
Ans: Books, notebooks, newspapers, toys, calendars, etc.

5. Why is water important for our body?
Ans: Water can dissolve a large number of substances, so it is needed by the body. It is also major part of our body cells.

6. What is the basis for sorting materials?
Ans: Materials are grouped on the basis of similarities or dissimilarities in their properties.

7. What is the reason for grouping materials?
Ans: Materials are grouped for our convenience to study their properties and also observe any patterns in these properties.
ncert-solutions-for-class-6th-science-chapter-4-sorting-materials-into-groups-s 8
9. Make a table of different types of objects that are made from the same material.
ncert-solutions-for-class-6th-science-chapter-4-sorting-materials-into-groups-s 9
10. Make a table and find out whether the following materials mix with water: Vinegar, Lemon juice, Mustard oil, Coconut oil, Kerosene.
ncert-solutions-for-class-6th-science-chapter-4-sorting-materials-into-groups-s 10
 11. Metals have lustre (shine). Give reason why some metal articles become dull and loose their shine.
Ans: Metals when exposed to air react with moisture and gases present in it, thereby forming a dull layer of some other compound on it.

12. Kerosene, coconut oil, mustard oil do not dissolve in water, even on shaking. They separate after sometime forming two different layer. Explain why.
Ans: The molecules of water do not intermingle (mix) with the molecules of oil. The space between the molecules of water is not taken by oil, so they are immiscible in water.

13. Name a non-metal that has lustre.
Ans: Iodine.

14. Metals generally occur in solid state and are hard. Name a metal that exists in liquid state and a metal that is soft and can be cut with knife.
Ans: Mercury is a metal that exists in liquid state. Sodium and Potassium are soft metals and can be cut with knife.

15. Name the naturally occuring hardest substance known.
Ans: Diamond, it is made up of carbon (non-metal).

16. Why is water called a universal solvent?
Ans: Water dissolves a large number of substances in it. So it is called universal solvent.

Class 6 Science Chapter 4 LONG ANSWER TYPE QUESTIONS

1. ‘Grouping of objects helps the shopkeeper.’ Justify the statement.
Ans: Proper grouping of objects helps shopkeeper in the following ways:
(i) He can locate the required object easily and quickly.
(ii) He can easily come to know what stocks are going to finish and he should purchase them for his customers.

2. Describe an experiment to prove that water is transparent.
Ans: Take a beaker half-filled with clean water. Put a coin in beaker of water.
Place the beaker undisturbed for a few minutes where enough light is present. Now, observe the coin immersed in water from the top of the beaker. Are you able to see the coin? You can clearly see the coin immersed in water. This proves that water is a transparent liquid.
ncert-solutions-for-class-6th-science-chapter-4-sorting-materials-into-groups-L 2
3. Write an experiment to show that our palm is translucent.
Ans: Cover the glass of a torch with your palm at a dark place. Switch on the torch and observe from the other side of palm. We see that the light of torch passes through palm but not clearly. This experiment shows that our palm becomes translucent when a strong beam of light passes through it.
ncert-solutions-for-class-6th-science-chapter-4-sorting-materials-into-groups-L 3
4. How can you show that some solids like sugar, salt are soluble in water whereas solids like chalk powder and sand are not soluble in water?
Ans: Collect samples of sugar, salt, chalk powder and sand. Take four beakers. Fill each one of them about two-third with water. Add a teaspoonful of sugar to the first beaker, salt to the second, chalk powder to the third and sand to the fourth. Stir the contents of each beaker with a spoon/stirrer.
ncert-solutions-for-class-6th-science-chapter-4-sorting-materials-into-groups-L 4.1
Wait for a few minutes and observe what happens to the substances added to the’ water.
Note down your observations in the following table.
ncert-solutions-for-class-6th-science-chapter-4-sorting-materials-into-groups-L 4.2
Inference:
(i) Sugar and salt are soluble in water.
(ii) Chalk powder and sand are insoluble in water.

NCERT Solutions

The post NCERT Solutions for Class 6 Science Chapter 4 Sorting Materials Into Groups appeared first on Learn CBSE.

NCERT Solutions Class 7 Science Chapter 12 Reproduction in Plants

0
0

NCERT Solutions Class 7 Science Chapter 12 Reproduction in Plants

Topics and Sub Topics in Class 7 Science Chapter 12 Reproduction in Plants:

Section NameTopic Name
12Reproduction in Plants
12.1Modes of reproduction
12.2Sexual reproduction
12.3Fruits and Seed Formation
12.4Seed dispersal

Q.1.Fill in the blanks:
(a) Production of new individuals from the vegetative part of parent is called ___________. 
(b) A flower may have either male or female reproductive parts. Such a flower is called _______.
(c) The transfer of pollen grains from the anther to the stigma of the same or of
another flower of the same kind is known as __________.
(d) The fusion of male and female gametes is termed as ____________ .
(e) Seed dispersal takes place by means of ________ and __________.
Ans. (a) vegetative reproduction (b) unisexual flower (c) pollination (d) fertilization (e) wind, water

Q.2. Describe the different methods of asexual reproduction. Give examples.
Ans. Different methods of asexual reproduction are:
(a) Binary Fission: This process takes place in unicellular organisms. Parent cell elongates and gets divided into two identical daughter cells. Each daughter cell grows into an independent adult.
(b) Endospore Formation: In this method the spore wall is formed around a bacterial cell to form an endospore. This endospore germinates to form an active bacterium under favourable conditions.
(c) Fragmentation: In this process, body of the organism breaks up into two parts. Then each part grows into a new filament thus forming two organisms from a single one.
(d) Spore Formation: The spores are tiny spherical unicellular structures protected by thick wall. The spores are stored in a hard outer covering and this is called sporangium. Under favourable conditions the hard cover breaks and spores spread for germination.
(e) Budding: In yeast, new organisms are produced by the bud formation from the parent organism. After growing to full size, the bud gets detached and forms a new independent individual.
(f) Vegetative propagation: When vegetative parts of a plant like stems, leaves and root etc., give rise to new ones, it is.called vegetative propagation.

Q.3. Explain what you understand by sexual reproduction.
Ans.Sexual reproduction means involvement of two parents in the process of reproduction. It is found mainly in higher plants where male gamete and female gamete fuse to form a zygote. These zygotes develop into individuals which are not identical. Offsprings inherit the characteristics of both the parents. In sexual reproduction both parents survive after the process of reproduction.

Q.4. State the main difference between asexual and sexual reproduction.
Ans.
ncert-solutions-class-7-science-chapter-12-reproduction-in-plants-01

Q.5.Sketch the reproductive parts of a flower.
Ans.
ncert-solutions-class-7-science-chapter-12-reproduction-in-plants-02

Q.6.Explain the difference between self-pollination and cross-pollination
Ans.
ncert-solutions-class-7-science-chapter-12-reproduction-in-plants-03

Q.7.How does the process of fertilization take place in flowers?
Ans.When the pollen grain reaches the stigma of a same species flower, it starts
growing out into the pollen tube of the stigma. This tube continues to grow inside the style till it reaches the ovule. Male cells are released into the ovule for the fertilization with the female egg cell and thus the zygote is formed. After this process of fertilization, the ovary develops into fruit and ovule into seeds.

Q.8.Describe the various ways by which seeds are dispersed.
Ans. Following are the ways in which the seeds are dispersed:
(i) Some light seeds like that of madar, which are hairy, dry and small are carried away by the wind to different places.
(ii) Spiny seeds and fruits like that of xanthium and urena, stick to the clothes of passers by and animals. These seeds are carried away by these agents to different places.
(iii) In some plants having heavy seeds like that of coconut, water acts as the dispersing agents.
(iv) Some seeds are dispersed with the fruit burst like in case of balsam and castor.

Q.9.Match items in Column I with those in Column II
ncert-solutions-class-7-science-chapter-12-reproduction-in-plants-04

Ans
ncert-solutions-class-7-science-chapter-12-reproduction-in-plants-05

Q.10. Tick (%/) the correct answer:
(a) The reproductive part of a plant is the
(i) leaf (ii) stem (iii) root (iv) flower
(b) The process of fusion of the male and the female gametes is called
(i) fertilisation (ii) pollination (iii) reproduction (iv) seed formation
c) Mature ovary forms the
(i) seed (ii) stamen (iii) pistil (iv) fruit
(d) A spore producing plant is
(i) rose (ii) bread mould (iii) potato (iv) ginger
(e) Bryophyllum can be reproduced by its
(i) stem (ii) leaves (iii) roots (iv) flower

Ans.(a) (iv) flower (b) (i) fertilisation (c) (iv) fruit (d) (ii) bread mould (e) (ii) leaves

NCERT SolutionsMathsScienceSocialEnglishSanskritHindiRD Sharma

The post NCERT Solutions Class 7 Science Chapter 12 Reproduction in Plants appeared first on Learn CBSE.

NCERT Solutions Class 7 Science Chapter 10 Respiration in Animals and Plants

0
0

NCERT Solutions Class 7 Science Chapter 10 Respiration in Animals and Plants

Topics and Sub Topics in Chapter 10 Respiration in Animals and Plants:

Section NameTopic Name
10Respiration in Organisms
10.1Why do we respire?
10.2Breathing
10.3How do we Breathe?
10.4What do we breathe out?
10.5Breathing in Other Animals
10.6Breathing under water
10.7Do plants also respire?

Q1. Why does an athlete breathe faster and deeper than usual after finishing the race?
Answer:
During the run, the demand of energy is high but the supply of oxygen to produce energy is limited. Therefore, anaerobic respiration takes places in the muscle cells to fulfill the demand of energy. After finishing the race, an athlete breathe faster and deeper than usual so that more oxygen is supplied to the cells.

Q2. List the similarities and differences between aerobic and anaerobic respiration.
Answer:
Similarity:
(i) In both aerobic and anaerobic respiration, food is broken down to release energy.
(ii) Both takes place inside cells.
(iii) Both produces byproducts.

Differences:

Aerobic RespirationAnaerobic Respiration
(i) It takes place in the presence of oxygen.(i) It takes place in the absence of oxygen.
(ii) Energy is released in higher amount.(ii) Energy is released in lesser amount.
(iii) Carbon dioxide and water are produced as byproducts.(iii) Carbon dioxide and water are produced as byproducts.
(iv) It is a slow process.(iv) It is a fast process.
(v) Examples: Animals and plants cells.(iv) Examples: Human cells, yeast, Bacteria etc.

Q3. Why do we often sneeze when we inhale a lot of dust-laden air?
Answer:
We often sneeze when we inhale a lot of dust-laden air to expel out these foreign particles. These particles get past the hair in the nasal cavity and irritate the lining of the cavity which results in sneezing.

Q4. Take three test-tubes. Fill each of them with water. Label them A, B and C. Keep a snail in test-tube A, a water plant in test-tube B and in C, keep snail and plant both. Which test-tube would have the highest concentration of CO2 ?
Answer:
Test-tube A will have the highest concentration of CO2 because snail will take in oxygen and gives out CO2.
In test-tubes B and C, the CO2 will be utilized by the water plant for synthesizing food and hence there will be less concentration of CO2 in these.

Q5. Tick the correct answer:
(a) In cockroaches, air enters the body through
(i) lungs
(ii) gills
(iii) spiracles
(iv) skin
Answer: (iii) spiracles
(b) During heavy exercise, we get cramps in the legs due to the accumulation of
(i) carbon dioxide
(ii) lactic acid
(iii) alcohol
(iv) water
Answer: (ii) lactic acid
(c) Normal range of breathing rate per minute in an average adult person at rest is:
(i) 9 – 12
(ii) 15 – 18
(iii) 21 – 24
(iv) 30 – 33
Answer: (ii) 15 – 18
(d) During exhalation, the ribs
(i) move outwards
(ii) move downwards
(iii) move upwards
(iv) do not move at all
Answer: (ii) move downwards

Q6. Match the items in Column I with those in Column II:

Column IColumn II
(a) Yeast(i) Earthworm
(b) Diaphragm(ii) Gills
(c) Skin(iii) Alcohol
(d) Leaves(iv) Chest cavity
(e) Fish(v) Stomata
(f) Frog(vi) Lungs and skin
(vii) Tracheae

Answer:

Column IColumn II
(a) Yeast(iii) Alcohol
(b) Diaphragm(iv) Chest cavity
(c) Skin(i) Earthworm
(d) Leaves(v) Stomata
(e) Fish(ii) Gills
(f) Frog(vi) Lungs and skin

Q7. Mark T if the statement is true and F if it is false:
(i) During heavy exercise the breathing rate of a person slows down. (T/ F)
(ii) Plants carry out photosynthesis only during the day and respiration only at night. (T/ F)
(iii) Frogs breathe through their skins as well as their lungs. (T/ F)
(iv) The fishes have lungs for respiration. (T/ F)
(v) The size of the chest cavity increases during inhalation. (T/ F)
Answer:
(i) F
(ii) F
(iii) T
(iv) F
(v) T

Q8. Given below is a square of letters in which are hidden different words related to respiration in organisms. These words may be present in any direction – upwards, downwards, or along the diagonals. Find the words for your respiratory system. Clues about those words are given below the square.
ncert solutions for class 7 science chapter 10 respiration in organisms
(i) The air tubes of insects
(ii) Skeletal structures surrounding chest cavity
(iii) Muscular floor of chest cavity
(iv) Tiny pores on the surface of leaf
(v) Small openings on the sides of the body of an insect
(vi) The respiratory organs of human beings
(vii) The openings through which we inhale
(viii) An anaerobic organism
(ix) An organism with tracheal system
Answer:
respiration in organisms class 7
(i) The air tubes of insects → Trachea
(ii) Skeletal structures surrounding chest cavity → Ribs
(iii) Muscular floor of chest cavity → Diaphragm
(iv) Tiny pores on the surface of leaf → Stomata
(v) Small openings on the sides of the body of an insect → Spiracles
(vi) The respiratory organs of human beings → Lungs
(vii) The openings through which we inhale → Nostrils
(viii) An anaerobic organism → Yeast
(ix) An organism with tracheal system → Ant

Q9. The mountaineers carry oxygen with them because:
(a) At an altitude of more than 5 km there is no air.
(b) The amount of air available to a person is less than that available on the ground.
(c) The temperature of air is higher than that on the ground.
(d) The pressure of air is higher than that on the ground.
Answer:
The mountaineers carry oxygen with them because (b) The amount of air available to a person is less than that available on the ground.

NCERT SolutionsMathsScienceSocialEnglishSanskritHindiRD Sharma

The post NCERT Solutions Class 7 Science Chapter 10 Respiration in Animals and Plants appeared first on Learn CBSE.